धर्मNews

नवरात्रि में जागरण क्यों होते हैं, जाने इसका महत्व

जानेनवरात्रि में जागरण क्यों होते हैं, और क्या है इसका महत्व.

माता की आराधना पर्व नवरात्रि प्रारम्भ होते ही देवी मात के नौ रूपों की पूजा की जाती है. माता आराधकों को नवरात्रि पर्व का वर्ष भर इंतजार रहता है. नवरात्रि का पर्व हो और माता रानी का जागरण न हो ऐसा हो ही नहीं सकता. माता दुर्गा को प्रसन्न करने और उनकी भक्ति में डूबने के लिए लोग माता रानी का जागरण या जगराता करते हैं. इस आयोजन में माता भक्त भक्तिमय गीतों के जरिये अपने ऊपर कृपा दृष्टि बनाये रखने की प्रार्थना करते हैं. इस दौरान माता की चौकी लगाई जाती है, जिसमें माता रानी का दरबार फूलों द्वारा सजाया जाता है. जागरण के दौरान लोग रात में जाग कर माता के भजन गाते हैं. 

navratri-mein-jagaran-kyu-hote-hain
सांकेतिक तस्वीर : फोटो सोर्स सोशल मीडिया

जब हम दरबार में या जागरण में जाते हैं तो एक अलग ही प्रकार की सकारात्मक ऊर्जा की अनुभूति होती है.जागरण में कन्या को देवी स्वरुप बनाकर झांकी लगाई जाती है, किसी को शेर और किस को असुर या दानव बनाया जाता है. जागरण में  नाटक का मंचन होता है.नवरात्र में भजन कीर्तन,जागरण का आयोजन करना शुभ माना जाता हैं. भक्तों से प्रसन्न होकर उन्हें  मन चाहा वर देती हैं एवं नकारात्मक उर्जा से छुटकारा भी दिलाती हैं.

मातारानी के जागरण में तीन देवी – देवता की पूजा होती है

मातारानी के जागरण में तीन देवी और देवता की पूजा की जाती है और वे तीन देवी – देवता हैं माता सरस्वती, निंद्रा माता एवं हनुमान जी. मां सरस्वती को ज्ञान, साहित्य, संगीत और कला की देवीस्वरुप पूजा जाता है. माता सरस्वती का सम्बन्ध बुद्धि से है जो इन्सान को ज्ञानी बनाती है.सरस्वती के आलावा मां निंद्रा देवी की पूजा करना भी अनिवार्य है. किदवंती है कि जो लोग निंद्रा पर विजय पा लेते हैं उसे ही मां सरस्वती का आशीर्वाद प्राप्त होता है. जागरण में बजरंगबली का पूजन भी अनिवार्य है. इनकी पूजन के बिना जागरण अपूर्ण माना जायेगा.

तारावती की कथा अनिवार्य है 

जागरण में तारावती की कथा सुनना अनिवार्य है, रात भर जागने के बाद सूर्योदय से पहले तारा रानी की कथा कहना व सुनना अनिवार्य है तभी जागरण पूर्ण माना जायेगा.

दुर्गा सप्तशती का पाठ अवश्य करना चाहिए 

नवरात्री जागरण के दौरान दुर्गा सप्तशती का पाठ करना अनिवार्य है. इसमें 13 अध्याय हैं. न केवल जागरण में बल्कि पूरे 9 दिनों तक माता दुर्गा जी का यह पाठ करना चाहिए.

KAMLESH VERMA

बातें करने और लिखने के शौक़ीन कमलेश वर्मा बिहार से ताल्लुक रखते हैं. कमलेश ने विक्रम विश्वविद्यालय उज्जैन से अपना ग्रेजुएशन और दिल्ली विश्वविद्यालय से मास्टर्स किया है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

DMCA.com Protection Status
Best Aansoo Shayari – पढ़िए शायरी आम खाने के जबरदस्त फायदे आलस क्यों आता हैं, जानिएं इसका कारण सफल लोगों की अच्छी आदतें, जानें सवाल जवाब शायरी- पढ़िए सीकर की पायल ने जीता बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड
Best Aansoo Shayari – पढ़िए शायरी आम खाने के जबरदस्त फायदे आलस क्यों आता हैं, जानिएं इसका कारण सफल लोगों की अच्छी आदतें, जानें सवाल जवाब शायरी- पढ़िए सीकर की पायल ने जीता बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड
सवाल जवाब शायरी- पढ़िए सीकर की पायल ने जीता बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड सफल लोगों की अच्छी आदतें, जानें आलस क्यों आता हैं, जानिएं इसका कारण आम खाने के जबरदस्त फायदे Best Aansoo Shayari – पढ़िए शायरी