लगातार बढ़ रही इंश्योरेंस फ्रॉड के मामले, सुरक्षा के विकल्प जरूरी

0
26
cases-of-insurance-fraud-continuously-increasing-security-options-necessary
insurance fraud

लगातार बढ़ रही इंश्योरेंस फ्रॉड के मामले, सुरक्षा के विकल्प जरूरी । Cases of insurance fraud continuously increasing, security options necessary

अपने भविष्य को सुरक्षित करने के लिए हम निवेश करते हैं. और कई तरह के इंश्योरेंस प्लान लेते हैं. आजकल बाजार में कई तरह के इंश्योरेंस प्लान उपलब्ध हैं. इनमें लाइफ इंश्योरेंस, ट्रैवल इंश्योरेंस, कार इंश्योरेंस आदि शामिल है. किसी भी आकस्मिक आपदा से निपटने के लिए बीमा होना बेहद जरूरी है.

cases-of-insurance-fraud-continuously-increasing-security-options-necessary
insurance fraud

बाजार में कई कंपनियां और बैंक है जो ग्राहकों को बीमा देते हैं. हालांकि इंश्योरेंस के नाम पर ग्राहकों को चुना भी लगाया जा रहा है. ऐसे में आपको इसे खरीदते समय किन बातों का ध्यान रखना चाहिए.

एजेंट की हर बात मानने से बचें

आमतौर पर बीमा एजेंट ग्राहकों को पॉलिसी बेचने के लिए बड़े-बड़े दावे करते हैं. सबसे आम बात यह है कि रिटर्न गारंटीड है. अब आप हम पर साइन कर दीजिए. आगे में सब भर लूंगा. ज्यादातर लोग इन सभी बातों पर यकीन कर पालिसी खरीद लेते हैं.

असल में बीमा एजेंट ग्राहकों को वही सब बातें बताता है. जो ग्राहक को लुभावनी लगती है. वह पाॅलिसी से जुड़ी तकनीकी चीजों के बारे में जानकारी नहीं मुहैया कराता है. एजेंट द्वारा इस तरह बीमा उत्पाद बेचने को ही mis-selling कहते हैं.

बीमा कंपनी को कॉल करें

आजकल सभी बीमा कंपनियां 24 घंटे चालू रहने वाला टोल फ्री नंबर उपलब्ध कराती है. बीमा उत्पादक के बारे में हर तरह के स्पष्टीकरण के लिए आप इन नंबरों पर कॉल कर सभी जानकारियां प्राप्त कर सकते हैं. यदि आपको कभी भी ऐसा लगे कि एजेंट को कुछ गलत तथ्य बता रहा है.तो बीमा कंपनी के टोल फ्री नंबर पर फोन लगाकर अपने संदेह पर स्पष्टीकरण जरूर ले.

भ्रामक फोन कॉल से पूरी तरह से बचें

भ्रामक फोन कॉल के जरिए mis-selling का बढ़ना बीमा उद्योग के लिए परेशानी वह बदनामी का सबब बनता जा रहा है. इस प्रकार के कॉल करने वाले गलत जानकारी देने के साथ ही ब्याज मुक्त लोन, भारी बोनस जैसे झूठे वादे कर ग्राहकों को जाल में फंसाते हैं.

कई बार तो मौजूदा पॉलिसी सरेंडर करके नई पॉलिसी लेने की सलाह कर देते हैं. जिससे ग्राहकों को दोहरा नुकसान उठाना पड़ता है. यह जानना है अहम है की प्रमाणिक बीमा चैनल से ही पॉलिसी खरीद रहे हैं या नहीं, यदि आप ऑनलाइन पॉलिसी खरीद रहे हैं. तो जांच लें कि बीमा कर्ता वेबसाइट का डोमेन वास्तविक है या नहीं.

हमेशा सुरक्षित पेमेंट विकल्प चुनना चाहिए

बीमा धारकों को भुगतान के लिए हमेशा सुरक्षित पेमेंट विकल्प चुनना चाहिए. ग्राहक चेक, डेबिट व क्रेडिट कार्ड या आज ऑनलाइन तरीकों से सीधा बीमा कंपनियों को प्रीमियम का भुगतान कर सकते हैं. ऐसा करने से आपके पास प्रमाण होगा कि आपने किसे पेमेंट किया है. इससे यह भी सुनिश्चित हो जाएगा कि जिस एजेंट से आपने पॉलिसी खरीदी है. वह प्रीमियम का पैसा अपनी जेब से नहीं डाल रहा है.

इसे भी पढ़े :