Ujjain Car Accident : बिहार के सीवान जिले के सिरसिया गांव निवासी अविनाश को तलाशने के लिए इंदौर से गोताखोर बुलाए

0
227
ujjain-car-accident-divers-were-called-from-indore-to-find-avinash-a-resident-of-sirsia-village-in-siwan-district-of-bihar
30 नवंबर को कानपुर में शादी के फेरे लेते हुए अविनाश और प्रियंका (फाइल फोटो)

Ujjain. मध्य प्रदेश के उज्जैन जिले में बीते रविवार सुबह को गंभीर नदी में हुए हादसे में लापता अविनाश तिवारी का 24 घंटे बाद भी पता नहीं चल सका है। जिसे तलाशने के लिए इंदौर से गोताखोरों को बुलाया गया है। सोमवार आठ बजे के बाद एक बार फिर उज्जैन और इंदौर के गोताखोर अविनाश का शव खोजने के लिए पानी में उतरेंगे।

मालूम हो कि बिहार के सीवान जिले के सिरसिया गांव निवासी अविनाश तिवारी अपनी पत्नी प्रियंका और छोटे भाई अनुराग के साथ बड़ोदरा गुजरात में रहने वाले बड़े भाई अभय तिवारी के पास जाने के लिए कार से निकले थे। कानपुर स्थित ससुराल में दो दिन रुकने के बाद 23 जनवरी, शनिवार सुबह करीब 10 बजे तीनों कार से निकले।

ujjain-car-accident-divers-were-called-from-indore-to-find-avinash-a-resident-of-sirsia-village-in-siwan-district-of-bihar
30 नवंबर को कानपुर में शादी के फेरे लेते हुए अविनाश और प्रियंका (फाइल फोटो)

शनिवार की रात करीब 10.30 बजे अभय की अविनाश से बात हुई। अभय ने कहा उज्जैन में ही रात बिताकर सुबह बाबा महाकाल के दर्शन करके निकलना। उसके बाद दोनों के बीच कोई बात नहीं हुई। जिसके बाद रविवार सुबह पांच बजे जब अभय ने अविनाश मोबाइल लगाया तो संपर्क नहीं हो सका।

किसी अनहोनी की आशंका से परेशान अभय ने अपने साले उड़ीसा में कटक डीआईजी अमित कुमार सिन्हा को फोन पर जानकारी दी। उन्होंने इंदौर में डीआईजी रहे संतोष कुमार सिंह को बताया। पुलिस को तीनों की आखिरी मोबाइल फोन लोकेशन उज्जैन के गंभीर नदी के आसपास मिली।

दूसरी ओर गंभीर नदी में किसी गाड़ी के गिरने की खबर पर उज्जैन एसपी सत्येंद्र कुमार शुक्ल मौके पर पहुंचे। डीआईजी संतोष सिंह का फोन एसपी शुक्ल के पास आया। नदी के पुल पर हुंडई कार के कुछ टूटे हुए टुकड़े मिलने से यह आशंका हुई कि जिनके बारे में डीआईजी संतोष सिंह बता रहे हैं कही उनकी कार तो नदी में नहीं गिरी है। उसके बाद एसपी ने रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू कराया।

इधर, रात करीब डेढ़ बजे प्रियंका के माता-पिता कानपुर से उज्जैन पहुंचे। वह सीधे पुलिस आफिसर्स मेस में ठहरे अभय से मिले। कानपुर से निकलने के बाद से ही लगातार वह अभय के संपर्क में थे।

इसे भी पढ़े : मध्यप्रदेश के उज्जैन में ‘गंभीर’ हादसा, नदी में पुल की रेलिंग तोड़ गिरी कार