नाभि पर देसी घी लगाने के फायदे ( nabhi par ghee lagane ke fayde )

0
24
nabhi-par-desi-ghee-lagane-ke-fayde

नाभि पर देसी घी लगाने के फायदे ( nabhi par ghee lagane ke fayde)

मनुष्य की नाभि में लगभग 72 हज़ार रक्त नलिकाएं होती है. जो शरीर के विभिन्न भागों की रक्त धमनियों से जुड़ी होती हैं. इस कारण जब हम देसी घी या किसी भी प्रकार के तेल से नाभि की मालिश करते हैं, तो ये धमनियां सक्रीय हो जाती हैं. नाभि को लोग भिन्न-भिन्न नामों से जानते हैं जैसे- सुंडी, ढोरी, belly button और अंग्रेजी में navel कहा जाता है.

जिससे हमारे शरीर में रक्त का संचार शरीर के अंगों में सुचारू रूप से होता है. परिणामस्वरुप बाल, स्किन में चमक आने के साथ हीं अन्य अंगों में भी लाभ प्राप्त होता है. आइये जाने देसी घी की कुछ बूँद नाभि पर रोज़ लगाने से प्राप्त होने वाले लाभ.

nabhi-par-desi-ghee-lagane-ke-fayde

नाभि पर देसी घी लगाने के फायदे ( nabhi par ghee lagane ke fayde)

कब्ज की समस्या दूर होना : नाभि पर देसी घी की पाँच बूँद डालकर हलके हाथों से नाभि के गोलाई में डेढ़ इंच में फैलाकर मालिश करने से पाचन तंत्र मजबूत होता है, जिससे कब्ज की समस्या नहीं होती है.

चेहरे की चमक बढ़ती है : रात को बिस्तर में लेटने के पूर्व नियमित रूप से नाभि में दो बूँद देसी घी डालकर गोलाई में मालिश करने से स्किन मुलायम रहती है. जिससे त्वचा का रूखापन दूर होता है एवं चेहरे की स्किन ग्लो करने लगती है.

बालों के झड़ने की समस्या दूर होती है : यदि आप लंबे समय से बालों के झड़ने की समस्या से परेशान हैं, तो नियमित रूप से रात को सोने से पहले देसी घी की पाँच से सात बूँद से नाभि की मालिश करिए. इससे स्कैल्प का रूखापन दूर होगा. बालों की जड़े मजबूत होंगी. बाल घने और लंबे होने के साथ ही चमकने लगेंगे.

घुटने के दर्द से राहत : नाभि में देसी घी की तीन से सात बूँद डालकर डेढ़ इंच गोलाई में मालिश करने से घुटने एवं जोड़ों के दर्द में राहत मिलती है.

आँखों में सूखेपन की समस्या से राहत : देसी घी की पाँच बूँद नाभि में डालकर गोलाई में रोजाना से मालिश करने से आँखों की रौशनी बढ़ती हैं एवं नेत्र संबंधि रोगों से छुटकारा मिलता है.

मुहाँसे से छुटकारा : किशोर अवस्था के दौरान चेहरे पर मुहाँसे एवं दाग-धब्बे की परेशानी होना आम बात है. इस परेशानी से छुटकारा पाने के लिए रोजाना रात्रि को सोने से पहले देसी घी की पाँच बूँद नाभि में डालकर चारो ओर मालिश करने से मुहाँसे नहीं होते हैं. चेहरे के दाग-धब्बे भी साफ़ हो जाते हैं. घी के स्थान पर सरसों के तेल का इस्तेमाल किया जा सकता है.

होठों को नर्म बनाने के लिए : गर्मियों या सर्दियों के मौसम में शुष्क हवाओं के कारण होंठ फटने या सूखने लगतें हैं. इससे बचाव के लिए नियमित रूप से सोने से पूर्व तीन से पाँच बूँद देसी घी नाभि में डालकर सर्कुलर मोशन में मालिश करने से होठ नर्म मुलायम बनी रहती है.

निखरी त्वचा पाने के लिए : नियमित रूप से देसी घी की कुछ बूँदों से नाभि पर हल्के हाथ से मालिश करने से रुखी त्वचा में चमक आने के साथ हीं रंग में भी निखार आ जाती है.

शरीर में कम्पन की समस्या दूर होती है : वृद्धा अवस्था में शरीर में कम्पन की समस्या हो जाती है. ऐसी परिस्थिति में देसी घी की करीब सात बूँद नाभि में डालकर मालिश करने से शरीर के कम्पन में की समस्या दूर होने लगती है.

नाभि से संबंधित अन्य लेख :