Bihar NewsNews

हथुआ राज का इतिहास, अपशगुनी गिद्ध के कारण राजपरिवार को छाेड़ना पड़ा था महल

हथुआ राज का इतिहास, अपशगुनी गिद्ध के कारण राजपरिवार को छाेड़ना पड़ा था महल

हथुआ राज\ गोपालगंज.  गिद्ध को दुनिया बदसूरत चिड़िया के रुप में जानती है, लेकिन आपकों जानकार हैरानी होगी कि प्राचीन समय में गिद्ध के कारण एक राजपरिवार को सदियों पुराने महल को खाली करना पड़ गया था। हम बात कर रहे हैं बिहार के गोपालगंज में स्थित हथुआ राज के इतिहास के बारे में।

जिला मुख्यालय से करीब 10 किमी दूर स्थित हथुआ राज के राजपरिवार ने अपने महल को केवल इसलिए छाेड़ दिया था क्योंकि उसकी छत पर अपशगुनी गिद्ध बैठ गया था। वर्तमान में महल में राजवंश की रानी पूनम शाही बीएड कॉलेज में परिवर्तित कर दिया गया है। जहां पर नौजवान भारत की भावी पीढ़ी को गड़ने की शिक्षा लेते है।

the-history-of-hathua-raj-the-royal-family-was-besieged-due-to-the-vulture-vulture
हथुआ राज का नवीन पैलेस जाे विशेष अनुमति के बाद ही पर्यटकों के लिए खोला जाता है।

 

हथुआ राज में दो महल, अनुविभागीय कार्यालय, सैनिक स्कूल मौजूद है। नए महल को म्युजियम में तब्दील कर दिया गया है। राजवंश के मौजूद वंशज दुर्गा पूजा के अंतिम दिन थावे मंदिर पर आयोजित विशेष पूजा में शामिल होते हैं। जहां पर पशुओं की बलि दिए जाने की परंपरा है। मालूम हो कि थावे  पर राजा मननसिंह का राज था। मननसिंह की हटधर्मिता और जिद के कारण थावे वाली मां भवानी ने राजा का सामाज्य तहस-नहस कर दिया था।

हथुआ निवासी सुनिल प्रसाद बताते है कि, आजादी के बाद राजतंत्र ख़त्म होने के बावजूद बिहार के हथुआ में कोई फर्क नहीं पड़ा है। साल 1956 में भारत में  जमींदारी उन्मूलन कानून लागू किया गया था जिसके अंतर्गत भारत में राजतंत्र समाप्त किया जाना था, देश में प्रजातंत्र कायम हुआ था।  हथुआ राज परिवार आज भी प्रसाशनिक आदेशो की अवहेलना करते हुए अपनी मनमानी ही करता है।

the-history-of-hathua-raj-the-royal-family-was-besieged-due-to-the-vulture-vulture
हथुआ राज परिवार के अधीन मौजूद पुराना पैलेस। सोर्स : कमलेश वर्मा

आज भी राजा की सभा लगती है

हथुआ राज के कई ऐसी विरासत बिहार के इलाको में आपको देखने को मिल सकता है। गोपालगंज में सबसे ज्यादा उनकी विरासत की चाप मिल जायेगी। हथुआ राज ने अपनी सम्पति बिहार सरकार को नहीं दी और आज भी उनका साम्राज्य कायम है।

क्या कहता है हथुआ राज का इतिहास 

स्थानीय निवासी रजंन कुमार बताते है कि, प्राचीन समय में हथुआ राज की संपत्ति को सरकार में मिलाने के लिए एक बहुत बड़ा जत्था गोपालगंज की ओर बढ़ा था, सुचना के बाद महारानी ने अपनी पूरी सेना को बन्दुक साफ़ करने का आदेश दिया और अफसरों को फोन कर कहा कि, ठीक 4 बजे आप एक ट्रक भेज दीजियेगा और लाशो को ले जाइएगा। ऐसा ही हुआ , काफी खून खराबा हुआ , पर महारानी ने अपने सम्पति का विलय नहीं होने दिया।

हथुआ महल में कोई भी आसानी से नहीं जा सकता है। उसके लिए अनुमति की जरुरत पड़ती है। एक बार परमिशन मिल जाए तब आप आराम से महल में घूम सकते है। बिहार की राज घराने की अद्भुत मिसाल है हथुआ राज की विरासत। हथुआ महल में घूमने के लिए कोई टिकट नहीं लगता बल्कि इजाजत की जरुरत होती है।

राजपरिवार के कल्चर के हिसाब से आज भी महाराज अपने बग्गी में मंदिर आते है। पूजा के बाद वह शीश महल में अपना सालाना दरबार लगाते है। हथुआ परिवार के लोग आज भी अपना कस्टम सेलिब्रेट करते है जैसे की पूजा में भैंस और बकरी की बलि देना आदि |

इसे भी पढ़े :

 गोवर्धन पूजन के मंत्र 
 वक्रतुंड महाकाय मंत्र
 ॐ यन्तु नद्यो वर्षन्तु पर्जन्या
 प्रतिवेदन किसे कहते हैं?
एकात्मता स्तोत्र, मंत्र अर्थ विद्या प्राप्ति के लिए सरस्वती मंत्र
 हिंदी लोक में खोजें, ज्ञान
कराग्रे वसते लक्ष्मी मंत्र
बुखार उतारने का मंत्र निबंध लेखन की परिभाषा
प्रधानमंत्री जी को पत्र कैसे लिखें आवेदन पत्र क्या होते हैं 
 ATM कार्ड के लिए पत्र
खाता खुलवाने के लिए पत्र

KAMLESH VERMA

दैनिक भास्कर और पत्रिका जैसे राष्ट्रीय अखबार में बतौर रिपोर्टर सात वर्ष का अनुभव रखने वाले कमलेश वर्मा बिहार से ताल्लुक रखते हैं. बातें करने और लिखने के शौक़ीन कमलेश ने विक्रम विश्वविद्यालय उज्जैन से अपना ग्रेजुएशन और दिल्ली विश्वविद्यालय से मास्टर्स किया है. कमलेश वर्तमान में साऊदी अरब से लौटे हैं। खाड़ी देश से संबंधित मदद के लिए इनसे संपर्क किया जा सकता हैं।

Related Articles

DMCA.com Protection Status
चुनाव पर सुविचार | Election Quotes in Hindi स्टार्टअप पर सुविचार | Startup Quotes in Hindi पान का इतिहास | History of Paan महा शिवरात्रि शायरी स्टेटस | Maha Shivratri Shayari सवाल जवाब शायरी- पढ़िए सीकर की पायल ने जीता बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड सफल लोगों की अच्छी आदतें, जानें आलस क्यों आता हैं, जानिएं इसका कारण आम खाने के जबरदस्त फायदे Best Aansoo Shayari – पढ़िए शायरी