खबर दस्त

10 महीने बाद ट्रेनों में खाना मिलेगा, फरवरी से ट्रेनों में रेडी टू ईट फूड मिलेगा

10 माह पूर्व ट्रेनों में बंद की गई ई-कैटरिंग की सुविधा को फरवरी से दोबारा शुरु कर दी जाएगी। रेलवे मिनिस्ट्री ने इसके लिए IRCTC को अनुमति देते हुए आदेशित किया है। जिसके बाद से ट्रेनों में सफर के दौरान ऑर्डर बुक करने पर खाना उपलब्ध हो सकेगा। IRCTC ई-कैटरिंग की सुविधा फिलहाल देश के कुछ चुनिंदा स्टेशनों पर ही करेगी. धीरे-धीरे पूरे देश में शुरु किया जाएगा।

irctc-declares-facility-for-ready-to-eat-trains-since-february
यात्री ecatering.irctc.com के जरिए ई-कैटरिंग सेवाओं का लाभ उठा सकते हैं।

मालूम हो कि साल 2019 23 मार्च को केंद्र सरकार ने कोरोना महामारी के कारण सभी ट्रेनें बंद करने का ऐलान किया था। लॉकडाउन खुलने के साथ जब ट्रेनें शुरू हुईं तो उनमें पैंट्री कार की सुविधा को बंद रखा गया। अब IRCTC की इस सुविधा से यात्री ऑनलाइन ही पसंदीदा रेस्टोरेंट से अपना खाना ऑर्डर कर सकते है।

पूरी ऐहतियात बरती जाएगी
रेल रेस्ट्रो जनवरी अंत से काम शुरू करने को तैयार है। इसके लिए कंपनी ने कड़े दिशा-निर्देश दिए हैं, जिसमें परिचालन के दौरान कई बार रेस्त्रां के कर्मचारियों और डिलीवरी कर्मियों की थर्मल स्कैनिंग, नियमित अंतराल पर रसोई की सफाई, रेस्त्रां के कर्मचारियों और डिलीवरी कर्मियों द्वारा मास्क या फेसशील्ड का इस्‍तेमाल शामिल है।

बड़ी कंपनियों के साथ समझौता
ई-कैटरिंग को लेकर IRCTC ने देश की कई नामी फूड कंपनियों के साथ अनुबंध किया है। सफर के दौरान रेल यात्री एमटीआर, आईटीसी, डूकेन, बाघ बकरी, आरके केटरर, हल्दीराम समेत कई नामी कंपनियों का रेडी टू ईट खाना खा सकेंगे।

IRCTC के प्रवक्ता सिद्धार्थ सिंह ने जानकारी देते हुए बताया कि यात्री ecatering.irctc.com के जरिए ई-कैटरिंग सेवाओं का लाभ उठा सकते हैं। इसके अलावा फोन से भी ई-कैटरिंग सेवा का लाभ मिल सकेगा। यात्री IRCTC ई-कैटरिंग ऐप फूड ऑन ट्रैक को डाउनलोड कर सकते हैं। कैश ऑन डिलीवरी का विकल्प भी दिया जाएगा।

इसे भी पढ़े : 3 साल के बच्चे की मां 10 साल पुराने प्रेमी के साथ भागी, पति ने प्रेमी के हाथ-पैर तोड़े

Newsmug App: नागदा और देश-दुनिया की खबरें, अपडेट्स और सेहत की दुनिया की हलचल, वायरल न्यूज़ और धर्म-कर्म… पाएँ हिंदी की ताज़ा खबरें डाउनलोड करें NEWSMUG ऐप। आपके नागदा का  लोकल न्यूज एप।

KAMLESH VERMA

दैनिक भास्कर और पत्रिका जैसे राष्ट्रीय अखबार में बतौर रिपोर्टर सात वर्ष का अनुभव रखने वाले कमलेश वर्मा बिहार से ताल्लुक रखते हैं. बातें करने और लिखने के शौक़ीन कमलेश ने विक्रम विश्वविद्यालय उज्जैन से अपना ग्रेजुएशन और दिल्ली विश्वविद्यालय से मास्टर्स किया है. कमलेश वर्तमान में साऊदी अरब से लौटे हैं। खाड़ी देश से संबंधित मदद के लिए इनसे संपर्क किया जा सकता हैं।

Related Articles

DMCA.com Protection Status
पान का इतिहास | History of Paan महा शिवरात्रि शायरी स्टेटस | Maha Shivratri Shayari सवाल जवाब शायरी- पढ़िए सीकर की पायल ने जीता बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड सफल लोगों की अच्छी आदतें, जानें आलस क्यों आता हैं, जानिएं इसका कारण आम खाने के जबरदस्त फायदे Best Aansoo Shayari – पढ़िए शायरी