नागदा-खाचरौद विधानसभा को आदर्श विधानसभा बनाने का प्रयास होगा

0
9
there-will-be-an-effort-to-make-the-nagda-khacharaud-assembly-an-ideal-assembly
सोर्स : सोशल मीडिया

Nagda News.  नागदा-खाचरौद विधानसभा को आदर्श विधानसभा बनाने का प्रयास होगा। मामले को लेकर पूर्व विधायक दिलीपसिंह शेखावत ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी की है। जिसमें बताया गया है कि, विधानसभा क्षेत्र नागदा-खाचरौद के अंतर्गत 6 गांवों में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की महत्वाकांक्षी योजना जल, जीवन मिशन अंतर्गत रेट्रोफिटिंग नल जल योजना का 330 लाख रुपए की प्रशासकीय स्वीकृति भोपाल कार्यालय से जारी हो चुकी है।

इसकी टेन्डर प्रक्रिया जल्द शुरू होगी। जिससे गांव नरसिंहगढ़ में 59 लाख, नंदवासला में 30.55 लाख, दुपड़ावदा में 76.90 लाख, बरथून में 56 लाख, पानवासा में 54.30 लाख एवं बेहलोला में 53 लाख रुपए की लागत से नल-जल योजना का विस्तार होगा। जिससे करीब 1206 घरो में नवीन नल-जल कनेक्शन दिए जाकर शुद्ध पेयजल ग्रामवासियों को उपलब्ध हो सकेगा।

शेखावत ने बताया कि विधानसभा क्षेत्र नागदा-खाचरौद के अंतर्गत कुल 135 ग्राम आते है। जिसमें अधिक जनसंख्या वाले बड़े 35 ग्रामों में मेरे पूर्व कार्यकाल में नल-जल योजना स्वीकृत कर संचालित की जा रही हैं। जिससे 8815 घरों में नल कनेक्शन संचालित है। शेष बचे हुए 5611 घरों में नवीन नल कनेक्शन देने के लिए जल जीवन मिशन योजनान्तर्गत कार्यवाही की जा रही है।

इसी प्रकार समूह जल योजना से चंबल किनारे के 22 गांवों में 29.29 करोड़ की योजना से 4000 घरो को नवीन नल कनेक्शन दिए जा चुके है। शेष 1000 घरों को नवीन नल कनेक्शन दिए जाने का कार्य चल रही हैं। इस प्रकार 135 में से 56 ग्रामो में 12815 घरों को नवीन नल कनेक्शन दिये जा चुके है।

शेष बचे 6611 घरो को शीघ्र नल कनेक्शन दिए जाने की कार्यवाही प्रचलित है। मध्यप्रदेश में कुल 10 से 15 विधानसभा ही ऐसी होगी जहां पर इतनी बड़ी संख्या  में ग्रामीण क्षेत्र में नल-जल योजना संचालित है। सन 1952 से लेकर 2013 तक विधानसभा के ग्राम कमठाना, बुरानाबाद, नरसिंहगढ़, खेड़ावदा, सिमरोल, बरखेड़ा जावरा, घुड़ावन, पाड़सुतिया, भीकमपुर, नंदवासला, नंदियासी आदि ग्रामो में ही नल-जल योजना थी।

इसे भी पढ़े : युवा स्वाभिमान योजना 2020: ऑनलाइन आवेदन

Newsmug App: देश-दुनिया की खबरें, अपडेट्स और सेहत की दुनिया की हलचल, वायरल न्यूज़ और धर्म-कर्म… पाएँ हिंदी की ताज़ा खबरें डाउनलोड करें NEWSMUG ऐप

वह भी संसाधनों के अभाव में बंद पड़ी थी। जिसे मेरे कार्यकाल में प्राथमिकता से सांसद, विधायक, राज्यसभा निधि से प्रारम्भ कराया। इसी प्रकार ऐसे गांव जो जल संकट से जुझ रहे थे। उनमें हजार फीट के होल कराकर  एवं आवश्यकतानुसार पाईप लाईन का विस्तार कराकर जिसमें फरनाखेड़ी, लेकोड़िया टाक, रजला, लुसड़ावन, पानवासा, कलसी, कमठाना, नरसिंहगढ़, टुटियाखेड़ी, बनवाड़ा, बेरछा, आक्याजागीर, उमरना, चापानेर, सकतखेड़ी, चिरोला कुटलाना, भाटखेड़ी, मालाखेड़ी, बरखेड़ा जावरा, कंचनखेड़ी, घिनोदा और चंदोड़िया इन गांवो में पीने की पेयजल की व्यवस्था कराई।

भाजपा शासनकाल में मेरे प्रयासों से गेसिम एवं केमिकल के सीआरएस फण्ड के सहयोग से ग्राम मड़ावदा, भुवासा, बंजारी, सेदरी, भैसोला, उंचाहेड़ा, खामरिया, बिरियाखेड़ी, अजीमाबाद पारदी, नायन, भीलसुड़ा, कनवास, संदला, बड़ागांव, पचलासी, बेड़ावन्या, बरथून, चापानेर, भाटीसुड़ा और घिनोदा में दस करोड़ की लागत से अंशदान योजना एवं मुख्यमंत्री योजना के तहत नल-जल योजना स्वीकृत कराकर प्रारम्भ करवाई।

इसी प्रकार विधानसभा के कुल 35 गांवो में अभी नल-जल योजना से 8815 घरों को नल कनेक्शन के माध्यम से जल मिल रहा है। शेष बचे 5811 घरों में नल कनेक्शन देने की कार्यवाही की जा रही है। ग्राम पचलासी एवं बेड़ावन्या में वर्ष 2018 में नल-जल योजना स्वीकृत हो चुकी थी। किन्तु कार्य प्रारम्भ नहीं हो पाया था।

भाजपा शासनकाल में फिर से इन दोनों गांवो में नल-जल योजना का कार्य प्रारम्भ करवाया गया है। इसी प्रकार वर्ष 2018 में सीआरएस फण्ड से अंशदान के रूप में ग्राम लेकोड़िया टाक, फरनाखेड़ी, लुसड़ावन, मीण, रजला की नल-जल योजना स्वीकृति हेतु अंशदान जमा किया गया था। जिसे कांग्रेस शासन काल में वापस कर दिया गया। जिससे यह योजना खटाई में पड़ गई।

ऐसे ही चंबल किनारे के ऐसे 22 गांव जहां शुद्ध पेयजल पहुंचाना सबसे बड़ी चुनौती थी एवं परमारखेड़ी में दुषित पेयजल के कारण कई लोग दिव्यांग हो चुके थे।  इस समस्या से निपटने के लिये पूर्व कार्यकाल में 29.29 करोड रुपए की शुद्ध पेयजल योजना स्वीकृत कराकर मुख्यमंत्री  शिवराजसिंह चौहान द्वारा भूमि पूजन कर ग्राम बेरछा, रजला, कलसी, अलसी, निपानिया, परमारखेडी, बनवाडा, राजगढ, गिदगढ़, भीमपुरा, मोकड़ी, तारोद, चंदोड़िया, दिवेल के कुल 4000 घरों में नवीन नल कनेक्शन दिये जा चुके है एवं शेष बचे 1000 घरों में कनेक्शन देने की कार्यवाही चल रही है।

शेखावत ने बताया कि शेष बचे हुए छोटे-छोटे ऐसे 79 ग्राम जहां अभी नल-जल योजना संचालित नहीं है। जिसमें कुल 15847 परिवार निवास करते है उनके लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की महत्वकांक्षी योजना जल जीवन मिशन योजना के अंतर्गत प्रत्येक घर को नवीन नल कनेक्शन देने के लिए कार्य योजना बनाकर 2024 तक इसे चरणबद्ध तरीके से स्वीकृत कराने के लिए पूर्व में लोक स्वास्थ्य मंत्री और विभाग के प्रमुख सचिव मलय श्रीवास्तव से मिलकर चर्चा की थी कि, माँ नर्मदा का जल नागदा आने पर बचे हुए 79 गांवों को सतही नल-जल योजना में जोड़कर प्रत्येक गांव में मां नर्मदा का जल चंबल नदी के माध्यम से घर-घर पहुंचे।

ऐसा मेरा प्रयास रहेगा। इस योजना के क्रियान्वयन के लिए क्षेत्रवासियों ने जल शक्ति मंत्री गजेन्द्रसिंह शेखावत, मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान,  सामाजिक न्याय मंत्री थावरचंद गेहलोत, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी मंत्री म.प्र. सरकार एवं मान.सांसद अनिल जी फिरोजिया का विशेष आभार माना हैं।

Nagda News : पाड्ल्याकलां रोड पर व्यापारी और रहवासियों में मारपीट