ग्रेसिम उद्योग नागदा में गैस रिसाव, नागदा में मची भगदड़, सात लोग पहुंचे अस्पताल

0
419
गैस की चपेट में आने से मृत हुआ तोता। फोटो सोर्स : हिमांशु प्रजापति
ग्रेसिम उद्योग नागदा में गैस रिसाव, नागदा में मची भगदड़, सात लोग पहुंचे अस्पताल । Gas leak in Grasim Udyog Nagda, stampede in Nagda, seven people reached hospital
Grasim Nagda News ।  शहर में बुधवार की शाम 4.15 बजे भगदड की स्थिति निर्मित हो गई। बिरलाग्राम स्थित ग्रेसिम उद्योग नागदा (Grasim Nagda ) में हुए गैस रिसाव ने शहर को अपने आगोश में ले लिया और पूरा शहर गैस की चपेट में आ गया।  जिससे लोग थम से गए और घरों में कैद हो गए। शहरवासियों को जैसे ही पता चला कि यह उद्योग की और से गैस रिसाव हुआ तो कई लोग तो नागदा शहर से जंगल व ग्रामीण क्षेत्र की और पलायन तक कर गए।
गैस रिसाव का आलम यह था कि बिरलाग्राम, मण्डी एवं पूरा रेलवे का क्षेत्र गहरे घुएं की आगोश में था तथा सामने खड़ा व्यक्ति भी दिखाई नहीं दे रहा था। मंजर इतना भयावह था कि जिस तरफ हवा का रूख था उस और ही गैस बढती हुई दिखाई दी। गैस रिसाव की खबर लगते ही प्रशासनिक महकमा भी हरकत में आ गया और उद्योग की और अधिकारी दौड पडे़।
लगभग एक से डेढ घंटे के बाद स्थिति सामान्य हुई। रिसाव से कई लोगों के स्वास्थ्य पर प्रभाव पडा। खांसी, बैचेनी, सांस लेने में तकलीफ, सिरदर्द जैसी तकलीफें हुई तथा निजि अस्पतालों में जाकर नागरिकों ने अपना उपचार करवाया। शासकीय अस्पताल में भी आधा दर्जन से अधिक मरीज पहुंचे जिन्हें प्राथमिक उपचार के बाद घर भेज दिया गया।
इधर गैस रिसाव के चलते ग्रेसिम उद्योग द्वारा संचालित इन्दुभाई पारिख मेमोरियल ट्रस्ट हॉस्पिटल में भी टीम को अलर्ट कर दिया गया और एम्बुलेंस को शहर की और रवाना किया गया। गनीमत रही कि उद्योग में भोपाल जैसी जहरीली गैस का रिसाव नहीं हुआ अन्यथा शहर में भी स्थिति बिगड़ सकती थी। उद्योग प्रबंधन का कहना है कि एसओ-3 सल्फर ट्राय ऑक्साईड का रिसाव हुआ है।
प्रशासन नहीं दिखा गंभीर
गैस रिसाव को लेकर प्रशासन गंभीर दिखाई नहीं दिया। अलग-अलग विभाग के अधिकारी इसे मामुली घटना बता रहे हैं तो कुछ जिम्मेदार अधिकारी तो मौके पर भी नहीं पहुंचे। अधिकारियों से इस बारे में जब पूछा गया तो उनका कहना था कि अभी वह बैठक में व्यस्त हैं।
देर शाम तक जिला मुख्यालय से भी कोई भी वरिष्ठ अधिकारी नागदा नहीं पहुंचे। हालांकि एसडीएम आशुतोष गोस्वामी का कहना था कि वह 4.45 बजे उद्योग परिसर पहुंच गए थे और कलेक्टर को जानकारी दे दी थी।
घटना स्थल करवाया खाली
गैस रिसाव से उद्योग परिसर में भी हलचल मच गई। श्रमिकों को तुरंत उद्योग के बाहर घर भेज दिया गया। उद्योग में कार्य करने वाले श्रमिकों के परिजन भी गैस रिसाव की खबर सुनते ही उद्योग की और भाग पडे। शाम 4.30 बजे से श्रमिकों का उद्योग के बाहर आने का सिलसिला प्रारंभ हो गया था। लगभग 100 से अधिक श्रमिकों को समय से पहले घर भेजा गया। जबकि श्रमिकों के घर जाने का समय शाम 5 बजे का था। हमारे संवाददाता ने कुछ ठेका श्रमिकों से बात की तो उनका कहना था कि हमें कहा गया है कि आप घर जाऐं। शाम 5.15 बजे के बाद उद्योग एवं शहर में स्थिति सामान्य होने लगी।
थाना प्रभारी को नहीं जाने दिया अंदर
घटना की सूचना मिलते ही शाम 4.30 बजे बिरलाग्राम थाने के प्रभारी आरके सिंगावत ग्रेसिम उद्योग पहुंचे और पावर हाउस गेट से अंदर जा रहे थे लेकिन उन्हें टाईम ऑफिस के बाहर ही रोक दिया गया। लगभग 10 मिनिट के इंतजार के बाद थाना प्रभारी ने वहां मौजूद सुरक्षाकर्मियों को फटकार लगाई तो उनका कहना था कि उद्योग के वरिष्ठ अधिकारियों का आदेश आने के बाद ही अंदर जाने दिया जाएगा। हालांकि बाद में थाना प्रभारी को अंदर जाने दिया।

क्या बोले संभागीय अधिकारी

औद्योगिक स्वास्थ्य एवं सुरक्षा विभाग के सहायक संचालक अरविंद कुमार शर्मा ने बताया अभी यह पता नहीं चला किस गैस का रिसाव हुआ। संभव सल्फर ट्राईआक्साइड का रिसाव हुआ। उन्होनें शीघ्र नागदा पहुंचने का दावा किया। इसी प्रकार से अधिकारी हिमांशु नीमच दौर पर थे उन्होंने भी बताया वे रास्ते में हैं नागदा पहुंच रहे हैं।

इनका कहना है –
सायं लगभग 4 बजे एसिड प्लांट नंबर 1 में मेंटेनेंस कार्य किया जा रहा था।ओलियम संबंधी आइसोलेट उपकरण में पिछले शनिवार से ही किया जा रहा था। लाइनों की सफाई का काम चल रहा था,  ड्रेन वॉल्व की सफाई प्रक्रिया के दौरान निर्धारित कार्यविधि के अनुसार लाइन क्लीनिंग के साथ  ड्रेन वॉल्व से थोड़ी मात्रा में ओलियम निर्धारित पैरा पेड वाल्व के अंदर फैल गया जिससे सल्फर ट्राई ऑक्साइड गैस निकलने लगी। उपलब्ध सुरक्षा संसाधनों के साथ इसे तुरंत नियंत्रित कर दिया गया था। ग्रेसिम प्रबंधन स्थिति को नियंत्रित करने के लिए वहीं पर मौजूद रहा। अभी स्थिति पूरी तरह नियंत्रण में है। वस्तुस्थिति पता चलने के बाद सामान्य जीवन पूरी तरह बहाल हो गया है। इसमें किसी भी प्रकार की कोई जान माल की हानि नहीं हुई है।
संजय व्यास, वरिष्ठ जनसंपर्क अधिकारी, ग्रेसिम नागदा

 

इसे भी पढ़े :

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here