Newsबड़ी खबर

वेद का दूसरा नाम क्या है? Ved Ka Dusra Naam Kya Hai

वेद का दूसरा नाम क्या है? Ved Ka Dusra Naam Kya Hai

हिंदू धर्म के वेद जो पूरे विश्व में सबसे पुरानी किताबों में से एक है. आज हम पोस्ट के जरिए वेद विषय के बारे में संक्षिप्त जानकारी प्राप्त करेंगे. साथ में यह भी जानेंगे की वेद का दूसरा नाम क्या है ? कहा जाता है की वेदों में दुनिया की सभी दिव्य ज्ञान को समाहित किया गया है. इसे पढ़ने और समझने वाले को असीम और अलौकिक ज्ञान प्राप्त होता है.

वहीं यदि हम इन वेदों की उत्पत्ति के ऊपर ध्यान दें तब हमें ये जानने को मिलेगा की असल में इन वेदों को किसी इंसान द्वारा नहीं लिखा गया है. यही कारण है की इन्हें “अपौरुषेय (Apaurusheya)” भी कहा जाता है. इसलिए बहुत से वेदों के अद्वेताओं का मानना है की वेद मानव जाती की शुरुआती पुस्तकें में गिनी जाती हैं और इन्हें विश्व साहित्य में अद्वितीय स्थान भी प्रदान किया गया है. तो फिर आज के इस पोस्ट में हम ये जानेंगे की वेद को किस दूसरे नाम से जाना जाता है.

वेद का दूसरा नाम क्या होता है?

वेद का दूसरा नाम है “श्रुति“. श्रुति का अर्थ होता है सुनना. कारण वेद सृष्टि के सृजनहार ब्रह्म जी के द्वारा ऋषि, मुनियों को सुनाए गए ज्ञान पर आधारित है. यही कारण है की इसे श्रुति के नाम से भी जाना जाता है. वहीं बाद में इसे ऋषि और मुनियों द्वारा लिपिबद्ध कराया गया है.

ved-ka-dusra-naam-kya-hai

चार वेदों के नाम क्या क्या है?

चार वेदों के नाम कुछ इस प्रकार हैं.

1. ऋग्वेद
2. यजुर्वेद
3. सामवेद
4. अथर्ववेद

इन सभी वेदों का संकलन महर्षि कृष्ण व्यास द्वैपाजन जी ने किया था.

वेद का अर्थ क्या है?

वेद का वास्तविक अर्थ है होता है ज्ञान. पूरे विश्व को इन वेदों में लिखी गई शिक्षा से ही ज्ञान प्राप्त हुआ है. इसलिए हम वेद को ज्ञान का भंडार भी कह सकते हैं. दरअसल ‘वेद’ शब्‍द की उत्‍पत्‍ति संस्‍कृत भाषा के ‘विद्’ धातु से हुई है. इस प्रकार वेद का शाब्‍दिक अर्थ है ‘ज्ञान के ग्रंथ’.

इसी ‘विद्’ धातु से ‘विद्वान’ (ज्ञानी), ‘विद्या’ (ज्ञान) और ‘विदित’ (जाना हुआ) शब्‍द की उत्‍पत्‍ति भी हुई है. कुल मिलाकर ‘वेद’ का अर्थ है ‘जानने योग्‍य ज्ञान के ग्रंथ‘.

वेद की परिभाषा

वेद सबसे पुराने हिंदू पवित्र ग्रंथ हैं, जिन्हें की कई लोगों द्वारा सभी ग्रंथों का मूल भी माना जाता है. ये सबसे पुराने ज्ञात ग्रंथ भी हैं जिनमें योग संबंधी शिक्षाएँ और दूसरी शिक्षाएँ भी शामिल हैं. वेद संस्कृत में लिखे गए हैं और प्राचीन भारत में उत्पन्न हुए हैं. वे हिंदू शिक्षाओं के मूल शास्त्र हैं, जिसमें आध्यात्मिक ज्ञान शामिल है जो जीवन के सभी पहलुओं को समाहित करता है.

सबसे पुराना वेद कौन सा है?

ऋग्वेद सबसे पुराना वेद है. इसे मनुष्य जाति की प्रथम पुस्तक भी मानी जाती है. वहीं ऋग्वेद में कुल 1028 सूक्त और 10580 ऋचाएँ हैं.

वेद कितने वर्ष पुराना है?

वेद कितने वर्ष पुराना है ये सठिक रूप से कोई भी नहीं बता सकता है. लेकिन हाँ वेदों और जगत की उत्पत्ति को एक अरब छियानवे करोड़ आठ लाख बावन हज़ार नौ सौ छहत्तर वर्ष हो चुके हैं. इससे मालूम पड़ता है की ये वेद बहुत ही ज़्यादा प्राचीन हैं और हमारी सभ्यता के आने से पहले से यहाँ महजूद है.

वेदों को किस भाषा में लिखा गया है?

वेदों की भाषा संस्कृत है.

Ravi Raghuwanshi

रविंद्र सिंह रघुंवशी मध्य प्रदेश शासन के जिला स्तरिय अधिमान्य पत्रकार हैं. रविंद्र सिंह राष्ट्रीय अखबार नई दुनिया और पत्रिका में ब्यूरो के पद पर रह चुकें हैं. वर्तमान में राष्ट्रीय अखबार प्रजातंत्र के नागदा ब्यूरो चीफ है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

DMCA.com Protection Status
पान का इतिहास | History of Paan महा शिवरात्रि शायरी स्टेटस | Maha Shivratri Shayari सवाल जवाब शायरी- पढ़िए सीकर की पायल ने जीता बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड सफल लोगों की अच्छी आदतें, जानें आलस क्यों आता हैं, जानिएं इसका कारण आम खाने के जबरदस्त फायदे Best Aansoo Shayari – पढ़िए शायरी