Newsधर्म

घबराहट और डर खत्म करने का मंत्र | घबराहट दूर करने का मंत्र – Ghabrahat Dur Karne Ka Mantra

घबराहट और डर खत्म करने का मंत्र | घबराहट दूर करने का मंत्र – Ghabrahat Dur Karne Ka Mantra

डर नाम ही काफी है, फिर चाहे वह किसी इंसान का हो या किसी कार्य को करने का….डर हर इंसान को होता है। डर के कारण घबराहट होने लगती है। घबराहट और डर लगने का कोई स्पष्ट कारण नहीं है, यह इंसान के दिमाग में होता है। पोस्ट के जरिए आज हम आपकों आपको घबराहट और डर खत्म करने का बेहद ही सरल और आसान मंत्र बता रहे हैं।

घबराहट और डर को कैसे दूर किया जा सकता है, घबराहट और डर खत्म करने का मंत्र क्या है, घबराहट दूर करने का मंत्र क्या है इसकी पूरी जानकारी हम आपको दे रहे हैं। इसके साथ ही घबराहट दूर करने का मंत्र बताने जा रहे हैं। हम आपकों पूरा यकीन दिला रहे हैं कि,  यदि आप घबराहट दूर करने के लिए इस मंत्र का जाप करेंगे तो आपकी घबराहट और डर नष्ट हो जाएगा। घबराहट और डर को खत्म करने का मंत्र जानने के लिए इस पोस्ट को शुरू से लेकर अंत तक जरूर पढ़े।

ghabrahat-dur-karne-ka-mantra
Ghabrahat Dur Karne Ka Mantra

घबराहट और डर खत्म करने का मंत्र

हिंदू धर्म के पौराणिक ग्रंथाें में घबराहट और डर खत्म करने के अनगिनत मंत्र हैं। हिंदू धर्म में 33 कोटि देवी देवता हैं। इनमें से कुछ ऐसे देवी देवता हैं जिनका स्मरण मात्र से घबराहट और डर इंसान के मस्तिष्क से हमेशा के लिए दूर हो जाता है।

कलयुग में माना जाता है कि भगवान श्री हनुमान का स्मरण मात्र से घबराहट और डर नष्ट हो जाता हैं, बावजूद यदि आपकों घबराहट और डर को खत्म करना हैं तो आज के इस पोस्ट के जरिए हम आपकों बेहद ही प्रभावी एवं चमत्कारिक मंत्र बता रहे हैं। यदि आप इन मंत्रों का जाप करते हैं तो घबराहट और डर क्षण भर में नष्ट हो जाएगा।

घबराहट दूर करने का हनुमान मंत्र

भगवान श्री हनुमान एक ऐसे देवता हैं जो आज भी कलयुग में सर्वत्र विचरण कर रहे हैं। सात चिरंजीवी में से भगवान हनुमान को भी एक विशेष देव माना जाता है। भगवान हनुमान साक्षात शिव के ही अवतार हैं।

घबराहट एवं डर को खत्म करने के लिए भगवान हनुमान का नित्य पूजन करना चाहिए। घबराहट और डर को खत्म करने का मंत्र यही है कि नित्य सुबह शाम हनुमान चालीसा का पाठ करें या फिर भगवान हनुमान जी का स्मरण करें। घबराहट दूर करने का हनुमान मंत्र निम्न है

ओम् हं हनुमते नमः भयं नाशय 

भूत पिशाच निकट नहि आवे।

महाबीर जब नाम सुनावे।।

इस मंत्र का जाप कम से कम 21 बार अथवा 108 बार करें। शीघ्र ही घबराहट एवं डर से शांति मिलेगी।

इन्हें भी देखें- 👇

Click-लड़का पैदा करने के घरेलू उपाय – 

Click- पीरियड आगे करने की टेबलेट –

Click- Period में Lip Kiss करने से क्या होता है – 

Click- Manforce खाने से क्या होता है – 

घबराहट और डर को खत्म करने का विष्णु मंत्र

दोस्तों यदि आप श्री भगवान विष्णु के भक्त हैं तो आपके लिए हमारे पास बेहद ही अच्छा विष्णु के मंत्र है। इस मंत्र का जाप करने से रोग शोक भय ताप संताप सब दूर हो जाते हैं। घबराहट को दूर करने का मंत्र भगवान विष्णु की भक्ति करना है। घबराहट को दूर करने के लिए भगवान विष्णु के निम्न मंत्र का जाप करें।

ॐ नमो भगवते वासुदेवाय भयहारिणे

उपरोक्त इस मंत्र का 21 बार जाप करने से जल्द ही भय, डर एवं चिंता से निजात मिलेगी। भूत प्रेत अथवा पिशाच आदि के डर से भी यह मंत्र मुक्ति दिलाता है।

घबराहट और डर को खत्म करने का दुर्गा मंत्र

यदि आप समस्त प्रकार का भय नाश का मंत्र जानना चाहते हैं तो इसके लिए मां आदिशक्ति की शरण में जा सकते हैं। मां आदिशक्ति के विभिन्न ऐसे मंत्र हैं जो समस्त प्रकार के रोग शोक संताप भय बाधा आदि को दूर कर लेते हैं। घबराहट को दूर करने का दुर्गा मंत्र निम्न है

ॐ सर्वस्वरूपे सर्वेशे सर्वशक्तिसमन्विते।

भयेभ्यस्त्राहि नो देवि दुर्गे देवि नमोऽस्तुते।।

घबराहट एवं डर आदि को दूर करने के लिए उपरोक्त मंत्र बहुत ही प्रभावशाली है। इस मंत्र का 8 बार अथवा 21 बार जाप करने से भय शीघ्र ही खत्म हो जाता है।

घबराहट और डर को खत्म करने का शिव मंत्र

यदि आप भगवान शंकर के उपासक हैं और भय नाश के लिए अथवा डर को खत्म करने के लिए भगवान शिव का मंत्र ढूंढ रहे हैं तो घबराहट और डर को खत्म करने के लिए इस शिव मंत्र का जाप करें

ॐ भूतनाथाय भयनाशिने सदाशिवाय नमः।।

इस मंत्र का 11 बार जाप करने से डर एवं घबराहट से शीघ्र छुटकारा मिल जाता है।

इन्हें भी देखें 👇👇

प्रिय दोस्तों, आज के इस रोचक पोस्ट में हमारे द्वारा घबराहट और डर को खत्म करने का मंत्र, घबराहट को दूर करने का मंत्र एवं घबराहट और डर को खत्म करने के विभिन्न मंत्र बताए गए। आज के इस बेहतरीन पोस्ट से संबंधित यदि किसी भी प्रकार का सवाल आपके मन में हो तो आप हमें नीचे कमेंट के माध्यम बेझिझक पूछ सकते हैं। हमें उत्तर देने में बेहद ही खुशी होगी।

KAMLESH VERMA

दैनिक भास्कर और पत्रिका जैसे राष्ट्रीय अखबार में बतौर रिपोर्टर सात वर्ष का अनुभव रखने वाले कमलेश वर्मा बिहार से ताल्लुक रखते हैं. बातें करने और लिखने के शौक़ीन कमलेश ने विक्रम विश्वविद्यालय उज्जैन से अपना ग्रेजुएशन और दिल्ली विश्वविद्यालय से मास्टर्स किया है. कमलेश वर्तमान में साऊदी अरब से लौटे हैं। खाड़ी देश से संबंधित मदद के लिए इनसे संपर्क किया जा सकता हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

DMCA.com Protection Status
पान का इतिहास | History of Paan महा शिवरात्रि शायरी स्टेटस | Maha Shivratri Shayari सवाल जवाब शायरी- पढ़िए सीकर की पायल ने जीता बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड सफल लोगों की अच्छी आदतें, जानें आलस क्यों आता हैं, जानिएं इसका कारण आम खाने के जबरदस्त फायदे Best Aansoo Shayari – पढ़िए शायरी