Nagda News : बिरला के ग्रेसिम उद्योग को बचाने में जुटा शासन और प्रशासन

0
159
बिरला के ग्रेसिम उद्योग नागदा को बचाने में जुटा शासन और प्रशासन | Nagda News: Governance and administration engaged in saving Birla’s Grasim industry
Nagda News |  ग्रेसिम उद्योग में 3 दिन पूर्व हुए गैस कांड की घटना से जहां लोग दहशत में है। वहीं प्रशासन और शासन ने उद्योग को प्रथम दृष्टया में क्लीन चिट दे दी है। जिससे यह सिद्ध होता है कि, कानून सिर्फ आम लोगों के लिए बना है।
मध्यप्रदेश शासन के जनसंपर्क विभाग ने भोपाल से जारी बयान में कहा है कि ग्रेसिम उद्योग में हुई हुए गैस रिसाव का जनजीवन पर नकारात्मक प्रभाव नहीं है।
विभाग के इस बयान के बाद स्थानीय स्तर के अधिकारियों ने भी ग्रेसिम उद्योग को बचाने में जुट गए है। उज्जैन कलेक्टर द्वारा गठित की गई जांच टीम ने भी अभी तक जांच शुरू नहीं की है।
जांच दल के मुखिया एसडीएम आशुतोष गोस्वामी से जब चर्चा की गई तो उनका कहना था कि जांच में समय लगेगा। और वैसे भी जनसंपर्क विभाग ने कह दिया है, कि गैस कांड कोई जानलेवा घटना नहीं थी।
औद्योगिक स्वास्थ्य एवं सुरक्षा विभाग ने भी अभी तक प्रकरण दर्ज नहीं किया है। हालांकि विभाग ने ग्रेसिम उद्योग के कुछ अधिकारियों को बयान के लिए संभागीय कार्यालय उज्जैन तलब किया था।
नागदा उद्योग से पांच अधिकारियों का एक दल विभाग के संभागीय कार्यालय पर बयान भी दर्ज करा चुका है।
नहीं हुआ अभी तक प्रकरण दर्ज
गौरतलब है कि बीते बुधवार शाम को ग्रेसिम उद्योग से गैस का रिसाव हुआ था। जिससे शहर में अफरा तफरी मच गई थी।
चारों ओर धुआ धुआ नजर आ रहा था। इस रिसाव से आधा दर्जन से अधिक लोगो के स्वास्थ्य पर भी प्रभाव पड़ा था । करीब 2 घंटे तक शहर वासियों की की जान आफत में आ गई थी।
लगभग 6 बजे तक स्थिति सामान्य हुई थी। इस घटना के बात बाद उज्जैन कलेक्टर ने इन सदस्यों की एक जांच कमेटी का गठन किया था।
इस टीम ने एसडीएम के अलावा प्रदूषण एवं औद्योगिक स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी शामिल हैं। नियम के तहत शहर में जब कोई इस प्रकार की घटना होती है तो पुलिस पुलिस को अधिकार है कि वह संबंधित के खिलाफ प्रकरण दर्ज करें।
साथ ही स्वास्थ्य विभाग भी औद्योगिक स्वास्थ्य विभाग को भी प्रकरण दर्ज करने का अधिकार है। लेकिन घटना के 3 दिन बीत जाने के बाद भी दोनों विभाग ने अब तक कोई प्रकरण दर्ज नहीं किया है।
इनका कहना –
जांच मैं अभी समय लगेगा। मैं अभी उद्योग में जांच करने नहीं गया हूं । जांच सुरक्षा व प्रदूषण विभाग के अधिकारी कर रहे हैं । रिपोर्ट आने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी। जनसंपर्क विभाग ने कह दिया है कि घटना गंभीर नहीं है
आशुतोष गोस्वामी, एसडीएम, नागदा
इनका कहना-
ग्रेसिम उद्योग में हुए गैस कांड के मामले में उद्योग के अधिकारियों को उज्जैन तलब किया था । उनके बयान दर्ज कर लिए हैं । जांच चल रही है ।इसके बाद ही प्रकरण दर्ज किया जाएगा ।
हिमांशु सालोमन, डिप्टी डायरेक्टर स्वास्थ्य एवं सुरक्षा विभाग, उज्जैन

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here