Newsधर्म

नवरात्रि पूजन सामग्री लिस्ट | Navratri Puja Samagri List 2024

नवरात्रि पूजन सामग्री लिस्ट | Navratri Puja Samagri List 2024: हिंदू धर्म में एक वर्ष में चार बार नवरात्री पर्व मनाया जाता है। जिसमें दो गुप्त नवरात्री, चैत्र नवरात्री व शारदीय नवरात्री मनाया जाता है। माता के उपासकों को पूरे वर्ष नवरात्री पर्व का बेसब्री से इंतजार रहता है। नौ दिनों तक चलने वाले पर्व को बहुत ही शुद्धता और पवित्रता के साथ मनाया जाता है। नवरात्र पर्व की सबसे अधिक धूम पश्चिम बंगाल में देखने को मिलती है। कोलकत्ता में नवरात्र पर्व को दुर्गा पूजा के नाम से जाना जाता है। आइये पोस्ट के जरिए जानें नवरात्रि क्यों मनाया जाता हैं, एवं नवरात्रि पूजन सामग्री लिस्ट की संपूर्ण सूची।

नवरात्रि क्यों मनाया जाता है

Navratri Kyu Manaya Jata Hai : हिंदू धर्म में प्रत्येक त्यौहार को मनाए जाने के पीछे कुछ ना कुछ पौराणिक कथा प्रचलित होती है। इसी प्रकार नवरात्रि का त्यौहार मनाने के पीछे एक पौराणिक कथा है जो निम्नवत है “महिषासुर नामक एक बेहद ही शक्तिशाली राक्षस ने अमरता वरदान प्राप्त करने के लिए ब्रह्मा की कठोर तपस्या की। जिससे प्रसन्न होकर ब्रह्मा जी ने महिषासुर से वरदान मांगने को कहा। महिषासुर ने वरदान के रूप में अमरता मांग ली।

महिषासुर की इस बात पर ब्रह्माजी ने कहा “इस संसार जो भी पैदा हुआ है उसकी मृत्यु निश्चित है” ऐसे में जीवन एंव मृत्यु के अतिरिक्त जो भी मांगना है मांग लो।

इस बात को सुनकर महिषासुर ब्रह्मा जी वरदान कुछ इस तरह से मांगता है- ” मुझे ऐसा वरदान दे- मेरी मृत्यु न देवता, न मानव, न असुर के हाथो हो अगर हो तो किसी स्त्री के हाथो से हो” ब्रह्मा जी ने तथास्तु कहकर वरदान दे दिया।

किसी से भी न मरने का वरदान पाकर महिषासुर राक्षसों का राजा बन गया है उसके बाद देवताओं पर आक्रमण कर दिया एंव देवलोक पर अपना राज स्थापित कर लिया।

देवलोक हारने के बाद सभी देवता भगवान विष्णु के साथ मिलकर आदि शक्ति की आराधना किया जिससे दिव्य ज्योति निकली यह दिव्य ज्योति बहुत ही खुबसूरत अप्सरा का रूप धारण किया जिसे देवी दुर्गा नाम से जाना जाने लगा।

देवी दुर्गा की सुन्दरता से महिषासुर भुत ही प्रभावित हुआ इसलिए देवी दुर्गा से बार आर शादी करने की इच्छा प्रकट करता रहा ऐसे में देवी दुर्गा मान गई लेकिन लड़ाई की शर्त रख दिया।

शर्त में महिषासुर द्वारा देवी दुर्गा मां को हराना था महिषासुर लड़ाई के लिए मान गया ऐसे में लड़ाई 9 दिन तक चलती रही और दसवे दिन देवी दुर्गा में ने महिषासुर को खत्म कर दिया इस घटना के बाद से ही नवरात्रि या नवरात्र का त्यौहार मनाया जाता है।

नवरात्रि या नवरात्र पर मां दुर्गा की पूजा के लिए मां दुर्गा की मूर्ति या तस्वीर होने के साथ निम्नलिखित सामग्री इकठ्ठा करें

  • नवरात्री पर पूजा या पूजन के लिए सामग्री में
  • मां दुर्गा की तस्वीर या मूर्ति चाहिए अगर चाहे तो पूजन या पूजा के लिए मां दुर्गा के पूरे नौ स्वरूप तस्वीर ले
  • फूल
  • फूल माला
  • आम के पत्ते
  • पान
  • सुपारी, लौंग
  • बताशा
  • हल्दी की गांठ
  • थोड़ी पिसी हुई हल्दी
  • आसन
  • चौकी में बिछाने के लिए लाल रंग का कपड़ा
  • बंदनवार
  • सिंदूर
  • नारियल जटा वाला
  • सूखा नारियल
  • नवग्रह पूजन के लिए सभी रंग या फिर चावलों को रंग लें
  • दूध
  • सोलह श्रृंगार (बिंदी, चूड़ी, तेल, कंघी, शीशा आदि)
  • चौकी
  • मौली
  • रोली
  • कमलगट्टा
  • नैवेध
  • जावित्री
  • वस्त्र
  • दही
  • पूजा की थाली
  • दीपक
  • घी
  • अगरबत्ती
  • शहद
  • शक्कर
  • पंचमेवा
  • गंगाजल

कलश स्थापना के लिए नवरात्रि पूजन सामग्री लिस्ट

  • कलश स्थापना के लिए नवरात्रि पूजन सामग्री निम्नवत है
  • कलावा, जटा वाला नारियल
  • जल
  • मिट्टी का घड़ा
  • थोड़ी सी मिट्टी
  • मिट्टी का ढक्कन
  • मिट्टी की कटोरी के ऊपर रखने के लिए चावल या गेहूं
  • एक मिट्टी का दीपक
  • थोड़ा सा अक्षत
  • हल्दी-चूने से बना तिलक
  • गंगाजल
  • लाल रंग का कपड़ा
  • पान के पत्ते, बौने के लिए जौ
  • कलश के नीचे रंगोली बनाने के लिए आटा या रंग

मां दुर्गा के सोलह श्रृंगार के लिए नवरात्रि पूजन सामग्री लिस्ट

  • लाल चुनरी
  • लाल चूड़ियां
  • सिंदूर
  • बिंदी
  • पायल
  • नेल पेंट
  • लाली (लिपस्टिक)
  • महावर
  • बिछिया
  • इत्र
  • काजल
  • मेहंदी
  • कान की बाली
  • कंघी
  • शीशा
  • गले के लिए माला या मंगलसूत्र
  • चोटी
  • मांग टीका
  • चोटी के लिए बैंड
  • नथ
  • गजरा

इसे भी पढ़े : 

KAMLESH VERMA

दैनिक भास्कर और पत्रिका जैसे राष्ट्रीय अखबार में बतौर रिपोर्टर सात वर्ष का अनुभव रखने वाले कमलेश वर्मा बिहार से ताल्लुक रखते हैं. बातें करने और लिखने के शौक़ीन कमलेश ने विक्रम विश्वविद्यालय उज्जैन से अपना ग्रेजुएशन और दिल्ली विश्वविद्यालय से मास्टर्स किया है. कमलेश वर्तमान में साऊदी अरब से लौटे हैं। खाड़ी देश से संबंधित मदद के लिए इनसे संपर्क किया जा सकता हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

DMCA.com Protection Status
पान का इतिहास | History of Paan महा शिवरात्रि शायरी स्टेटस | Maha Shivratri Shayari सवाल जवाब शायरी- पढ़िए सीकर की पायल ने जीता बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड सफल लोगों की अच्छी आदतें, जानें आलस क्यों आता हैं, जानिएं इसका कारण आम खाने के जबरदस्त फायदे Best Aansoo Shayari – पढ़िए शायरी