पाड्ल्याकलां रोड पर व्यापारी और रहवासियों में मारपीट

0
118
nagda-news-traders-and-residents-fight-on-padlyakalan-road
सांकेतिक तस्वीर सोर्स गूगल

रविंद्रसिंह रघुवंशी\ नागदा

Nagda News. शहर के मध्य स्थित रिहायशी बस्ती पाड़ल्या रोड पर बीते कई वर्षों से प्रदूषण फैला रहे व्यापारी से परेशान होकर जब रहवासियों ने इसक विरोध किया तो उनके साथ मारपीट की गई। मंगलवार सुबह व्यापारी ने अपने भाई के साथ मिलकर पड़ौस में रहने वाले दो लोगों की पीटाई कर दी।

क्षेत्र के लोगों द्वारा गत एक वर्ष से व्यापारी द्वारा फैलाए जा रहे प्रदूषण का विरोध किया जा रहा है। इसको लेकर पूर्व में भी प्रदूषण विभाग को शिकायत की गई है। मामला पाड़ल्या रोड पर गौशाला के सामने देवाटाप कॉलोनी का है। यहां पर एक चने सकने की भट्‌टी है।

nagda-news-traders-and-residents-fight-on-padlyakalan-road
सांकेतिक तस्वीर सोर्स गूगल

पुलिस ने फरियादी जीवनदास पिता शांतिदास बैरागी उम्र 30 वर्ष की रिपोर्ट पर आरोपी व्यापारी खुर्शीद पिता तय्यब व उसके भाई अखतर के खिलाफ भादवि की धारा 323 व 504 में प्रकरण दर्ज किया। आरोपियों ने जीवनदास व बीच बचाव करने आए एक अन्य पड़ौसी संजय परमार के साथ भी मारपीट की।

क्या है पूरा मामला

आरोपी खुर्शीद का चने का व्यापार है। यह व्यापार पिछले 3 दशक से चला आ रहा है। चने के लिए खुर्शीद ने गौशाला के सामने एक भट्‌टी बना रखी है। उक्त भट्‌टी में चने सेकने के लिए टायर व आयल का उपयोग किया जाता है। जिससे भट्‌टी से काला धुंआ निकलता है वहां आसपास के घरों में पहुंचता और मानव शरीर पर प्रभाव डालता है।

Also Read : मस्जिद के सामने हनुमान चालीसा पढ़ रहे हिंदू संगठन के कार्यकर्ताओं पर पथराव

यह धुंआ इतना खतरानक रहता है जो व्यक्ति इसे संपर्क में लगातार आता है तो व रोग से ग्रसित हो जाता है। इस धुंआ अधिक प्रभाव बच्चों व वृद्ध लोगों पर होता है। टायर चलाने से वायु प्रदूषण हो रहा है। व्यापारी द्वारा भट्‌टी पर अधिक ऊंची चिमनी नहीं लगाने से यह धुंआ आसपास के घरों में ही जा रहा है।

प्रशासन ने नहीं दिया ध्यान

क्षेत्र के लोगों में पिछले कई वर्षों से इसका विराेध किया जा रहा है। गत वर्ष क्षेत्र के एक व्यक्ति कंहैयालाल चौधरी ने प्रदूषण विभाग में व्यापारी कि शिकायत भी की थी। उस समय प्रदूषण विभाग के अधिकारी ने मौके पर पहुंचकर निरीक्षण भी किया था। उसके बाद व्यापारी खुर्शीद ने भट्‌टी पर पांच फीट ऊंची चिमनी भी लगा ली थी, लेकिन कुछ दिना बाद ही चिमनी पर पेड़ गिरने से वह टूट गई।

जिसके बाद अभी तक व्यापारी ने चिमनी नहीं लगाई। क्षेत्र के लोगों द्वारा जब-जब व्यापारी को चिमनी लगाने का कहा जाता है तो उन के द्वारा लोगों को गाली गलौच कर मारपीट की जाती है। शहर के मध्य में खुले आम हो रहे प्रदूषण को लेकर प्रशासन द्वारा कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है।

इसे भी पढ़े : युवा स्वाभिमान योजना 2020: ऑनलाइन आवेदन

Newsmug App: देश-दुनिया की खबरें, अपडेट्स और सेहत की दुनिया की हलचल, वायरल न्यूज़ और धर्म-कर्म… पाएँ हिंदी की ताज़ा खबरें डाउनलोड करें NEWSMUG ऐप