महाशिवरात्रि 2023 में कब है ? Mahashivratri 2023 Mein Kab Hai

0
181
mahashivratri-2023-mein-kab-hai
2023 Mein Mahashivratri Kab Hai

Mahashivratri Vrat 2023- भारत में सनातन धर्म में मनाए जाने वाले प्रमुख त्योहारों में से महाशिवरात्रि एक है. दुनिया में भारतीय लोगों को भगवान शिव की पूजा-अर्चना करने के लिए जाना जाता हैं. यह पर्व लूनी-सौर महीने में माह में आता है, जो हिंदू पंचांग या कैलेंडर के अनुसार 13 वें या 14 वें दिन आता है. महाशिवरात्रि का पर्व साल में एक बार आता है, जो शीत ऋतु के अंत और ग्रीष्म ऋतु की शुरुआत में मनाया जाता है. प्राचीन धर्म ग्रंथों के अनुसार यह शुभ त्योहार हिंदू पंचांग के माघ या फाल्गुन मास में कृष्ण पक्ष की अमावस्या की चौथी रात को आता है जो अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार फरवरी या मार्च में आता है. चलिए इस पोस्ट में हम अब जानते है की साल 2023 में महाशिवरात्रि कब है- 2023 Mein Mahashivratri Kab Hai.

maha-shivratri-mahatva-muhurat-time-and-history-hindi
Maha Shivratri 2021 Significance

महाशिवरात्रि 2023 में कब है – 2023 Mein Mahashivratri Kab Hai 

शिवरात्रि (भगवान शिव की पूजा की रात) फाल्गुन माह की अमावस्या से एक रात पूर्व मतलब चतुर्दशी के शुरू होते ही, सीधे शब्दों में कहा जाए तो, जब हिंदू भगवान शिव की विशेष प्रार्थना करते हैं. जो माया और भ्रम के विनाश के स्वामी हैं. 2023 Mein Mahashivratri Kab Hai- साल 2023 में महाशिवरात्रि 18 फरवरी 2023 दिन शनिवार की है।

महाशिवरात्रि 2023 मुहूर्त का समय- Mahashivratri 2023 Puja Muhurat kya hai

आपकों जानना जरूरी है कि महाशिवरात्रि शब्द तीन शब्दों के समायोजन से बना हैं, ‘महा’ का अर्थ है ‘महान’ ‘शिव’ हमारे देवता हैं और ‘रात्रि’ का अर्थ है ‘रात’. इन तीनों का शाब्दिक अर्थ “शिव की महान रात” है. हिंदू धर्म में पौराणिक मान्यताएं है कि, जब हम अपनी प्रार्थना भगवान शिव को अर्पित करते हैं. हमें अपना बहुमूल्य जीवन देने और सुरक्षा प्रदान करने के लिए हम उनका आभार व्यक्त करते हैं. माघ के महीने में कृष्णा पक्ष की चतुर्दर्शी तिथि को महाशिवरात्रि (Mahashivratri) मनाई जाती है. इस साल होने वाली महाशिवरात्रि का मुहूर्त (Mahashivratri 2023 Puja Muhurat) कुछ इस प्रकार है-

निशीथ काल पूजा मुहूर्त – 19 फरवरी को सुबह 12 बजकर 9 मिनट से लेकर सुबह ही 1 बजे तक। 

जिसकी अवधि लगभग 51 मिनट की रहेगी। 

महाशिवरात्रि पारणा मुहूर्त – 19 फरवरी को सुबह 6 बजकर 56 मिनट से लेकर दोपहर 3 बजकर 24 मिनट तक।

चतुर्दर्शी तिथि प्रारम्भ- 18 फरवरी 2023 को रात 8 बजकर 2 मिनट पर।  

चतुर्दर्शी तिथि समाप्त- 19 फरवरी 2023 को शाम 4 बजकर 18 मिनट पर।

महाशिवरात्रि का महत्व (Shivratri Significance)

भारत ही एक ऐसा देश है जहां पर त्योहारों को मनाएं जाने की भारतीय संस्कृति और इसकी सदियों पुरानी परंपरा का निर्वहन किया जाता है. जहां लोग 365 दिनों में 365 त्योहार मनाते हैं.

भारतीय लोग हर छोटे और बड़े त्योहार को उत्साह के साथ मनाते है. भारतीय लोगों का मानना है कि, अपने दुखों को खत्म करने का सीधा उपाय भगवान का पूजन करना है. महाशिवरात्रि ऐसा पर्व है जिसके अंतर्गत हम शिव का पूजन करते हैं. सीधे शब्दों में कहा जाएं तो पूरे साल में भगवान से मांगी गई प्रार्थनाओं का धन्यवाद देने का समय महाशिवरात्रि पर्व है. हिंदू धर्म में भगवान शिव को हमेशा आदि गुरु का दर्जा दिया जाता है जो ज्ञान और विवेक के सर्जक थे.

हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार महत्त्व

पाैराणिक शिव कथाओं में उल्लेख मिलता है कि, भगवान शिव अपने आप में परम स्वयभूं (जिनका कोई उदगम और अंत नहीं है) है. भगवान शिव के साथ दुनिया शुरू होती है और उनके साथ समाप्त होती है. कई पुराणों में शिव का स्वभाव बेहद ही आक्रामक माना जाता है. यह भी कहा जाता है कि, आम तौर पर उनकी आभा और उपस्थिति हम मनुष्यों द्वारा नियंत्रित नहीं की जाती है, इसलिए वह वर्ष में एक बार पृथ्वी पर आते है और महाशिवरात्रि की रात होती है.

विभिन्न भारतीय राज्य इस त्योहार को अपने तरीके और रीति-रिवाजों में मनाते हैं जिसमें “उज्जैन” भारत के मध्यप्रदेश में एक विशेष महत्व रखता है. “महाकालेश्वर” नामक मंदिर में भव्य रूप से शिवरात्रि की पूजा होती है और इस मंदिर को भगवान शिव का निवास माना जाता है.

उज्जैन की तरह अन्य सभी राज्यों में भी पूजा अपने तरीके से होती है और वो भी विभिन्न नामों और संस्कृतियों के साथ, असम की राजधानी गुवाहाटी में उमानंद मंदिर एक और उदाहरण है. कई विवाहित महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र के लिए शिव की पूजा करती हैं जबकि अविवाहित लड़कियां भगवान शिव की तरह पति पाने की प्रार्थना करती हैं. केवल महिलाएं ही नहीं बल्कि पुरुष भी इस दिन भगवान से प्रार्थना करते हैं. भारत में इस दिन अपनी सुविधा के अनुसार 24 घंटे उपवास रखने की परंपरा है. कुछ निर्जला (बिना जल के) व्रत रखते हैं और कुछ में फल और अन्य मीठे रस होते हैं.

महाशिवरात्रि का इतिहास और कहानी (Maha Shivratri History and Stories)

शिवरात्रि त्यौहार का कई हिंदू पवित्र पुस्तकों जैसे स्कंद पुराण, लिंग पुराण और पद्म पुराण में अपना इतिहास है. इसके कई ऐतिहासिक उदाहरण हैं जो शिव और पार्वती के नाम से जुड़े हुए हैं. इस शुभ दिन पर भगवान शिव और देवी पार्वती ने लंबी तपस्या के बाद शादी की.

एक अन्य पौराणिक उदाहरण के अनुसार इस दिन “समुंद्र मंथन” का एक बड़ा ऐतिहासिक आयोजन हुआ था, इस दौरान जब हलाहल विष उत्पन्न हुआ था. पृथ्वी को जहर के दुष्प्रभाव से बचाने के लिए भगवान शिव ने उस जहर को पी लिया. सभी देवताओं और देवताओं ने पूरी रात भगवान शिव को जागृत रखने के लिए नृत्य और अन्य अनुष्ठान किए. इसलिए उन्हें “नीलकंठ” के नाम से जाना जाता है.

इसे भी पढ़े :

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here