Newsधर्म

गोपालगंज थावे मंदिर की रोचक कहानी, रहषु ने बाघ के गले में सांप डालकर किया था दंउरी

गोपालगंज थावे मंदिर की रोचक कहानी, रहषु ने शेरों के गले में सांप डालकर किया था दंउरी । Interesting story of Gopalganj Thawe temple, Rahsu did the snake by putting a snake in the neck of the lion। gopalganj thawe mandir ki kahani । maa thawewali mandir gopalganj

गोपालगंज के थावे मंदिर की ख्याति से हर कोई चिरपरिचित है. राजा मननसिंह की हटधर्मिता के बाद रहषु भगत के बुलावे पर मां कमाख्या से चलकर कोलकाता (काली के रूप में दक्षिणेश्वरमें प्रतिष्ठित), पटना (यहां मां पटन देवी के नाम से जानी गई), आमी (छपरा जिला में मां दुर्गा का एक प्रसिद्ध स्थान) होते हुए थावे पहुंची थीं, और रहषु के मस्तक (सिर) को विभाजित (फाड़कर) करते हुए साक्षात दर्शन दिए थे.

gopalganj-thawe-mandir-ki-kahani

लेकिन आप सभी को इस बात की शायद ही जानकारी होगी कि, रहषु भगत बाघों के गले में सर्प यानी सांप बांधकर अनाज की दउंरी (खेतों से अनाज काटे जाने के बाद उसे थ्रेसर की सहायता से अलग निकाले जाने की विधि को बिहार में दउंरी कहा जाता है) करवाते थे. जी हां, यह बिल्कुल सत्य है. यदि आप थावे मंदिर घूमने गए हो तो आप लोगों ने भी नोटिस किया होगा कि, रहषु प्रतिमा के समीप लगे बाघों के गले में सर्प दर्शाए गए है. बाघों में गले में लटके सर्प इस बात का प्रमाण है कि, रहषु भगत दउंरी करने के लिए बाघ और सांपों का इस्तेमाल करते थे.

दरअसल राजा मननसिंह के राज्य में एक बार भीषण अकाल पड़ गया था, चहुं ओर त्राही-त्राही मची हुई थी. प्रजा लगान (टैक्स) देने में असमर्थ थी. राज्य में भूखमरी के हालत पैदा हो गए थे. ऐसे में मां भवानी के आराधक रहषु भगत माता के शक्ति के प्रभाव से खेतों से घास काटकर उसे अनाज का रुप देते थे, और उक्त अनाज को जरूरतमंदों में बांट दिया करते थे.

अनाज की दउरी के लिए रहषु भगत जंगल से सांप और बाघों का आह्वान कर उनकी मदद लेते थे. इस बात की सूचना जब राजा को लगी तो उसने रहषु से माता की अपार शक्ति प्राप्त करने का रास्ता पूछा. इस दौरान रहषु ने राजा मननसिंह को अपनी माता मुनिया और अपने जन्म की पूरी कथा. जिसमें बताया कि, उसका जन्म उसकी माता की ऊंगली से हुआ है, और भवानी मां का आर्शीवाद उन्हें जन्म पूर्व से ही प्राप्त है.

थावे भवानी से संबंधित अन्य रोचक कथाओं को जानने के लिए हमारे द्वारा नीचे दी गई लिंक पर क्लिक करें. यदि आपके पास भी कोई रोचक कथा हो तो उसे हमसे हमारे वाट्सएप नंबर 7000019078 पर साझा करें. यदि आपकों टाइपिंग नहीं तो कोई बात नहीं आप हमें इसी नंबर पर फोन कर बताएं यदि कहानी रोचक लगी तो हम उसे जरूर पोस्ट करेंगे.

इसे भी पढ़े :

 गोवर्धन पूजन के मंत्र 
 वक्रतुंड महाकाय मंत्र
 ॐ यन्तु नद्यो वर्षन्तु पर्जन्या
 प्रतिवेदन किसे कहते हैं?
एकात्मता स्तोत्र, मंत्र अर्थ विद्या प्राप्ति के लिए सरस्वती मंत्र
 हिंदी लोक में खोजें, ज्ञान
कराग्रे वसते लक्ष्मी मंत्र
बुखार उतारने का मंत्र निबंध लेखन की परिभाषा
प्रधानमंत्री जी को पत्र कैसे लिखें आवेदन पत्र क्या होते हैं 
 ATM कार्ड के लिए पत्र
खाता खुलवाने के लिए पत्र

KAMLESH VERMA

दैनिक भास्कर और पत्रिका जैसे राष्ट्रीय अखबार में बतौर रिपोर्टर सात वर्ष का अनुभव रखने वाले कमलेश वर्मा बिहार से ताल्लुक रखते हैं. बातें करने और लिखने के शौक़ीन कमलेश ने विक्रम विश्वविद्यालय उज्जैन से अपना ग्रेजुएशन और दिल्ली विश्वविद्यालय से मास्टर्स किया है. कमलेश वर्तमान में साऊदी अरब से लौटे हैं। खाड़ी देश से संबंधित मदद के लिए इनसे संपर्क किया जा सकता हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

DMCA.com Protection Status
चुनाव पर सुविचार | Election Quotes in Hindi स्टार्टअप पर सुविचार | Startup Quotes in Hindi पान का इतिहास | History of Paan महा शिवरात्रि शायरी स्टेटस | Maha Shivratri Shayari सवाल जवाब शायरी- पढ़िए सीकर की पायल ने जीता बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड सफल लोगों की अच्छी आदतें, जानें आलस क्यों आता हैं, जानिएं इसका कारण आम खाने के जबरदस्त फायदे Best Aansoo Shayari – पढ़िए शायरी