Newsधर्म

निर्जला एकादशी 2022 व्रत, जानें तिथि, मुहूर्त, व्रत विधि और महत्व

दोस्तों पोस्ट के जरिए हम जानेंगे निर्जला एकादशी 2022 (Nirjala Ekadashi 2022) में कब हैं Nirjala Ekadashi 2022 Kab Hai

महत्वपूर्ण जानकारी

  • निर्जला एकादशी
  • सोमवार, 10 जून 2022
  • एकादशी तिथि प्रारंभ: 10 जून, 2022 पूर्वाह्न 07:25 बजे
  • एकादशी तिथि समाप्त: 11 जून, 2022 पूर्वाह्न 05:45 बजे

हिंदू धर्म की पौराणिक मान्यता के अनुसार व्रत और धार्मिक तिथियों में एकादशी के व्रत को सभी व्रतों का राजा माना जाता है. पूरे वर्ष में 24 एकादशी के व्रत आते है लेकिन सभी चौबीस एकादशियों में से निर्जला एकादशी सबसे अधिक महत्वपूर्ण एकादशी है. इसके पीछे का कारण यह है कि, इस एकादशी के उपवास से अन्य सभी एकादशी के उपवास का फल प्राप्त हो जाता है. निर्जला एकादशी 2022 (Nirjala Ekadashi 2022) व्रत ज्येष्ठ शुक्ल की एकादशी तिथि के दिन रखा जाता है. इस साल निर्जला एकादशी 10 जून 2022 को पड़ रही है. 

ये भी पढ़िए : एकादशी 2023 में कब की है?-Ekadashi Kab Ki Hai 2023 List

हिंदू धर्म के पौराणिक शास्त्रों उल्लेख मिलता है कि इसे भीमसेन एकादशी 2022 (Bhimseni Ekadashi 2022), पांडव एकादशी 2022 और भीम एकादशी 2022 के नाम से भी जाना जाता है. जैसा कि नाम से ही आभास हो रहा है कि निर्जला एकादशी व्रत निर्जल रखा जाता है. इस व्रत में जल की एक बूंद भी ग्रहण करना वर्जित माना गया है. व्रत के पूर्ण हो जाने के बाद ही जल ग्रहण करने का विधान है. ज्येष्ठ माह में बिना जल के रहना बहुत बड़ी बात होती है. निर्जला एकादशी का उपवास किसी भी प्रकार के भोजन और पानी के बिना किया जाता है. व्रत के इन्ही कठोर नियमों की वजह से सभी एकादशी व्रतों में निर्जला एकादशी व्रत को सबसे कठिन माना जाता है.

nirjala-ekadashi-2022-kab-hai

व्रत एक दिन पहले क्यों :

निर्जला एकादशी व्रत को करते समय कई श्रद्धालु निर्जला व्रत तिथि के एक दिन पहले से ही भोजन त्याग देते है ताकि व्रत शुरू होने के समय उनके शरीर में किसी भी प्रकार का अन्न नहीं रहे. पौराणिक मान्यता है कि जो व्यक्ति निर्जला एकादशी व्रत को रखता है उसे सालभर में पड़ने वाली समस्त एकादशी व्रत के समान पुण्यफल प्राप्त होता है. इस व्रत करने वालों को जगत के पालनहार भगवान विष्णु जी का आशीर्वाद प्राप्त होता है. यह व्रत एकादशी तिथि के रखा जाता है और अगले दिन यानी द्वादशी तिथि के दिन व्रत पारण विधि-विधान से किया जाता है.

निर्जला एकादशी मुहूर्त :

  • निर्जला एकादशी 2022
  • सोमवार, 10 जून 2022
  • एकादशी तिथि प्रारंभ: 10 जून, 2022 पूर्वाह्न 07:25 बजे
  • एकादशी तिथि समाप्त: 11 जून, 2022 पूर्वाह्न 05:45 बजे

ये भी पढ़िए :  महाशिवरात्रि 2023 में कब है ? Mahashivratri 2023 Mein Kab Hai

निर्जला एकादशी व्रत विधि :

  • सुबह जल्दी उठकर नित्यकर्म के बाद स्नान करें और व्रत का संकल्प लें.
  • इसके बाद भगवान विष्णु का ध्यान और पूजा करनी चाहिए.
  • पूरे दिन भगवान स्मरण-ध्यान व जाप करना चाहिए.
  • पूरे दिन और एक रात व्रत रखने के बाद अगली सुबह सूर्योदय के बाद सुबह नहा धोकर तैयार हो जाएं.
  • पूजा करके गरीबों, ब्रह्मणों को दान या भोजन कराना चाहिए.
  • इसके बाद खुद भी भगवान का भोग लगाकर प्रसाद लेना चाहिए.

निर्जला एकादशी व्रत कथा :

पौराणिक कथा के अनुसार, महाभारत काल के समय एक बार पाण्डु पुत्र भीम ने महर्षि वेद व्यास जी से पूछा- हे परम आदरणीय मुनिवर! मेरे परिवार के सभी लोग एकादशी व्रत करते हैं और मुझे भी व्रत करने के लिए कहते हैं. लेकिन मैं भूखा नहीं रह सकता हूं अत: आप मुझे कृपा करके बताएं कि बिना उपवास किए एकादशी का फल कैसे प्राप्त किया जा सकता है. भीम के अनुरोध पर वेद व्यास जी ने कहा- पुत्र! तुम ज्येष्ठ शुक्ल पक्ष की एकादशी के दिन निर्जल व्रत करो.

इस दिन अन्न और जल दोनों का त्याग करना पड़ता है. जो भी मनुष्य एकादशी तिथि के सूर्योदय से द्वादशी तिथि के सूर्योदय तक बिना पानी पीये रहता है और सच्ची श्रद्धा से निर्जला व्रत का पालन करता है, उसे साल में जितनी एकादशी आती हैं उन सब एकादशी का फल इस एक एकादशी का व्रत करने से मिल जाता है. तब भीम ने व्यास जी की आज्ञा का पालन कर निर्जला एकादशी का व्रत किया था.

nirjala-ekadashi-2022-kab-hai

निर्जला एकादशी व्रत का महत्व :

धार्मिक मान्यता के अनुसार, कहा जाता है कि जो व्यक्ति सच्चे मन के साथ इस व्रत को करता है उसे समस्त एकादशी व्रत में मिलने वाला पुण्य प्राप्त होता है. वह सभी प्रकार के कष्टों से मुक्त हो जाता है. व्रत के साथ-साथ इस दिन दान कार्य भी किया जाता है। दान करने वाले व्यक्ति को पुण्य की प्राप्ति होती है. कलश दान करना बेहद ही शुभ माना जाता है। इससे व्यक्ति को सुखी जीवन और दीर्घायु प्राप्त होती है.

KAMLESH VERMA

दैनिक भास्कर और पत्रिका जैसे राष्ट्रीय अखबार में बतौर रिपोर्टर सात वर्ष का अनुभव रखने वाले कमलेश वर्मा बिहार से ताल्लुक रखते हैं. बातें करने और लिखने के शौक़ीन कमलेश ने विक्रम विश्वविद्यालय उज्जैन से अपना ग्रेजुएशन और दिल्ली विश्वविद्यालय से मास्टर्स किया है. कमलेश वर्तमान में साऊदी अरब से लौटे हैं। खाड़ी देश से संबंधित मदद के लिए इनसे संपर्क किया जा सकता हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

DMCA.com Protection Status
पान का इतिहास | History of Paan महा शिवरात्रि शायरी स्टेटस | Maha Shivratri Shayari सवाल जवाब शायरी- पढ़िए सीकर की पायल ने जीता बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड सफल लोगों की अच्छी आदतें, जानें आलस क्यों आता हैं, जानिएं इसका कारण आम खाने के जबरदस्त फायदे Best Aansoo Shayari – पढ़िए शायरी