Newsबड़ी खबर

क्यों माना जाता है गुलाब को प्यार का प्रतीक?

क्यों माना जाता है गुलाब को प्यार का प्रतीक? kyon mana jata hai gulab ko prem ka prateek

गुलाब का नाम ज़ेहन में आते ही सबसे पहले प्यार और रोमांस का ख्याल आता है. इतने फूलों के बीच ‘प्रेम के प्रतीक’ के रूप में गुलाब वाकई बहुत ख़ास है भी.

क्यों माना जाता है गुलाब को प्यार का प्रतीक?

kyon-mana-jata-hai-gulab-ko-prem-ka-prateek

प्रेम एक बेहद खूबसूरत अनुभव है जिसे चाहकर भी शब्दों में उतनी ही खूबसूरती से नहीं किया जा सकता, जितना खूबसूरत यह खुद है. आज के युग में इसको जताने का तरीका बदल चुका है. आमतौर पर प्रेम को व्यक्त करने के लिये गिफ्ट्स, चॉकलेट्स, केक और लाल गुलाबों का प्रयोग किया जाता है. यह परम्परा आज से नही बल्कि राजा महाराजों के समय से चली आ रही है.

कलयुग में भी लोग अपनी प्रेमिका को गुलाब का फूल प्यार का इजहार करने के लिए देते हैं. लेकिन क्या आपने सोचा कभी है कि गुलाब को ही प्यार का प्रतीक क्यों माना जाता है? चलिए हम आपको बतातें हैं कि गुलाब को ही प्रेम का प्रतीक क्यों माना जाता है. जानिये सात ऐसे कारण जिनकी वजह से गुलाब को प्रेम से जोड़कर जाना जाता है.

kyon-mana-jata-hai-gulab-ko-prem-ka-prateek

आमतौर पर गुलाब का फूल हर आयु वर्ग के लोगों को पसंद होता है. खासतौर पर लड़कियों को गुलाब का फुल बेहद ही पसंद होता हैं. इसी कारण प्रेम का इजहार करने के लिये प्रेमी अपनी प्रेमिका को अक्सर लाल गुलाब का ही गुलदस्ता भेट करते हैं. गुलाबों की बहुत तरह की प्रजातियां होती हैं आमतौर पर लाल ग्राफ्टेड गुलाब ही गुलदस्ता बनाने के काम में लिया जाता है.

हमारी भारतीय संस्कृति में हर रंग का अपना अलग महत्व होता है. जैसे सफेद रंग शांति का प्रतीक होता हैं वैसे ही लाल रंग प्रेम का प्रतीक माना जाता है. इसलिए आमतौर पर अपने प्रेम का इज़हार करने के लिए लोग लाल रंग का गुलाब ही अधिकांश तौर पर पसंद करते हैं .

फूलों को शुभारम्भ का प्रतीक भी माना जाता है इसलिये प्रेम हो या पूजा इनकी शुरुआत फूलों से ही करना अच्छा माना जाता है. पूजा में शुभ माना जाने वाला लाल रंग का गुलाब प्रेम का प्रतीक भी होता है.

kyon-mana-jata-hai-gulab-ko-prem-ka-prateek

गुलाबों को प्रेम से जोड़े जाने का एक कारण फिल्में भी हैं. हम फिल्मों में अक्सर यह देखते हैं कि प्रेमी, प्रेमिका को अपने प्यार के प्रतीक के रूप में गुलाब के फूल ही भेंट करता है, इसलिए असल ज़िन्दगी में भी गुलाब देना एक रिवाज़-सा बन गया है.

गुलाब के फूलों की सुगंध बहुत अच्छी होती है, इसलिए भी लोग प्रेम का इज़हार करने के लिए रोमांस के प्रतीक गुलाब के फूल भेंट करतें हैं.

वर्षभर प्रेमी युगल वैलेंटाइन-वीक मनाने का इंतज़ार करते हैं. इसी हफ्ते में एक दिन रोज़ डे भी मनाया जाता है. प्रेमी-प्रेमिका अपने प्रेम को व्यक्त करने के लिये एक दूसरे को लाल रंग का गुलाब देते है. असल में इसी परम्परा की वजह से गुलाब को प्रेम से जोड़कर  जाना जाता है.

kyon-mana-jata-hai-gulab-ko-prem-ka-prateek

आज के इन्टरनेट युग में घर बैठे प्रेम का इज़हार करने के लिए गुलाब के फूल, सम्बंधित व्यक्ति तक भिजवाना काफी आसान हो गया है. बस एक क्लिक और हो गया आपका काम. इस ऑनलाइन सुविधा के कारण भी लाल गुलाब की लोकप्रियता में खासा इज़ाफ़ा हुआ है.

तो इस तरह गुलाब सदियों से इश्क़ के खूबसूरत एहसास को एक दिल से दूसरे दिल तक खामोशी और नज़ाकत से पहुंचाता आ रहा है. क्योंकि ज़माने भले ही बदल गए हों, प्यार आज भी उतना ही हसीन-जहीन और खूबसूरत एहसास है.

इसे भी पढ़े :

Ravi Raghuwanshi

रविंद्र सिंह रघुंवशी मध्य प्रदेश शासन के जिला स्तरिय अधिमान्य पत्रकार हैं. रविंद्र सिंह राष्ट्रीय अखबार नई दुनिया और पत्रिका में ब्यूरो के पद पर रह चुकें हैं. वर्तमान में राष्ट्रीय अखबार प्रजातंत्र के नागदा ब्यूरो चीफ है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

DMCA.com Protection Status
पान का इतिहास | History of Paan महा शिवरात्रि शायरी स्टेटस | Maha Shivratri Shayari सवाल जवाब शायरी- पढ़िए सीकर की पायल ने जीता बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड सफल लोगों की अच्छी आदतें, जानें आलस क्यों आता हैं, जानिएं इसका कारण आम खाने के जबरदस्त फायदे Best Aansoo Shayari – पढ़िए शायरी