Madhya PradeshNagdaNews

लैंक्सेस की तीसरी तिमाही में बिक्री 38.2% बढ़कर 2.185 बिलियन यूरो

लैंक्सेस की तीसरी तिमाही में बिक्री 38.2% बढ़कर 2.185 बिलियन यूरो | LANXESS’s third quarter sales up 38.2% to 2.185 billion euros
  • असाधारण स्थिति से पूर्व एबिटा 4.8 फीसदी बढ़कर 240 मिलियन यूरो हुआ
  • वित्त वर्ष 2022 के लिए अनुमान निर्धारित: : पूर्व असाधारण स्थिति में एबिटा के 900 मिलियन यूरो से 950 मिलियन यूरो के बीच रहने की उम्मीद
नागदा – ऊर्जा और कच्चे माल की लागत में निरंतर वृद्धि के साथ एक चुनौतीपूर्ण वातावरण में, विशेष रसायन कंपनी लैंक्सेस ने 2022 की तीसरी तिमाही के लिए अच्छे परिणाम दिए हैं। बिक्री में 38.2 प्रतिशत की उल्लेखनीय वृद्धि हुई। पिछले वर्ष की समान अवधि में यह 1.581 बिलियन यूरो था, जो अब बढ़कर 2.185 बिलियन यूरो हो गया। वहीं पिछले साल के 229 मिलियन के मुकाबले 4.8 फीसदी की वृद्धि के साथ एबिटा (पूर्व असाधारण स्थिति) बढ़कर 240 मिलियन यूरो हो गया।
लैंक्सेस एजी के प्रबंधन बोर्ड के चेयरमैन मैथ्‍यू जैशर्ट ने कहा, “अच्छे आंकड़े बताते हैं कि हमारी रणनीति हमें सही दिशा में ले जा रही है। चुनौतीपूर्ण समय में, हम पहले की तुलना में बहुत अधिक स्थिर हैं और इसका श्रेय कम चक्रीय विशेषता रसायनों पर ध्यान केंद्रित करना जाता है। वर्ष के मध्य में, हमने आईएफएफ से माइक्रोबियल कंट्रोल व्यवसाय प्राप्त करके अपने उपभोक्ता संरक्षण खंड को फिर से मजबूत किया, जिसके नतीजे पिछली तिमाही में हासिल हो चुके हैं।”
लैंक्सेस ने पूरे वित्त वर्ष 2022 के लिए अपना अनुमान निर्धारित किया है। समूह को 900 मिलियन से 950 मिलियन यूरो के बीच की शुद्ध आय की उम्मीद है, जो इस प्रकार 815 मिलियन यूरो के समायोजित पूर्व-वर्ष के स्तर से काफी अधिक होगी। पहले, समूह ने 900 मिलियन यूरो और 1 बिलियन यूरो के बीच एबिटा (पूर्व असाधारण स्थिति) रहने का अनुमान लगाया था। तीसरी तिमाही में जारी परिचालन से शुद्ध आय 84 मिलियन यूरो रही, जबकि पूर्व-वर्ष की अवधि में यह 40 मिलियन यूरो थी।
एडिटिव्स व्यवसायों के अलावा, उपभोक्ता संरक्षण खंड में विकास, जिसे समूह ने हाल के वर्षों में रणनीतिक रूप से बनाया है, विशेष रूप से सकारात्मक रहा। यू.एस. कॉर्पोरेशन इंटरनेशनल फ्लेवर्स एंड फ्रैग्रेंस (आईएफएफ) से 1 जुलाई 2022 को अधिग्रहित माइक्रोबियल कंट्रोल बिजनेस  ने इस सेगमेंट की बेहतरीन आय में योगदान दिया। साथ ही 2021 में अधिग्रहित एमराल्ड कलामा केमिकल के कारोबार ने भी महत्वपूर्ण योगदान दिया है।
लैंक्सेस ने ऊर्जा और कच्चे माल की कीमतों में हुई वृद्धि को उच्च बिक्री मूल्य के माध्यम से ग्राहकों को हस्तांतरित कर दिया है। विनिमय दरों का भी सभी क्षेत्रों में आय पर सकारात्मक प्रभाव पड़ा, जबकि निर्माण जैसे कुछ ग्राहक उद्योगों में मांग कमजोर हुई। पूर्व असाधारण स्थिति एबिटा मार्जिन तीसरी तिमाही में घटकर 11.0 प्रतिशत हो गया, जो पूर्व-वर्ष की तिमाही में 14.5 प्रतिशत था।
इसे भी पढ़े :

KAMLESH VERMA

दैनिक भास्कर और पत्रिका जैसे राष्ट्रीय अखबार में बतौर रिपोर्टर सात वर्ष का अनुभव रखने वाले कमलेश वर्मा बिहार से ताल्लुक रखते हैं. बातें करने और लिखने के शौक़ीन कमलेश ने विक्रम विश्वविद्यालय उज्जैन से अपना ग्रेजुएशन और दिल्ली विश्वविद्यालय से मास्टर्स किया है. कमलेश वर्तमान में साऊदी अरब से लौटे हैं। खाड़ी देश से संबंधित मदद के लिए इनसे संपर्क किया जा सकता हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

DMCA.com Protection Status
पान का इतिहास | History of Paan महा शिवरात्रि शायरी स्टेटस | Maha Shivratri Shayari सवाल जवाब शायरी- पढ़िए सीकर की पायल ने जीता बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड सफल लोगों की अच्छी आदतें, जानें आलस क्यों आता हैं, जानिएं इसका कारण आम खाने के जबरदस्त फायदे Best Aansoo Shayari – पढ़िए शायरी