गर्भावस्था से जुड़े 10 रोचक तथ्य जो शायद आपको ना पता हो

0
88
amazing-facts-about-pregnancy-in-hindi
गर्भावस्था से जुड़े 10 रोचक तथ्य जो शायद आपको ना पता हो

गर्भावस्था से जुड़े 10 रोचक तथ्य जो शायद आपको ना पता हो । amazing facts about pregnancy in hindi

गर्भावस्था एक महिला के लिए बेहद ही सुखद अनुभव के साथ बेहद ही मुश्किल भरा होता है. कारण जहां एक विवाहिता को मां बनने की खुशी हो रही होती है तो वही उसे मूड स्विंग, बढ़ते हार्मोनल बदलाव और कई तरह की बेहद ही असहनीय पीड़ा से गुजरना पड़ता है. प्रेगनेंसी के दौरान महिलाओं के शरीर में कई प्रकार हार्मोन चेजेंस होते हैं. ऐसे में घरेलु और ऑफिस के कार्यों को हार्मोंन चेजेंस के साथ करना बेहद ही कठिन हो जाता है. आइए लेख के जरिए जानते हैं कुछ ऐसे रोचक तथ्य जो गर्भावस्था (Facts about Pregnancy) के दौरान महिलाओं में देखे जाते हैं.

amazing-facts-about-pregnancy-in-hindi
गर्भावस्था से जुड़े 10 रोचक तथ्य जो शायद आपको ना पता हो

गर्भावस्था से जुड़े 10 रोचक तथ्य जो आपको आश्चर्यचकित कर देंगे (Amazing Facts about Pregnancy in Hindi)

#1. गर्भाशय की वृद्धि होना (The mind-blowing growth of the uterus)

प्रेगनेंसी के दौरान महिलाओं का गर्भाशय अपने आकार के करीब 500 गुना बड़ी साइज में हो जाता है. सरल भाषा में एक उदाहरण के तौर पर आपकों समझाएं तो गर्भाशय संतरे के आकार जितना हो और वह तरबूज जितना बड़ा हो जाए.  गर्भाशय का आकार बड़ा होना शिशु के सर्वांगिण विकास के लिए बेहद ही जरूरी है. यह बदलाव प्रेगनेंसी के तीसरे माह से देखने को मिलते हैं.

#2. शिशु के रोने से शरीर में दूध बनना (Baby’s Cry Can Make You Lactate)

दोस्तों यहां हम शिशु के जन्म लेने के बाद की नहीं ब्लकि गर्भ के अंतिम सप्ताह यानी 9वें माह की बात कर रहे हैं. जब आप नवजात शिशु के रोने की आवाज सुनती हैं तब आपके शरीर में स्वत: दूध बनने लग जाता है. आपकों बता दें कि  महिला का शरीर गर्भावस्था के आखिरी हफ्ते में ही दूध बनाना शुरू कर देता है, जिससे कि जन्म के बाद उसके भोजन की जरूरत पूरी हो जाए. रोचक बात यह है कि, जब भी नवजात रोता है तो गर्भवती महिलाओं का दिमाग सिग्नल देने लगता है जिससे उनका शरीर अपने आप दूध बनाने लगता है जो कि प्राकृतिक और आश्चर्यजनक बात है.

इसे भी पढ़ें:  प्रेगनेंसी के दौरान ये पांच चीजें खाने से शिशु बुद्धिमान होता है

#3. हड्डियों का अत्यधिक कमजोर हो जाना (You may break bones easily)

अक्सर आपने सुना होगा कि, गर्भ धारण करने के बाद महिलाओं को कोई भारी चीज नहीं उठानी चाहिए. किसी भी घरेलु कार्य काे आराम से करना चाहिए. कारण यह है कि गर्भ धारण करने के बाद प्रसूताओं की हडि्डयां हड्डियां बहुत नाजुक हो जाती है. गर्भावस्था के दौरान रिलैक्सीन नाम का एक हार्मोन होता है जो महिला के कई अंगो और खासकर योनी के आसपास के क्षेत्र को बहुत नाजुक बना देता है ताकि वे शिशु के विकास में मदद कर सके. असर यह होता है कि, शरीर में मौजूद यह हार्मोन शरीर की बाकी सारी हड्डियों को भी बेहद ही कमजोर कर देता है.

#4. आप गर्भावस्था के दौरान भी गर्भवती हो सकती हैं (You can get pregnant, while you are pregnant)

यह एक अविश्वनिय बात है लेकिन सच है कि गर्भावस्था के दौरान भी महिला गर्भवती हो सकती है. आपकों एक उदाहरण देकर समझाते हैं. साल 2009 में अमेरिका कि एक महिला जिसका नाम जूलिया था. उनके साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ था। जूलिया जुड़वा बच्चों की उम्मीद कर रही थी परंतु अल्ट्रासाउंड में पता चला कि उनके गर्भाशय में दो अलग-अलग आकार के भ्रूण थे. इसके चलते उन्होंने 2 हफ्ते के अंतराल में ही दो बार गर्भ धारण किया. मजेदार बात यह है कि महिला के दोनों भ्रूण अपनी-अपनी गति से बढ़ रहे थे और उनका जन्म भी अलग-अलग समय पर हुआ था. घबराइये मत वैसे इस तरह की मामले लाखों में एक होता है. इसे सुपर फैटेशन (Superfetation) के नाम से जाना जाता है.

#5. रक्त में बढ़ोतरी (Increase in blood volume)

गर्भवती महिलाओं के शरीर की खास बात यह होती है कि, जब शिशु मां की कोख में होता है तब मां का शरीर दोगुना रक्त बनाता है. जो कि संपूर्ण रक्त आयतन के 50% तक बढ़ जाता है. बता दें कि, गर्भ में मौजूद भ्रूण विकास के लिए मां के शरीर के संपूर्ण रक्त का ⅕ भाग लेता है. दोस्तों रक्त के बढ़ते संचार के साथ-साथ गर्भवति के ह्दय का आकार भी बड़ा हो जाता है. कई मामलों में गर्भवति की नाक से भी खून आने लगता है.

#6. ज्यादा वजन और लंबी महिलाओं के जुड़वा बच्चे होने की संभावना ज्यादा होना (Taller and Overweight women have greater chances of twins)

यह तथ्य सुनकर आपके चेहरे पर प्यारी सी स्माइल आ गई होगी. और आए भी क्योंं ना, रिसर्च में पाया गया है कि, जो गर्भवति महिलाएं लंबी है या फिर आपका वजन आम महिलाओं के वजन से ज्यादा है तो हो सकता है कि उन्हें जुड़वा बच्चे हो.

इसे भी पढ़ें:  प्रेगनेंसी कैलकुलेटर बॉय और गर्ल इन हिंदी

#7. बच्चे मां की कोख में अजीब चीजें करते हैं (Babies in the womb may do weird things)

यदि आप गर्भवति है तो आप यह अनुमान नहीं लगा सकती है कि अगले अल्ट्रासाउंड में आपको आपके बेबी की क्या-क्या हरकतें देखने को मिलेगी. अल्ट्रासाउंड में आप देखेंगे कि आपका नन्हा सा बच्चा कभी अंगूठा चूस रहा है, हाथ हिला रहा है, सर हिला रहा है आदि. रोचक बात यह है कि, यदि भ्रूण जुड़वा हो तो वे एक दूसरे का हाथ पकडे़ हुए हैं या फिर एक दूसरे को लात मारते हुए दिखाई देंगे. चिंता ना करें या एक आम बात है.

#8. बच्चे मां की कोख में रोते भी हैं (Babies cry in the womb)

आपकों जानकर हैरानी होग कि, बच्चे मां की कोख में भी रो सकते हैं.यह बिल्कुल आम बात है कारण एमनीओटिक द्रव से घिरे हुए होते हैं. इसलिए उनके रोने की आवाज मां को भी नहीं सुनाई देती. बच्चे के कोख में रोना भी जरूरी है क्योंकि यह शिशु के विकास की एक निशानी है.

#9. लड़की का भ्रूण और उसके अंडे (Baby girls and eggs)

मां के गर्भ में रहते-रहते ही लड़की के भ्रूण के सारे अंडे विकसित हो जाते हैं जो कि उसे पूरी जिंदगी भर चाहिए होते हैं जबकि लड़के के भ्रूण, मां की कोख में इन सबका उत्पादन नहीं कर पाते हैं.

#10. भ्रूण के बाल (Fetes Hair)

गर्भावस्था के दौरान शिशु के पूरे शरीर पर बाल आ जाते हैं जिसे लेनूगो (Lenugo) कहते हैं। अधिकांश केसों में जन्म से पहले वे सारे बाल झड़ जाते हैं।

इसे भी पढ़ें: प्रेगनेंसी में पेठा खाने के फायदे और स्वास्थ्य लाभ। Benefits of eating petha in pregnancy