Newsधर्म

पद्मिनी एकादशी व्रत कथा और पूजा विधि

हिंदू कैलेंडर के अनुसार साल में 24 एकादशी आती हैं किंतु अधिमास में इसकी संख्या 26 हो जाती हैं और अधिमास की एकादशी को पद्मिनी एकादशी कहा जाता है. अधिमास के शुक्ल पक्ष में यह एकादशी आती है.

पद्मिनी एकादशी असंख्य प्रकार के पुण्यों को लिए हुए है. इस व्रत को करने से इंसान सभी प्रकार के वैभव को प्राप्त कर बैकुंठ में निवास करता है. (padmini ekadashi vrat katha pooja vidhi)

पद्मिनी एकादशी व्रत विधि

पद्मिनी एकादशी व्रत को करने के लिए दशमी के दिन कांसे के बर्तन में भोजन ग्रहण करना चाहिए और नमक का सेवन नहीं करना चाहिए. इस दिन ब्रम्हचर्य का पालन करते हुए भोग विलास की वस्तुओं का त्याग कर भूमि पर  सोना चाहिए.

padmini-ekadashi-vrat-katha-pooja-vidhi

अलसुबह उठकर शौच इत्यादि से निपट कर 12 बार पानी से कुल्ला करके मुख शुद्ध करना चाहिए और प्रातःकाल ही स्नान आदि करना चाहिए. स्नान में तिल, मिट्टी, कुश व आंवले के चुर्ण भी शामिल करें. जिसके बाद सफेद वस्त्र धारण करके भगवान विष्णु का पूजन-अर्चन करें और कथा का पाठ करें.

पद्मिनी एकादशी व्रत कथा 

वर्षों पहले त्रेतायुग में कीर्तिवीर्य नामक राजा, जो कि हैहय वंश का था, महिस्मतीपूरी में राज्य किया करता था. उसकी 1000 पत्नियां थीं लेकिन किसी भी स्त्री से उसे पुत्र नहीं था जो कि उसके राज्य को संभाल सके. उन्होंने देवताओं से प्रार्थना की, पितरों से आशीर्वाद मांगा और अनेक वैद्यों को दिखाया लेकिन कोई परिणाम नहीं निकल सका.

जिसके बाद राजा ने कठोर तपस्या करने का निर्णय लिया. उसके साथ उसकी सबसे प्रिय पत्नी, इक्वाक्षु वंश के राजा हरिश्चंद्र की पुत्री रानी पद्मिनी, भी उसके साथ हो ली और दोनों पति-पत्नी राज पाट अपने मंत्रियों को सौंपकर गंधमादन पर्वत पर तपस्या के लिए चले गए.

padmini-ekadashi-vrat-katha-pooja-vidhi

जब राजा को 10 हजार सालों तक कठोर तपस्या करने के बाद भी पुत्र की प्राप्ति नहीं हुई, तब रानी पद्मिनी से अनुसूया जी ने कहा कि सभी महीनों में  श्रेष्ठ अधिमास यानी कि मलमास होता है जो 32 मास के बाद आता है. यदि आप इस दिन व्रत करेंगी तो आपकी सभी मनोकामनाएं पूरी होंगी और भगवान आपसे प्रसन्न होंगे.

रानी ने बिल्कुल वैसा ही किया. वह निराहार रहकर व्रत करने लगीं और रात्रि जागरण किया. भगवान विष्णु ने प्रसन्न होकर उन्हें पुत्र रत्न की प्राप्ति का आशीर्वाद दिया. फलस्वरूप कार्तवीर्य नामक पुत्र की प्राप्ति रानी पद्मिनी को हुई जो कि तीनों लोकों में सबसे बलवान था और जिसका कोई भी सानी न था.

जो भी रानी पद्मिनी की  इस कथा का पाठ करता है और पद्मिनी एकादशी का व्रत करता है उसकी सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं और वह यश और कीर्ति को प्राप्त करता है.

इसे भी पढ़े :

Ravi Raghuwanshi

रविंद्र सिंह रघुंवशी मध्य प्रदेश शासन के जिला स्तरिय अधिमान्य पत्रकार हैं. रविंद्र सिंह राष्ट्रीय अखबार नई दुनिया और पत्रिका में ब्यूरो के पद पर रह चुकें हैं. वर्तमान में राष्ट्रीय अखबार प्रजातंत्र के नागदा ब्यूरो चीफ है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

DMCA.com Protection Status
चुनाव पर सुविचार | Election Quotes in Hindi स्टार्टअप पर सुविचार | Startup Quotes in Hindi पान का इतिहास | History of Paan महा शिवरात्रि शायरी स्टेटस | Maha Shivratri Shayari सवाल जवाब शायरी- पढ़िए सीकर की पायल ने जीता बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड सफल लोगों की अच्छी आदतें, जानें आलस क्यों आता हैं, जानिएं इसका कारण आम खाने के जबरदस्त फायदे Best Aansoo Shayari – पढ़िए शायरी