Biography

नीम करोली बाबा: जीवनी, चमत्कार, आश्रम, परिवार और कहानियां | Neem Karoli Baba Biography in Hindi

नीम करौली बाबा इन दिनों काफी चर्चा में हैं, इस पोस्ट के जरिए हम आपको नीम करौली बाबा का जीवन परिचय पर विस्तार पूर्वक प्रकाश डालेंगे। नीम करौली बाबा का असली नाम लक्ष्मण नारायण शर्मा था। बाबा का जन्म सन1900 में भारत के उत्तर प्रदेश के फिरोजाबाद जिले के अकबरपुर गांव में हुआ था। नीम करौली बाबा अपने चमत्कारों के कारण पूरी दुनिया में विख्यात हैं। बाबा का व्यक्तिव इतना खास है कि, उनके चर्च ना केवल भारत में हैं, बल्कि विदेशों में भी इनके नाम की प्रसिद्धि है। यही कारण हैं कि, इनके शिष्य पूरी दुनिया भर में हैं।

इस पोस्ट में हम आपको नीम करौली बाबा का जीवन परिचय उपलब्ध कराने जा रहे हैं, परिचय कई बिंदूओं के आधार पर तैयार किया गया हैं। लेख में आपको Neem Karoli Baba Biography in Hindi  मिलेगी, जिसमें करोली बाबा के बारे में सभी जरुरी जानकारी जुटाकर आपके लिए उपलब्ध कराई गईं हैं। वहीं नीम करौली बाबा कौन हैं इसका जवाब भी आपको इसी लेख के अंदर मिलेगा। हाल ही की बात करें तो भारतीय क्रिकेटर विराट कोली और अनुष्का शर्मा ने नीम करोली बाबा के कैंची धाम पर जाकर उनके दर्शन लाभ लिए थे। जिसके बाद से यह धाम और अधिक सुर्खिंयों में आ चुका है। नीम करोली बाबा क्यों प्रसिद्ध है इसके बारे में भी इसी पोस्ट में बताया गया हैं। इतना ही नहीं नीम करोली बाबा के परिवार के बारे में भी जानकारी जुटा कर इस लेख को तैयार किया गया हैं। नीम करोली बाबा आश्रम कहाँ हैं? इसका सवाल भी आपको इसी लेख के भीतर मिलेगा क्योंकि भारत में सिर्फ एक नहीं बल्कि और भी नीम करोली बाबा आश्रम हैं। नीम करोली बाबा की कहानी के बारे में भी इस लेख के भीतर आपको भरपूर जानकारी मिलेगी। इस लेख को पूरा पढ़े और नीम करौली बाबा के बारे में सब कुछ जानें।

Neem Karoli Baba Biography in Hindi

Table of Contents

टॉपिक नीम करौली बाबा का जीवन परिचय
लेख प्रकार जीवनी
साल 2023
नीम करौली बाबा जन्म सन 1900
नीम करौली बाबा जन्म स्थान उत्तर प्रदेश  के फिरोजाबाद जिले के अकबरपुर गांव
नीम करौली बाबा असली नाम लक्ष्मी नारायण
नीम करौली बाबा पिता नाम दुर्गा प्रसाद शर्मा
नीम करौली बाबा की शादी कब हुई 11 साल की उम्र में
नीम करौली बाबा के बच्चें 3 बच्चें
नीम करौली बाबा की मृत्यु 1973
नीम करौली बाबा मृत्यु स्थान वृंदावन
नीम करौली बाबा किस लिए प्रसिद्ध थे अपने चमत्कारों के लिए

नीम करौली बाबा कौन हैं ?

नीम करोली बाबा या नीब करोरी बाबा को उनके अनुयायी महाराज जी के नाम से संबोधित करते हैं। नीम करोली बाबा एक बेहद ही पूजनीय संत और भगवान हनुमान के बहुत बड़े भक्त थे। पश्चिम में,1960 और 1970 के दशक में भारत की यात्रा करने वाले वह कई अमरिकी नागरिकाें को अपना शिष्य बना चुके थे। बाबा राम दास, भगवान दास, कृष्ण दास, और जय उत्तर इन दासों में सबसे प्रसिद्ध हैं। नीम करोली बाबा एक आध्यात्मिक गुरु थे, जिन्होंने विराट कोहली (क्रिकेटर), अनुष्का शर्मा (बॉलीवुड अभिनेत्री), जूलिया रॉबर्ट्स (हॉलीवुड अभिनेत्री), मार्क जुकरबर्ग (मेटा के संस्थापक) और स्टीव जॉब्स (अमेरिकी उद्यमी) जैसे कई आधुनिक दिनों के प्रभावशाली लोगों को प्रेरित किया है। उनके आश्रम कैंची, ऋषिकेश, वृंदावन, शिमला, फर्रुखाबाद में खिमासेपुर के पास नीम करोली गांव, भारत में भूमिआधार, हनुमानगढ़ी, दिल्ली और ताओस, न्यू मैक्सिको, अमेरिका में हैं।

नीम करोली बाबा कैंची धाम | Neem Karoli Baba Kainchi Dham

बताते चलें कि, नैनीताल-अल्मोड़ा मार्ग पर नीम करोली बाबा का एक छोटा सा आश्रम स्थित है। जहां पर श्री हनुमान जी का एक मंदिर स्थित है। जिसे आमजन कैंची धाम के रूप में जानते हैं। यह भारतीय के बीच बहुत लोकप्रिय है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि, समुद्र तल से 1400 मीटर की ऊंचाई पर यह धाम स्थित है। यह आधुनिक तीर्थ केंद्र श्री नीम करोली बाबा महाराज जी को समर्पित है और उनको भविष्य में याद करने के लिए बनाया गया है। नीम कोराली बाला हनुमान जी के परम भक्त थे। नीम करोली बाबा ने अपने पूरे जीवन में कई चमत्कार किए है, जो आम लोगों के बीच बहुत ही चर्चित है। नीम करोली बाबा की परम और प्रमुख्य शिष्या श्री मां हैं और उन्हीं के द्वारा नीम करोली बाबा के कैंची धाम की देखभाल की जाती हैं। कैंची धाम सिर्फ श्री मां की उपस्थिति में ही  श्री माँ, जो नीम करोली बाबा की प्रमुख शिष्या हैं। कैंची धाम आश्रम की देखभाल अब वह करती हैं जो केवल उनकी उपस्थिति में लोगों के लिए खुला रहता है।

नींम करोली बाबा कैंची धाम अपनी शांति और एकांत में बसे होने के कारण श्रद्धालुओं को काफी लुभाता है। यह आश्रम यहां पहुंचने वाले श्रद्धालुओं को एक प्रकार से मानसिक शांति प्रदान करता है। कैंची धाम आश्रम लोगों को मानसिक शांति दिलाने का कार्य करता है। यह पूरी तरह से पेड़ पौधे, हरियाली में बसा हुआ हैं। भक्त कैंची धाम के इस आश्रम में भी रुक सकते हैं, जो एक बिल्कुल अलग अनुभव है जिसे शब्दों में पीरो पाना बहुत ही  मुश्किल है। इस बात को नकारा नहीं जा सकता है कि,, इन भक्तों से आशा की जाती है कि वे आश्रम के सुबह और शाम के अनुष्ठानों में अनिवार्य रूप से भाग लें। वहीं कई भक्त खुशी-खुशी ऐसा करते हैं। हर साल  15 जून को आश्रम में प्रतिष्ठा दिवस मनाया जाता है। प्रतिष्ठा दिवस के मौके पर देश विदेश से  प्रसाद लेने के लिए बड़ी संख्या में श्रद्धालु कैंची धाम आते हैं। इस प्रकार नीम करोली बाबा आश्रम की यात्रा सिर्फ उनके भक्तों के लिए नहीं बल्कि हर किसी के लिए अवाश्यक हैं जो अपने जीवन के कुछ दिन शांति में बिताना चाहते हैं।

नीम करोली बाबा क्यों प्रसिद्ध है

नीम करोली बाबा एक हिंदू गुरु और भगवान हनुमान के भक्त थे। उनके अनुयायी उन्हें महाराज-जी के रूप में आदर पूर्वक संबाेधित करते हैं। वर्ष 1900 में उत्तर प्रदेश के फिरोजाबाद जिले के अकबरपुर गाँव में लक्ष्मण नारायण शर्मा के रूप में बाबा का जन्म हुआ था। नीम करोली बाबा एक धनी ब्राह्मण परिवार से ताल्लुक रखते थे। 11 वर्ष की उम्र में उनके माता-पिता ने उनका विवाह कर दिया था, लेकिन उन्होंने एक घुमक्कड़ साधु बनने के उद्देश्य से परिवार को त्याग दिया था। परिवार छोड़ने के 10-15 साल बाद महाराज जी के पिता को सूचना मिली कि उनका बेटा उत्तर प्रदेश के फर्रुखाबाद में कहीं देखा गया है। जिसके बाद अपने पिता के अनुरोध पर, वह एक व्यवस्थित विवाहित जीवन जीने के लिए घर लौट आए। उनके दो बेटे और एक बेटी है। हालाँकि, घर पर रहने के दौरान, उन्होंने खुद को विभिन्न सामाजिक कार्यों में व्यस्त रखा। जैसे कि हमने बताया कि वह घुमक्कड़ साधु बनना चाहते थे और बाबा ने अपना घर छोड़ दिया था। उन्होंने पूरे भारत में भ्रमण किया और अलग-अलग जगहों पर उन्हें अलग-अलग नामों से जाना जाता था। यह भी माना जाता है कि 17 साल की उम्र तक बाबा नीम करोली को सब कुछ पता चल गया था। ऐसा माना जाता है कि बाबा नीम करोरी के पास जादुई शक्तियाँ थीं और उन्हें “चमत्कारी बाबा” के नाम में भी जाना जाता है।

नीम करोली बाबा का परिवार

नीम करोली बाबा का जन्म लगभग 1900 के आसपास, गाँव अकबरपुर, फिरोजाबाद जिला, उत्तर प्रदेश, भारत में, दुर्गा प्रसाद शर्मा के एक धनी ब्राह्मण परिवार में हुआ था। उनका वास्तविक नाम लक्ष्मण दास शर्मा रखा गया। यदि उनकी शिक्षा की बात कि जाएं तो उनकी प्राथमिक शिक्षा की शुरुआत अकबरपुर के ही रहीन गांव में हुई। नीम करोली बाबा का विवाह केवल 11 वर्ष की अल्प आयु में कर दिया गया था।  लेकिन उन्होंने दुनिया भ्रमण और साधु बनने के चलते अपना घर छोड़ दिया था। उनके पिता द्वारा काफी अनुरोध के बाद वह अपने घर लौट आए थे और उन्होंने एक सुखी वैवाहिक जीवन जीने का प्रयास किया, जिसके फलस्वरुप उनके दो बेटों और एक बेटी हुई।

नीम करोली बाबा आश्रम कहाँ हैं?

नीम करोली बाबा आश्रम  कैंची धाम | Neem Karoli Baba Kainchi Dham Temple

भारत के उत्तराखंड में हिमालय की सिल्वन तलहटी में स्थित नीम करोली बाबा आश्रम जिसे वर्तमान समय में कैंची धाम के नाम से भी जाना जाता हैं। यह प्रकृति की चादर ओढ़े छोटा और सुंदर आश्रम है। मंदिर के परिसर में भरपूर हरियाली है। इसके चारों ओर स्वच्छ और सुव्यवस्थित कमरों के साथ, आश्रम एक शांत और एकांत रिट्रीट के लिए एकदम सही जगह है। यहां तक कि यहां कोई टेलीफोन लाइन  भी नहीं है। बाहरी दुनिया से यहां आपको कोई परेशान नहीं कर सकेगा।आश्रम एक बहुत ही साधारण दिखने वाले व्यक्ति के इर्द-गिर्द विकसित हुआ जो एक असाधारण संत थे और उनका नाम नीम करोली बाबा था। उस गांव के नाम पर जहां उन्हें पहली बार स्वतंत्रता-पूर्व भारत में एक ट्रेन के प्रथम श्रेणी के डिब्बे में बिना टिकट यात्री के रूप में खोजा गया था। अगले पड़ाव पर अंग्रेज टिकट कलेक्टर ने उन्हें बाहर फेंक दिया था। इसके बाद वह चुपचाप उतर गए और एक पेड़ के नीचे बैठ गए। हालाँकि, उसके बाद ट्रेन नहीं चली, इंजन चालक ने पूरी भाप से जाने की कोशिश की। सभी प्रकार की जाँच केवल यह प्रकट करने के लिए की गई कि ट्रेन सही कार्य क्रम में है या नहीं। भारतीय यात्रियों ने तब टिकट कलेक्टर से कहा कि चूंकि उन्होंने एक पवित्र व्यक्ति को ट्रेन से उतार दिया है, इसलिए ट्रेन नहीं चलेगी। इस तरह की स्थानीय तर्कहीनता पर विश्वास करने से शर्मिंदा, टिकट कलेक्टर ने फिर भी साधु (पवित्र व्यक्ति) को ट्रेन में वापस बुलाया। जिसके बाद बाबा चुपचाप ट्रेन में वापस आ गए, जिसके बाद तुरंत ट्रैन चल पड़ी। बाद में, इस स्थान पर एक सुव्यवस्थित स्टेशन विकसित हुआ, और 1973 में अपना शरीर छोड़ने तक बाबा और भी कई चमत्कारों के लिए प्रसिद्ध हुए।

नीम करोली बाबा आश्रम वृंदावन धाम

वह वृंदाबन ही था जहां महाराजजी ने  सन1973 में अपना शरीर छोड़ने का फैसला किया। नीब करोरी बाबा उत्तर प्रदेश के वृंदावन आश्रम , जोकि मैदानी इलाकों में कृष्णा के पवित्र शहर वृंदाबन में स्थित है वहां अपनी आखिरी सांस ली। पहले मंदिर का उद्घाटन सन 1967 में हुआ था। यह आश्रम मथुरा रोड से कुछ ही दूरी पर परिक्रमा मार्ग पर है।इसी आश्रम के भीतर नीम करोली बाबा/नीब करोरी बाबा का महासमाधि मंदिर भी है। यह हर साल सितंबर में महाराज-जी के महासमाधि भंडारा का स्थल है। इस आश्रम में हनुमानजी मंदिर, दुर्गा देवी मंदिर, सीता राम मंदिर, शिवाजी युगशाला मंदिर और महाराजजी का महासमाधि मंदिर हैं।महाराजजी के वृंदावन आश्रम में साल के हर महीनों में सुंदर उद्यान देखने को मिलते हैं।कुछ पश्चिमी लोगों को इस आश्रम में रहने की अनुमति है। यदि आप आश्रम में रहना चाहते हैं तो परिचय पत्र और आश्रम के साथ पूर्व व्यवस्था अनिवार्य है।

नीम करोली बाला लखनऊ आश्रम

26 जनवरी 1967 को उद्घाटन किए गए इस आश्रम में 2 नीम करोली बाबा की मूर्तियाँ, 2 हनुमान मूर्तियाँ और 2 शिव लिंग शामिल हैं।यह मंदिर लखनऊ में महाराजजी के प्रसाद के वितरण में एक प्रमुख सेवा प्रदान करता है और यह शहर के सबसे अधिक देखे जाने वाले मंदिरों में से एक है।समर्पित कर्मचारियों की बदौलत आश्रम हमेशा भंडारे का आयोजन होता हैं। महाराजजी ने कहा कि लखनऊ संकट मोचन हनुमान-जी (“इच्छा पूर्ण करने वाले हनुमान” के रूप में जाने जाते हैं) “सभी हनुमानों के गवर्नर जनरल” हैं।दीवार भित्ति चित्र: राम और सीता, और राम और लक्ष्मण के साथ हनुमान और बंदरों की सेना और भालू लंका तक पुल का निर्माण करते हैं।कानपुर में महासमाधि भंडारे के तुरंत बाद यहां महासमाधि भंडारा आयोजित किया जाता है। बहुत सीमित संख्या में पश्चिमी लोग कभी-कभी इस आश्रम में ठहरते हैं।

नीब करोली बाबा धाम

सन् 1938 तक लगभग 20 वर्षों तक महाराज जी उत्तर प्रदेश के नीब करोरी गाँव के किनारे पर साधु के रूप में बैठे रहा करते थे।यहां का हनुमान मंदिर हनुमानजी की मूर्ति का मंदिर है ,जिसे महाराजजी ने अपने हाथों से बनवाया था।आश्रम/गुफा क्षेत्र लक्ष्मणदास पुरी रेलवे स्टेशन से आधा किलोमीटर से भी कम दूरी पर है जहां महाराजजी ने ट्रेन से बहुत प्रसिद्ध लीला की थी।नीम करोली बाबा, बाबा नीब करोरी (बाबा नीब करोरी) के रूप में महाराजजी के नामों में सबसे प्रसिद्ध नाम इसी जगह से लिया गया है। यह तब बहुत दुर्गम स्थान था और अब भी यह रास्ते से हट गया है।

नीम करोली बाबा की कहानी

नीम करोली बाबा या महाराज-जी का जन्म 1900 के आसपास उत्तर प्रदेश के फैजाबाद जिले के अकबरपुर गाँव में दुर्गा प्रसाद शर्मा के एक ब्राह्मण परिवार में हुआ था।उनका नाम लक्ष्मी नारायण शर्मा रखा गया था। उनका विवाह 11 वर्ष की छोटी उम्र में हो गया था। हालांकि वह एक घुमंतू साधु बनना चाहते थे।बाद में, वह अपने पिता के अनुरोध पर घर लौट आया। उनके दो बेटे और एक बेटी हुई।नीम करोली बाबा ने साल 1958 में अपना घर छोड़ दिया था। वह बिना टिकट ट्रेन में सवार हो गए। इसलिए, टिकट चेकर (कंडक्टर) ने ट्रेन को रोक दिया और उन्हें यूपी के फर्रुखाबाद जिले के नीब करोरी गांव में ट्रेन से उतार दिया।

हालांकि, जब बाबा को ट्रेन से उतार दिया गया तो पता चला कि ट्रेन फिर से शुरू नहीं हुई। ट्रेन को चालू करने के कई प्रयास किए गए, लेकिन सब बेकार गए। ट्रेन शुरू नहीं हो सकी।तो, किसी ने सुझाव दिया कि उन्हें बाबा को ट्रेन में वापस जाने देना चाहिए। बाबा ट्रेन में चढ़ने के लिए राजी हो गए। हालांकि उन्होंने रेलवे अधिकारियों के सामने एक शर्त रखी। वह चाहते थे कि रेलवे को नीब करोरी गांव में एक स्टेशन बनाना चाहिए।अधिकारियों ने इस अनुरोध पर सहमति व्यक्त की और नीम करोली बाबा ने फिर ट्रेन में चढ़ने का फैसला किया। उन्होंने मजाक में कहा, “क्या ट्रेनों को शुरू करना मेरे ऊपर है?” ट्रेन के ड्राइवर भी चाहते थे कि बाबा उन्हें आशीर्वाद दें। तो, बाबा ने अपना आशीर्वाद दिया और ट्रेन आगे बढ़ गई।

बाद में रेलवे अधिकारियों ने नीब करोरी गांव में एक स्टेशन बनाया। बाबा कुछ समय के लिए नीब करोरी गाँव में रहे और स्थानीय लोगों द्वारा उन्हें “नीम करोली बाबा” नाम दिया गया।तत्पश्चात, नीम करोली बाबा पूरे भारत के उत्तरी भाग में व्यापक रूप से विचरण करते रहे। वह विद्यार्थियों के बीच बहुत प्रसिद्ध हो गए और हांडी वाला बाबा, तिकोनिया वाला बाबा, लक्ष्मण दास और अन्य जैसे कई नाम से प्रसिद्ध हो गए।जब उन्होंने गुजरात में तपस्या या साधना की तो उन्हें तलैया बाबा के नाम से भी जाना जाने लगा। वृंदावन के स्थानीय लोग उन्हें चमत्कारी बाबा (चमत्कारी बाबा) के नाम से पुकारते थे।

उनके जीवनकाल में दो मुख्य आश्रम बने। एक वृंदावन में था, और दूसरा कैंची में था। यह कैंची आश्रम में था जहाँ बाबा अपनी गर्मी के दिन बिताया करते थे। इसके अलावा, उनके नाम पर सैकड़ों मंदिरों का निर्माण किया गया। नैनीताल-अल्मोड़ा मार्ग पर स्थित मंदिर हिंदुओं के लिए एक महत्वपूर्ण तीर्थ स्थल बन गया है।नीम करोली बाबा का 11 सितंबर 1973 की सुबह लगभग 1:15 बजे वृंदावन के एक अस्पताल में डायबिटिक कोमा का अनुभव करने के बाद निधन हो गया।श्री नीम करोली बाबा ने जीवन भर भक्ति योग का अभ्यास और प्रचार किया। उनके अनुसार, दूसरों की सेवा (सेवा) ईश्वर के प्रति बिना शर्त भक्ति का सर्वोच्च रूप है।

हालांकि उन्होंने कोई प्रवचन नहीं दिया। इसके अलावा, उनका कोई जीवनी खाता उपलब्ध नहीं है। वह वर्षों में दिखाई दिए और गायब हो गए। केवल सरलतम कहानियाँ ही ज्ञात हैं जिन्होंने उनकी शिक्षाओं का रूप धारण किया है।आमतौर पर, वह लकड़ी की बेंच पर एक प्लेड कंबल में लपेटकर बैठ या लेटा करते थे। उनके आसपास गिने-चुने भक्त बैठते थे। दर्शनार्थियों का आना-जाना लगा रहता था। उन्हें भोजन दिया गया, कुछ शब्द बोले गए और सिर या पीठ पर थपथपाया गया और फिर उन्हें विदा कर दिया गया।उन्हें चुटकुले पसंद थे। इसलिए, जब वह आगंतुकों को देखते थे तो गपशप और हँसी ठिठोली अक्सर होती थी। वह भी मौन में बैठते थे, अपने अनुयायियों पर अपना आनंद और शांति उंडेलते थे।

नीम करोली बाबा सोशल मीडिया लिंक्स

Website- Neem Karoli Baba Ashram (nkbashram.org)

FAQs: Neem Karoli Baba Biography

Q. नीम करोली बाबा का जन्म कब और कहां हुआ था?

Ans. नीम करोली बाबा यानी कि महाराज-जी का जन्म 1900 के आसपास उत्तर प्रदेश के फैजाबाद जिले के अकबरपुर गाँव में दुर्गा प्रसाद शर्मा के एक धनी ब्राह्मण परिवार में हुआ था।

Q. नीम करोली बाबा किस लिए प्रसिद्ध थे? 

Ans. नीम करोली बाबा प्रेम, भक्ति और मानवता की सेवा के बारे में अपनी धार्मिक शिक्षाओं के लिए प्रसिद्ध थे। 

Q. नीम करोली बाबा का असली नाम क्या था और उनकी शादी कब हुई थी? 

Ans.नीम करोली बाबा का असली नाम लक्ष्मी नारायण शर्मा रखा गया था। केवल 11 वर्ष की आयु में उनका विवाह हो गया था।

Q. नीम करोली बाबा किसके सबसे बड़े भक्त थे ?

Ans. नीम करोली बाबा हनुमान जी के सबसे बड़े भक्त थे।

Q. नीम करोली बाबा को और किस नाम से जाना जाता था ?

Ans. नीम करोली बाबा चमत्कारी बाबा के नाम से भी जाना जाता था।

Q. नीम करोली बाबा की मृत्यु कब और कहां हुई थी?

Ans. नीम करोली बाबा की मृत्यु 1973 में मथुरा वृंदावन में हुई थी।

Ravi Raghuwanshi

रविंद्र सिंह रघुंवशी मध्य प्रदेश शासन के जिला स्तरिय अधिमान्य पत्रकार हैं. रविंद्र सिंह राष्ट्रीय अखबार नई दुनिया और पत्रिका में ब्यूरो के पद पर रह चुकें हैं. वर्तमान में राष्ट्रीय अखबार प्रजातंत्र के नागदा ब्यूरो चीफ है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

DMCA.com Protection Status
चुनाव पर सुविचार | Election Quotes in Hindi स्टार्टअप पर सुविचार | Startup Quotes in Hindi पान का इतिहास | History of Paan महा शिवरात्रि शायरी स्टेटस | Maha Shivratri Shayari सवाल जवाब शायरी- पढ़िए सीकर की पायल ने जीता बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड सफल लोगों की अच्छी आदतें, जानें आलस क्यों आता हैं, जानिएं इसका कारण आम खाने के जबरदस्त फायदे Best Aansoo Shayari – पढ़िए शायरी