धर्मNewsखबर दस्त

चमत्कारी कुंड : जहां पर नहाने से शुरू होता हैं महिलाओं के स्तनों में दूध का उत्पादन

खाचरौद. उज्जैन जिले की खाचरौद तहसील में एक रहस्यमी कुंड मौजूद है. जिसकी विशेषता है कि यहां पर नहाने से महिलाओं के स्तनों में दूध का उत्पादन शुरू हो जाता है. जिन गर्भवती महिलाओं को किसी बीमारी के कारण स्तन में दूध का उत्पादन शुरू नहीं हो पाता, वह श्रद्धालु महिला कुंड पर पहुंचकर माता से विनति करती है. मुराद पुरी होने के बाद मन्नती श्रद्धालु अपने ब्लाॅउज को कुंड में विर्सजित करती है. कुड पाषण कालीन है. लगभग एक हजार साल पुराना यह स्थान है. संवत् 1131 में इसकी नींव रखी गई थी.

miracle-kunda-where-milk-starts-producing-milk-in-the-breasts-of-women
नागदा से 18 किलोमीटर दूर स्थित है साडू माता का कुंड.

भैरव अष्टमी पर कुंड में विशेष पूजन-अर्चन और आराधना की जाती है. कुंड जो न सिर्फ देश-प्रदेश बल्कि विश्व में अनूठा है. दुनिया का यह एकमात्र ऐसा प्राचीन कुंड है, जहां माता से दूध शुरू करवाने की इच्छा लेकर दूरदराज से लोग यहां अपनी मुराद लेकर आते हैं.

miracle-kunda-where-milk-starts-producing-milk-in-the-breasts-of-women
साडू माता की प्राचीन बाउड़ी.

बावड़ी का पानी एक औषधि है

कुंड ऊंची पहाड़ीनुमा क्षेत्र में एक महल के समीप बना हुआ है. मंदिर के पंडाजी हरिसिंह ने जानकारी देते हुए बताया कि, दुनिया का यह एकमात्र कुंड है, जहां महिलाएं स्तनों में दूध की कमी को पूरा करने के लिए माता से मन्नत मांगने आती है. इस बावड़ी के पानी को भी लोग नवप्रसूता के लिए चमत्कारिक मानते हैं. ऐसी मान्यता है कि नवप्रसूता के लिए बावड़ी का पानी एक औषधि है. इसलिए दूरदराज से लोग इस बावड़ी से पानी लेने आते हैं.

miracle-kunda-where-milk-starts-producing-milk-in-the-breasts-of-women
साडू माता की प्राचीन बाउड़ी.

क्या है साडू माता की कहानी

प्राचीन कहानियों और किवदंतियों की मानें तो फर्नाखेड़ी गांव में हजारों साल पहले एक महिला को ग्रामीणों ने डायन कहकर गांव से निकाल दिया था. ग्रामीणों ने महिला का गांव में प्रवेश वर्जित कर दिया था. भूख से व्याकूल महिला इसी कुंड के पास जाकर रहने लगी.

महिला ने कुंड के समीप रहकर साडू माता की पूजा अर्चना करना शुरू कर दिया. महिला की भक्ति से प्रसन्न होकर साडू माता ने महिला को दर्शन दिए. साथ ही उसे कुंड के चमत्कारी औषधि रुपी पानी के बारे में बताया. माता के महिला को बताया कि, जिन नवप्रसूता को दूध का उत्पादन शुरू हो जाएगा.

महिला ने इस बात की सूचना गांव के प्रधान को दी. ग्रामीणों को महिला की बात पर विश्वास नहीं हुआ. समय बीतता गया, गांव में महामरी फैल गई, गांव के सभी जलाशय सूख गए, लेकिन बाउड़ी का पानी नहीं सूखा. ग्रामीणों ने गांव छोड़कर बाउड़ी के समीप रहना शुरू कर दिया. ग्रामीणों ने पानी का सेवन किया तो धीरे-धीरे ठीक होने लगे. जिसके बाद बाउड़ी के चमत्कारी पानी पर ग्रामीणों ने यकीन करना शुरू कर दिया.

इसे भी पढ़े :

Ravi Raghuwanshi

रविंद्र सिंह रघुंवशी मध्य प्रदेश शासन के जिला स्तरिय अधिमान्य पत्रकार हैं. रविंद्र सिंह राष्ट्रीय अखबार नई दुनिया और पत्रिका में ब्यूरो के पद पर रह चुकें हैं. वर्तमान में राष्ट्रीय अखबार प्रजातंत्र के नागदा ब्यूरो चीफ है.

Related Articles

DMCA.com Protection Status
पान का इतिहास | History of Paan महा शिवरात्रि शायरी स्टेटस | Maha Shivratri Shayari सवाल जवाब शायरी- पढ़िए सीकर की पायल ने जीता बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड सफल लोगों की अच्छी आदतें, जानें आलस क्यों आता हैं, जानिएं इसका कारण आम खाने के जबरदस्त फायदे Best Aansoo Shayari – पढ़िए शायरी