गर्लफ्रेंड की शादी हो जाए तो क्या करें ?

0
757

ढाई अक्षर का प्यार शब्द खुद ही अधूरा है। पूरे ब्रह्माण में ऐस कोई जीव नहीं जिसकी गर्लफ्रेंड ना हो। भगवान श्रीकृष्ण को ही ले लिजिए। गोपियां नटखट माखन चोर की महिला मित्र ही थी, जिसे तकनीकि युग में हम गर्लफ्रेंड नाम से संबोधित करते है।

एक नजर में होने वाला प्रेम इस कदर दिमाग पर हावी हो जाता है कि, उसे ताउम्र भुला पाना बेहद ही मुश्किल है। युवा गर्लफ्रेंड बनाकर कई साल साथ बीताते है। परेशानी तब खड़ी होती है जब किसी कारण वश युवक युवति एक दूसरे से विवाह नहीं कर पाते। ऐसे में दोनों विरह की याद में तड़पते रहते हैं। प्रेम में सबसे दुखद पल एक दूसरे से विवाह नहीं होना है।
गर्लफ्रेंड की शादी हो जाए तो क्या करें ?
गर्लफ्रेंड की शादी हो जाने पर सबसे अधिक दुख उसके प्रेमी को होता है। ऐसे मे हर किसी के मन में सवाल उठता है कि, गर्लफ्रेंड की शादी हो जाए तो क्या करें?
यदि आप भी गर्लफ्रेंड की शादी होने से उदास है तो दिनचर्या में बदलाव कर उसे भुलने की कोशिश कर सकते हैं। लेख के माध्यम से हम कुछ टिप्स लेकर आएं है। जिसे अपने दैनिक जीवन में उतार कर आप गर्लफ्रेंड की शादी के बाद उसे आसानी से भुला सकते हैं……….
योग को जीवन में अपनाए
वैदिक काल से योग को अमरबूटी कहा जाता है। योग करने वाला व्यक्ति निरोगी रहता है। अलसुबह उठकर कर प्रतिदिन योग करें। योग दिमाग का स्ट्रेस लेवल कम कर शरीर में रक्त का संचार प्राकृतिक रुप से प्रभाव करता है। योग करने से आलस दूर होता है। अन्य कार्यों में मन लगता है।
पंसदीदा स्थानों पर ना जाएं
गर्लफ्रेंड की पंसदीदा स्थानों पर भूलकर भी ना जाएं। ऐसा करने से आपकी पुरानी यादें दोबारा ताजा हो जाएंगी। जिसके चलते आपकों गर्लफ्रेंड का चेहरा बार-बार याद आएगा। इतना ही नहीं ऐसे स्थानों पर गर्लफ्रेंड के साथ किए गए वादे भी याद आने लगेंगे जो आपकी सेहत पर दुष्प्रभाव डालेगा।
गर्लफ्रेंड के परिचित लोगों से दूरी बनाएं
गर्लफ्रेंड की शादी होने के बाद उसके सगे संबंधी या किसी परिचित से दूरी बनाकर रखें। यदि भूल से भी परिचित रास्ते में मिल जाएं तो उनसे हाल चाल पूछकर आगे निकल जाए। यदि गर्लफ्रेंड की कोई खास सहेली से आपकी बातचीत है तो बात बंद कर दें। कई मामलों में गर्लफ्रेंड की सहेली आपकों उसके बारे में बातें बार-बार याद दिलाएगी।
भविष्य की योजनाओं के बारें में विचार करें
गर्लफ्रेंड की शादी होने के बाद परेशान होने से अच्छा है। आप स्वयं अपनी शादी के लिए बेहतर लड़की पसंद करें। इस बार आप अरेंज मैरिज को अपनाएं। विवाह होने वाली कन्या से पास्ट या किसी लड़की के बारे में बात कतई ना करें। गर्लफ्रेंड को भुलाने के लिए भविष्य की योजना पर काम करें। यदि आप नौकरी पेशा है, तो काम पर अधिक ध्यान दें। दिमाग में इस सोच को इस कदर बैठा लें कि, आपकी कोई प्रेयषी थी ही नहीं।
अदरुनी रुप से कठोर बनें
गर्लफ्रेंड की शादी होने के बाद सबसे अधिक युवा टूटते है। कई मामलों में युवा आत्महत्या का कदम उठा लेते हैं। ऐसा नहीं करना चाहिए, किसी कारणवश आपकी शादी नहीं हो सकी। ऐसा भी नहीं है कि, आपके जीवन में विवाह का पल नहीं आएगा। गर्लफ्रेंड को यह सोचकर नजरअंदाज करें, कि वह दुनिया की आखिरी लड़की नहीं थी। वो कहावत तो सुनी होगी आपने लड़की, बस और ट्रेन का इंतजार नहीं करना चाहिए।
किताबों को दोस्त बनाएं
दुनिया चांद पर पहुंच जाए। कम्युटर कपड़े धोने लगे, लेकिन पुस्तक इंसान की सच्ची मित्र होती है। कहते है ना जिस पर सरस्वती मेहरबान है। उसके पास शोहर्रत और लक्ष्मी स्वत: चली आती है। गर्लफ्रेंड को भुलाने में सबसे कारगर नुस्खा किताबों से मित्रता करना है। पुस्तक पढ़ने से दिमागी कसरत होती है।