News

आजादी की गौरव गाथा गाती है नागदा की पर्ण कुटी, आजादी के दीवानों ने ली थी शरण

नागदा. औद्योगिक शहर नागदा आजादी की अनकही यादें समेटे हुए हैं. नागदा शहर ने आजादी के दीवानों को कुछ समय के लिए शरण दी थी. जिसका गवाह दीन दयाल चौक स्थित पर्णकुटी है. क्रांतिकारियों ने स्नेही परिवार के सानिध्य में नागदा के पर्ण कुटी में पनाह ली थी. जानकारों की मानें तो क्रांतिकारी नागदा में छिपने के उद्देश्य से आते थे. कई मर्तबा यहां रुकर आंदोलन की रणनीति पर चर्चा की जाती थी.

बटुकेश्वर दत्त ने नागदा में काटी थी फरारी

आजाद हिंद फौज की स्थापना करने वाले नेताजी सुभाषचंद्र बोस के साथी बटुकेश्वर दत्त और हरिलाल झांसी ने नागदा के पर्णकुटी में फरारी काटी थी. पर्णकुटी मूर्धन्य साहित्यकार गांधी मानस महाकाल रचियता कवि स्व. नटवरलाल स्नेही, अग्रज स्वाधीनता सेनानी हरिप्रसाद शर्मा का निवास स्थान रहा है.

पुराने अखबारों की कटिंग तलाशने पर मालूम पड़ा कि, ब्रिटिश सरकार द्वारा 5 बिहार के क्रांतिकारी श्याम बिहारी पर 5 हजार रुपए का इनाम घोषित किया गया था. अंग्रेजी हुकूमत से बचने के लिए श्याम बिहारी नागदा पहुंचे थे. इन्होंने पर्णकुटी नागदा में दो माह तक फरारी काटी थी. क्रांतिकारी हमारे बीच नहीं है,लेकिन इनकी गौरवगाथ के पद चिह्न इतिहास में लिखित दस्तावेज बन गए हैं. नागदा में आजादी की पीढ़ी के लोग ही शायद होंगे.

इन क्रांतिकारियों ने नागदा में ली शरण

नागदा में पूर्व सांसद, स्वाधीनता सेनानी, भूतपूर्व अखिल भारतीय समाजवादी दल अध्यक्ष मामा बालेश्वर दयाल, मप्र स्वतंत्रता सेनानी संघ अध्यक्ष स्व. कन्हैयालाल वैद्य, भूतपूर्व सांसद स्व. राधेलाल व्यास, मध्य भारत के प्रथम मुख्यमंत्री लीलाधर जोशी, मध्य भारत के भूतपूर्व मुख्यमंत्री स्व. गोपीकृष्ण विजयवर्गीय, स्व. मिश्रीलाल गंगवाल, स्व. तखमज जैन, भूतपूर्व मुख्यमंत्री अजमेर, स्व. हरिभाऊ उपाध्याय, समाजसेवी स्व. कृष्णराव वासुदेव दाते, प्रमुख सेनानी गणेशदत्त शर्मा, डॉ. हरिराम चौबे, कन्हैयालाल खादीवाल, कुसुमकांत जैन, गांधीविचारधारा के स्व. रामचंद्र नवाल, स्व. जयप्रकाश, मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री स्व. कैलाशनाथ काटजू आदि शामिल है.

आजादी के बाद बनी पहली महिला विधायक का निवास

जानकारी के संकलन के दौरान यह पता चला कि,पर्णकुटी राजस्थान की पहली महिला विधायक यशोदा बेन का निवास स्थान रहा है. आजादी के बाद पहली बार विधानसभा चुनाव में यशोदाबेन पहली महिला विधायक चुनी गई थी. यशोदा राजस्थान के बांसवाड़ा से विधायक बनी थी.

पंडित दीन दयाल चौक स्थित पर्णकुटी नागदा.

इसे भी पढ़े :

Ravi Raghuwanshi

रविंद्र सिंह रघुंवशी मध्य प्रदेश शासन के जिला स्तरिय अधिमान्य पत्रकार हैं. रविंद्र सिंह राष्ट्रीय अखबार नई दुनिया और पत्रिका में ब्यूरो के पद पर रह चुकें हैं. वर्तमान में राष्ट्रीय अखबार प्रजातंत्र के नागदा ब्यूरो चीफ है.

Recent Posts

आईपीएल 2022 नीलामी लिस्ट | आईपीएल नीलामी 2022 List | २०२२ आईपीएल नीलामी लिस्ट

आईपीएल 2022 नीलामी लिस्ट | आईपीएल नीलामी 2022 List | २०२२ आईपीएल नीलामी लिस्ट क्रिकेट…

2 days ago

जून में एकादशी कब की है 2022 | June Mein Ekadashi Kab Ki Hai 2022

सनातन धर्म में एकादशी व्रत का पौराणिक महत्व हैं. इस व्रत में भगवान विष्णु का…

2 days ago

मई में एकादशी कब की है 2022 | May Mein Ekadashi Kab Ki Hai 2022

सनातन धर्म में एकादशी व्रत का पौराणिक महत्व हैं. इस व्रत में भगवान विष्णु का…

2 days ago

अप्रैल 2022 में एकादशी कब की है | April 2022 Mein Ekadashi Kab Ki Hai

सनातन धर्म में एकादशी व्रत का पौराणिक महत्व हैं. इस व्रत में भगवान विष्णु का…

2 days ago

मार्च में एकादशी कब की है 2022 | March Mein Ekadashi Kab Ki Hai 2022

सनातन धर्म में एकादशी व्रत का पौराणिक महत्व हैं. इस व्रत में भगवान विष्णु का…

2 days ago

फरवरी में एकादशी कब की है 2022 | February Mein Ekadashi Kab Ki Hai 2022

सनातन धर्म में एकादशी व्रत का पौराणिक महत्व हैं. इस व्रत में भगवान विष्णु का…

2 days ago