Newsबड़ी खबर

मन्नारशाला – मंदिर परिसर में है 30000 सर्प प्रतिमाएं [Mannarasala Kerala]

सर्प मंदिर, मन्नारशाला – भारत के 7 आश्चर्यों में होती है गिनती, मंदिर परिसर में है 30000 सर्प प्रतिमाएं । Snake Temple Mannarasala Kerala History in Hindi

Snake Temple Mannarasala Kerala History in Hindi : पूरी दुनिया का भार सर्प देव अपने फन पर लेकर बैठे है, वहीं भारत में सांपों को समर्पित दर्जनों मंदिर है, लेकिन इनमें सबसे प्रसिद्ध है मन्नारशाला का स्नेक टेम्पल है. मालूम हो कि, इस टेम्पल की गिनती भारत के सात आश्चर्यों में की जाती है.

snake-temple-mannarasala-kerala-history-in-hindi

मन्नारशाला, आलापुज्हा (अलेप्पी) से मात्र 37  किलोमीटर की दूरी पर स्थित है. यहां पर नागराज और उनकी संगिनी नागयक्षी को समर्पित एक मंदिर है. यह मंदिर करीब 16 एकड़ की भूमि पर फैला है. और आपकी आंखें जिधर जाएगी आपकों सर्पों की प्रतिमाएं ही दिखेंगी. एक अनुमान के अनुसार मंदिर में करीब 30000 के ऊपर संपों की प्रतिमाएं है.

snake-temple-mannarasala-kerala-history-in-hindi

एक बेहद ही प्राचीन किवदंति है कि, महाभारत काल में खंडावा नामक कोई वन प्रदेश था जिसे जला दिया गया था. परन्तु एक हिस्सा बचा रहा जहां पर सर्पों ने और अन्य जीव जंतुओं ने शरण ले ली. मन्नारशाला वहीं जगह बताई जाती है. मंदिर परिसर से ही लगा हुआ एक नम्बूदिरी का साधारण सा खानदानी घर (मना/इल्लम) है.

snake-temple-mannarasala-kerala-history-in-hindi

मंदिर के मूलस्थान में पूजन का कार्य वहां के नम्बूदिरी घराने की बहू निभाती है. जिन्हें वहां पर अम्मा कह कर संबोधित किया जाता है. विवाहित होने के उपरांत भी वह ब्रह्मचर्य का पालन करते हुए दूसरे पुजारी परिवार के साथ अलग कमरे में निवास करती है.

snake-temple-mannarasala-kerala-history-in-hindi

कहा जाता है कि उस खानदान की एक स्त्री निसंतान थी. उसके अधेड़ होने के बाद भी उसकी प्रार्थना से वासुकी प्रसन्न हुआ और उसकी कोख से एक पांच सर लिया हुआ नागराज और एक बालक ने जन्म लिया. उसी नागराज की प्रतिमा इस मंदिर में लगी है.

snake-temple-mannarasala-kerala-history-in-hindi

यहाँ की महिमा यह है कि निस्संतान दम्पति यहाँ आकर यदि प्रार्थना करें तो उन्हें संतान प्राप्ति होती है. इसके लिए दम्पति को मंदिर से लगे तालाब (बावडी) में नहाकर गीले कपड़ों में ही दर्शन के लिए जाना होता है. साथ में ले जाना होता है एक कांसे का पात्र जिसका मुंह चौड़ा होता है. इसे वहां उरुली कहते है.

उस उरुली को पलट कर रख दिया जाता है. संतान प्राप्ति अथवा मनोकामना पूर्ण होने पर लोग वापस मंदिर में आकर अपने द्वारा रखे गए उरुली को उठाकर सीधा रख देते हैं और उसमें चढ़ावा आदि रख दिया जाता है. इस मंदिर से जुड़ी और भी बहुत सारी किंवदंतियाँ हैं.

इसे भी पढ़े :

KAMLESH VERMA

दैनिक भास्कर और पत्रिका जैसे राष्ट्रीय अखबार में बतौर रिपोर्टर सात वर्ष का अनुभव रखने वाले कमलेश वर्मा बिहार से ताल्लुक रखते हैं. बातें करने और लिखने के शौक़ीन कमलेश ने विक्रम विश्वविद्यालय उज्जैन से अपना ग्रेजुएशन और दिल्ली विश्वविद्यालय से मास्टर्स किया है. कमलेश वर्तमान में साऊदी अरब से लौटे हैं। खाड़ी देश से संबंधित मदद के लिए इनसे संपर्क किया जा सकता हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

DMCA.com Protection Status
पान का इतिहास | History of Paan महा शिवरात्रि शायरी स्टेटस | Maha Shivratri Shayari सवाल जवाब शायरी- पढ़िए सीकर की पायल ने जीता बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड सफल लोगों की अच्छी आदतें, जानें आलस क्यों आता हैं, जानिएं इसका कारण आम खाने के जबरदस्त फायदे Best Aansoo Shayari – पढ़िए शायरी