सेहत

क्या व्रत में दवा खा सकते हैं | Kya vrat me dawa kha sakte hai

क्या व्रत में दवा खा सकते हैं | Kya vrat me dawa kha sakte hai

Kya vrat me dawa kha sakte hai :  क्या व्रत में दवा खा सकते हैं? यह प्रश्न हर सनातनी के मस्तिष्क में आना महत्वपूर्ण है। क्योंकि समाज में प्रत्येक व्यक्ति एक अनूठे तरीके से उपवास करता है और जिस दिन वह उपवास कर रहे हैं उस दिन के लिए विशिष्ट नियमों का पालन करना अनिवार्य होता है। ऐसा हिंदू धार्मिक ग्रंथों में उल्लेखित कई नियमों के कारण है जिनका उपवास के दौरान पालन किया जाना बहुत ही आवश्यक है।

उपवास को धार्मिक अवसरों तक सीमित रखने की आवश्यकता नहीं है; यह शरीर की सफाई और पाचन में सुधार के लिए भी बहुत ही लाभदायक है। इसके अतिरिक्त, उपवास स्वस्थ मस्तिष्क में योगदान देता है और अवसाद और मानसिक स्वास्थ्य से संबंधित मुद्दों को हल करने में सहायता कर सकता है। नतीजतन, हमारे हिंदू धार्मिक ग्रंथों में उपवास को धार्मिक प्रथाओं से जोड़ा गया है क्योंकि यह मस्तिष्क को आराम प्रदान करता है। ध्यान के दौरान अनुभव की जाने वाली भलाई की भावना खाली पेट से बढ़ जाती है।

क्या व्रत में दवा खा सकते हैं?

हम नहीं जानते हैं कि दवाओं को किन-किन चीजों से बनाया जाता है, इसमें कई तरह के ड्रग मिलाए जाते हैं, जिस कारण हो सकता है कि लोगों में कम कई तरह प्रश्न आ जाते हैं कि कही दवा लेने से उपवास तो नहीं टूट जाएगा। तो आपको बता दें कि उपवास मन की शांति और भगवान के प्रति श्रृद्धा को दर्शाने के लिए जाते हैं न कि स्वास्थ्य को हानि पहुंचाने के लिए। इसके लिए आप उपवास के दौरान दवा का सेवन कर सकते हैं। बहुत से लोगों को हाई ब्लड प्रेशर या Diabetes की समस्या रहती है जिन्हें प्रतिदिन दवाई लेने की जरूरत होती है।

FAQ : क्या व्रत में दवा खा सकते हैं ?

व्रत में क्या क्या खा सकते हैं?

हिंदू धर्म में जितने भी व्रत रखे जाते हैं वह किसी ने किसी देवी देवता से भी संबंधित होते हैं ऐसे में आप कुछ चीजों को व्रत के दौरान खा सकते हैं जैसे आलू अरबी या घुइयां,नारियल,केला,सिंघाड़ा या इस से बनी चीजें,साबूदाना,कुट्टू की सब्जी या पराठे,मूंगफली खीरा ककड़ी खरबूजा आदि। 

व्रत में क्या नहीं खाना चाहिए?

दोस्तों यदि किसी कारणवश आपका व्रत टूट जाता है तो अपने घर में हवन करें और माफी मांगे। अपने आराध्य से माफी मांगते हुए कहा कि जो भी गलती हुई उसके लिए क्षमा करें और जो भी दोष हुआ है उसे दूर करें।

KAMLESH VERMA

दैनिक भास्कर और पत्रिका जैसे राष्ट्रीय अखबार में बतौर रिपोर्टर सात वर्ष का अनुभव रखने वाले कमलेश वर्मा बिहार से ताल्लुक रखते हैं. बातें करने और लिखने के शौक़ीन कमलेश ने विक्रम विश्वविद्यालय उज्जैन से अपना ग्रेजुएशन और दिल्ली विश्वविद्यालय से मास्टर्स किया है. कमलेश वर्तमान में साऊदी अरब से लौटे हैं। खाड़ी देश से संबंधित मदद के लिए इनसे संपर्क किया जा सकता हैं।

Related Articles

DMCA.com Protection Status
चुनाव पर सुविचार | Election Quotes in Hindi स्टार्टअप पर सुविचार | Startup Quotes in Hindi पान का इतिहास | History of Paan महा शिवरात्रि शायरी स्टेटस | Maha Shivratri Shayari सवाल जवाब शायरी- पढ़िए सीकर की पायल ने जीता बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड सफल लोगों की अच्छी आदतें, जानें आलस क्यों आता हैं, जानिएं इसका कारण आम खाने के जबरदस्त फायदे Best Aansoo Shayari – पढ़िए शायरी