Newsहिंदी लोक

International Girl Child Day Essay in Hindi | अंतर्राष्ट्रीय बालिका दिवस पर निबंध

International Girl Child Day Essay in Hindi | अंतर्राष्ट्रीय बालिका दिवस पर निबंध

International Girl Child Day Essay in Hindi:-  अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस पूरे विश्व में प्रतिवर्ष 11 अक्टूबर को मनाया उत्साह के साथ मनाया जाता है। इस विशेष दिन को मनाए जाने का मुख्य उद्देश्य महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाना और उन्हें समाज में सम्मान और सुरक्षा का एहसास कराना है। बताते चलें कि, इस विशेष दिन को सर्वप्रथम एक निजी संस्था के द्वारा मनाए जाने का क्रम शुरू किया गया था। इसकी बढ़ती लोकप्रियता के साथ धीरे-धीरे इसे पूरे विश्व में सम्मान मिलने लगा और 2008 से इसे राष्ट्रीय संघ के द्वारा 11 अक्टूबर का दिन चुना गया। साथ ही 11 अक्टूबर को अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस का विशेष दिन घोषित कर दिया गया। अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस के मौके पर विश्व के 50 से अधिक देशों में बालिकाओं को सम्मान और आत्म निर्भर बनाने की विभिन्न प्रकार की विशेष मुहिम चलाई जाती है। यदि आप अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस पर निबंध या Girls Child Day Essay in Hindi इस तरह की कोई अन्य जानकारी लोगों के साथ साझा करना चाहते है यह जानना चाहते हैं तो नीचे दिए गए निर्देशों को पढ़ें।

भारतवर्ष के विभिन्न शैक्षणिक संस्थाओं में अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस के अवसर पर निबंध प्रतियोगिता या भाषण प्रतियोगिता आयोजित करवाई जाती है। यदि इस प्रकार के किसी प्रतियोगिता में आपकों अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस पर निबंध लिखने का मौका दिया गया है तो नीचे दिए गए निर्देशों का आदेश अनुसार पालन करें और बेहतरीन निबंध की सूची में से एक बेहद ही आसान और जबरजस्त निबंध प्राप्त करें।

girls-child-day-essay-in-hindi
International Girl Child Day Essay

International Girl Child Day Essay in Hindi

दिवस का नाम International Day of the Girl Child
कब है हर साल 11 अक्टूबर को मनाया जाता है
क्यों मनाया जाता है विश्व की सभी स्त्री को समाज में पुरुष के बराबर का दर्जा देने और सम्मान के प्रति जागरूक करने के लिए
कहां मनाया जाता है विश्व के 50 से अधिक देशों में

Essay on the International Day of the Girl Child

अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस पूरे विश्व में प्रतिवर्ष 11 अक्टूबर 50 से अधिक देशों के द्वारा उत्साह के साथ मनाया जाता है। इस दिन का मुख्य उद्देश्य नारी शक्ति की ओर लोगों को जागरूक करना और महिलाओं को आत्मनिर्भर और सशक्त बनाना है। विश्व के सभी देशों में स्त्री को उसका सम्मान और अधिकार दिलाने के लिए विभिन्न प्रकार के सांस्कृतिक आयोजन कर अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस मनाया जाता है।

Girls Child Day Essay in Hindi

भारतीय समाज में स्त्री को पुरुष के समान का दर्जा नहीं दिया जा रहा है। आधुनिकता की इस चकाचौंध में शिशु रूप की आजादी महिलाओं को दी गई है। विड़बना है कि, आज भी महिलाओं को समाज में वह वास्तविक बराबरी का दर्जा नहीं मिल सका है। इस विषय पर चिंता व्यक्त करते हुए एक निजी संस्था के द्वारा “क्योंकि मैं लड़की हूं” मुहिम की शुरुआत साल 2008 में शुरू की गई। मुहिम में दुनिया का वह नजरिया समाज की आंखों के सामने लाया गया जिसने इस मुहिम को पूरे विश्व में प्रसिद्ध कर दिया। साल 2011 में कनाडा सरकार के द्वारा इस मुहिम को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रचलित करने के लिए राष्ट्र संघ में पेश किया गया। जिसके बाद 11 अक्टूबर 2011 को वह दिन चुना गया जहां से विश्व के 50 से अधिक देशों में अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस के अवसर पर विभिन्न प्रकार के समारोह के जरिए स्त्री के प्रति लोगों को जागरूक करने का प्रयास शुरू किया गया।

साल 2008 से लेकर आज तक प्रतिवर्ष 11 अक्टूबर को अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस उत्साह के साथ मनाया जाता है। भारत में स्त्री के प्रति जागरूकता फैलाने के लिए राष्ट्रीय बालिका दिवस को 24 जनवरी को मनाया जाता है। लेकिन पूरे विश्व के साथ मिलकर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर स्त्री को सम्मान देने और उसे समाज में बराबरी का दर्जा देने के लिए अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस मनाया जाता है। हर साल इस दिन विभिन्न प्रकार के ऑनलाइन और ऑफलाइन समारोह को आयोजित किया जाता है और विभिन्न तरीकों का इस्तेमाल करके समाज के लोगों को औरतों के प्रति जागरूक किया जाता है।

अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस पर निबंध (500 शब्द)

विश्व के 50 देशों की अगुवाई में प्रतिवर्ष अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस 11 अक्टूबर को बड़े ही उमंग के साथ मनाया जाता है। इस विशेष दिन को मनाए जाने की शुरुआत एक निजी संस्था द्वारा एक मुहिम के रूप में शुरू की गई थी। विश्व स्तर पर बालिका दिवस मनाने का उद्देश्य स्त्री के जीवन में आने वाली कठिनाईयों के बारे में समाज के लोगों को जागरूक करना है। एक महिला के साथ होने वाले भेदभाव के बारे में लोगों को बताया जाता है ताकि वह समझ सके कि समाज में किस स्तर पर स्त्रियों के साथ किस प्रकार के भेदभाव होते है।

अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस का त्यौहार सबसे पहले एक निजी संस्था के द्वारा “क्योंकि मैं लड़की हूं” नाम की मुहिम से शुरू किया गया था। धीरे-धीरे इस मुहिम के अंतर्गत पूरे विश्व की महिलाएं जुड़ने लगी और यह मुहिम विश्व की सभी महिलाओं की स्थिति को दुनिया के समक्ष लाने लगा है 2011 में राष्ट्रीय संघ में इसके बारे में लोगों को जानकारी मिली और अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस शुरू किया गया।

अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस प्रतिवर्ष आजाद भारत में मनाया जाता है और इस दिन नारी शक्ति के प्रति हर किसी को जागरूक किया जाता है। शैक्षणिक संस्थाओं में विशेष सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। साथ ही ऑनलाइन और ऑफलाइन कार्यक्रमों के जरिए बालिका दिवस बड़े ही उमंग के साथ मनाया जाता है। बीते कुछ समय से बालिका दिवस के बारे में लोगों को जागरूक करने के लिए विभिन्न प्रकार के समारोह आयोजित किए जा रहे हैं वर्तमान समय ऑनलाइन हो चुका है इस वजह से ऑनलाइन भी अलग-अलग प्रकार के आयोजन किए जाते है। धीरे-धीरे अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस का असर लोगों पर दिख रहा है और स्त्री को समाज में सम्मान और एक नया दर्जा देने का प्रयास किया जा रहा है।

Girls Child Day Essay in Hindi FAQ’s

Q. अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस कब है?

हर साल अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस 11 अक्टूबर को मनाया जाता है।

Q. अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस क्यों मनाया जाता है?

अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस स्त्री की परेशानियों के बारे में लोगों को जागरूक करने और समाज में स्त्री को पुरुष के बराबर का सम्मान देने के लिए मनाया जाता है।

Q. भारत में बालिका दिवस क्यों मनाया जाता है?

भारत में बालिका दिवस 26 जनवरी को मनाया जाता है, मगर यह राष्ट्र के अवसर पर मनाया जाता है।

Q. अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस कब से मनाया जा रहा है?

अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस 11 अक्टूबर 2011 से मनाया जा रहा है। इसे 2008 में राष्ट्र संघ में पेश किया गया था जिसके बाद स्त्री की स्थिति के बारे में हर किसी को जागरूक करने के लिए अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस 50 से अधिक देशों में मनाने का ऐलान किया गया।

निष्कर्ष

दोस्तों पोस्ट के जरिए हमने जाना कि, अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस पर निबंध (International Day of Girl Child) क्या। हमारे द्वारा बेहद ही आसान भाषा में यह समझाने का प्रयास किया कि अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस क्या है और इसे क्यों मनाया जाता है। अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस विश्व की सभी स्त्री को सम्मान दिलाने और पुरुष के बराबर का दर्जा समाज में देने के लिए मनाया जाता है। यदि पोस्ट से संबंधित आपके मन में कोई सवाल है, तो हमें कंमेट करें। उत्तर देने में हमें बेहद ही खुशी होगी।

इसे भी पढ़े : 

Ravi Raghuwanshi

रविंद्र सिंह रघुंवशी मध्य प्रदेश शासन के जिला स्तरिय अधिमान्य पत्रकार हैं. रविंद्र सिंह राष्ट्रीय अखबार नई दुनिया और पत्रिका में ब्यूरो के पद पर रह चुकें हैं. वर्तमान में राष्ट्रीय अखबार प्रजातंत्र के नागदा ब्यूरो चीफ है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

DMCA.com Protection Status
पान का इतिहास | History of Paan महा शिवरात्रि शायरी स्टेटस | Maha Shivratri Shayari सवाल जवाब शायरी- पढ़िए सीकर की पायल ने जीता बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड सफल लोगों की अच्छी आदतें, जानें आलस क्यों आता हैं, जानिएं इसका कारण आम खाने के जबरदस्त फायदे Best Aansoo Shayari – पढ़िए शायरी