Newsधर्म

गुड़ी पड़वा 2021 के शुभ मुहूर्त : हिन्दू नववर्ष का शुभारंभ

13 अप्रैल 2021 नवरात्रि के साथ हिन्दू नववर्ष गुड़ी पड़वा प्रारंभ हो रहा है. हिंदू धर्म में इस दिन सूर्य को अर्घ्य देने की परंपरा है. इस दिन नीम की पत्तियां, पूरनपोळी, ध्वजा आदि का विशेष महत्व होता है. चैत्र शुक्ल प्रतिपदा को ही सृष्टि का आरंभ हुआ था और इसी दिन भारतवर्ष में काल की गणना प्रारंभ हुई. आइए लेख के जरिए जानें शुभ मुहूर्त और पंचांग…

gudi-padwa-2021-muhurat-panchang
गुड़ी पड़वा 2020 के शुभ मुहूर्त : हिन्दू नववर्ष का शुभारंभ

ऐसे हुई गुड़ी पड़वा की शुरुआत

प्राचीन लोक कथाओं में सुनने को मिलता है कि, शालिवाहन नाम के एक कुम्हार के पुत्र ने मिट्टी के सैनिकों की सेना बनाई और उस पर पानी छिटककर उन्हें जीवंत कर दिया. सैनिकों की मदद से प्रभावी शत्रुओं काे पराजीत किया. इस विजय के प्रतीक रूप में शालिवाहन शक की शुरुआत हुई. कथाओं में यह भी उल्लेख मिलता है कि, शालिवाहन ने मिट्टी की सेना में जान डाल दी थी, यह एक लाक्षणिक कथन है. उस दौर में लोग बिलकुल चैतन्यहीन, पौरुषहीन और पराक्रमहीन बन गए थे. जिसके कारण व शत्रु को जीत नहीं सकते थे. मिट्टी के मुर्दों को विजयश्री कैसे प्राप्त होगी? लेकिन शालिवाहन ने ऐसे लोगों में चैतन्य भर दिया. मिट्टी के मुर्दों में, पत्थर के पुतलों में पौरुष और पराक्रम जाग पड़ा और शत्रु की पराजय हुई. विजय को पर्व को गुड़ी पड़वा के रुप में मनाया जाने लगा.गुड़ी पड़वा का पर्व महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश और गोवा सहित दक्षिण भारतीय राज्यों में उल्लास के साथ मनाया जाता है.

इसे भी पढ़े : महाशिवरात्रि का महत्व, शुभ मुहूर्त

गुड़ी पड़वा 2021

13 अप्रैल

प्रतिपदा तिथि आरंभ – 07:59 (12 अप्रैल 2021)

प्रतिपदा तिथि समाप्त – 10:16 (13 अप्रैल 2021)

गुड़ी पड़वा 2022

2 अप्रैल

प्रतिपदा तिथि आरंभ – 11:53 (1 अप्रैल 2022)

प्रतिपदा तिथि समाप्त – 11:57 (2 अप्रैल 2022)

गुड़ी पड़वा 2023

22 मार्च

प्रतिपदा तिथि आरंभ – 22:52 (21 मार्च 2023)

प्रतिपदा तिथि समाप्त – 20:20 (22 मार्च 2023)

गुड़ी पड़वा 2024

9 अप्रैल

प्रतिपदा तिथि आरंभ – 23:49 (8 अप्रैल 2024)

प्रतिपदा तिथि समाप्त – 20:30 (9 अप्रैल 2024)

KAMLESH VERMA

दैनिक भास्कर और पत्रिका जैसे राष्ट्रीय अखबार में बतौर रिपोर्टर सात वर्ष का अनुभव रखने वाले कमलेश वर्मा बिहार से ताल्लुक रखते हैं. बातें करने और लिखने के शौक़ीन कमलेश ने विक्रम विश्वविद्यालय उज्जैन से अपना ग्रेजुएशन और दिल्ली विश्वविद्यालय से मास्टर्स किया है. कमलेश वर्तमान में साऊदी अरब से लौटे हैं। खाड़ी देश से संबंधित मदद के लिए इनसे संपर्क किया जा सकता हैं।

Related Articles

DMCA.com Protection Status
चुनाव पर सुविचार | Election Quotes in Hindi स्टार्टअप पर सुविचार | Startup Quotes in Hindi पान का इतिहास | History of Paan महा शिवरात्रि शायरी स्टेटस | Maha Shivratri Shayari सवाल जवाब शायरी- पढ़िए सीकर की पायल ने जीता बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड सफल लोगों की अच्छी आदतें, जानें आलस क्यों आता हैं, जानिएं इसका कारण आम खाने के जबरदस्त फायदे Best Aansoo Shayari – पढ़िए शायरी