नवरात्रि पर निबंध 200 शब्दों में | essay on navratri in hindi 200 words

 नवरात्रि पर निबंध 200 शब्दों में | essay on navratri in hindi 200 words

सांकेतिक तस्वीर – सोशल मीडिया

नवरात्रि पर निबंध 200 शब्दों में | essay on navratri in hindi 200 words

हिंदुओं का प्रमुख त्योहार नवरात्रि वर्ष में दो बार आता हैं. नवरात्रि के दौरान देवी दुर्गा की नौ दिनों तक पूजा अर्चना की जाती है. जो श्रद्धालु नौ दिनों तक अखंड व्रत करते है समापन पर नौ कुंवारी कन्याओं को भोजन कराते है. गरबा मंडलों द्वारा पर्व के आखिरी दिन भंडारे का आयोजन कराया जाता है. नवरात्र के दिनों में लोग अपनी कुलदेवी के दर्शन करते हैं. नवरात्रि पर बालिकाएं दुर्गा पंडालों में डांडिया खेलती हैं.

essay-on-navratri-in-hindi-200-words
सांकेतिक तस्वीर – सोशल मीडिया

नवरात्रि पर निबंध 200 शब्दों में | essay on navratri in hindi 200 words

नवरात्रि पर्व माता दुर्गा की पूजा अर्चना करने का आनंददायक तरीका है. नव’ का अर्थ है नौ और ‘रत्री’ का अर्थ रात है. नौ रातों और 10 दिनों की अवधि में मनाया जाता है. सनातन धर्म में नवरात्रि साल में 5 बार मनाई जाती है.लेकिन मुख्य नवरात्रि उत्सव अक्टूबर / नवंबर के में मनाया जाता है. नवरात्रि पर्व के विभिन्न प्रकार हैं-

1. वसंत नवरात्रि: –  सनातन धर्म  कैलेंडर के अनुसार चैत्र माह में मनाया जाता है. आधुनिक कैलेंडर के अनुसार मार्च का माह कहा जाता है. पर्व  की 9वीं रात को ‘राम नवमी’ के रूप में मनाया जाता है.

2. गुप्ता नवरात्रि: – यह नवरात्रि जून / जुलाई माह में मनाई जाती है. इसे आम लोग ना करते हुए तंत्र क्रिया करने वाले साधक मनाते है. जिसे गायत्री नवरात्रि भी कहते हैं.

3. शरद नवरात्रि: – अक्टूबर / नवंबर के माह में मनाई जाती है. सर्द मौसम की शुरुआत होती है. वैज्ञानिक रुप से संक्रमण से बचाव के लिए इन दिनों एक समय भोजन करना लाभदायक होता है. हिंदू कैलेंडर के अनुसार, नवरात्रि अश्विनी माह में मनाया जाता है. 10 वे दिन विजया दशमी के रूप में मनाया जाता है.

4. पौष नवरात्रि: – सनातन कैलेंडर के अनुसार पौष माह में इस नवरात्रि को मनाया जाता है.आधुनिक कैलेंडर के अनुसार दिसंबर / जनवरी माह में पड़ता है.

5. माघ नवरात्रि: – हिंदू कैलेंडर के माघ माह में मनाया जाता है. आधुनिक कैलेंडर के अनुसार जनवरी / फरवरी का माह होता है.

निष्कर्ष

नवरात्रि पर्व  के पूर्व के तीन दिनों में  दुर्गा की पूजा से संबंधित हैं. आगामी तीन दिन देवी लक्ष्मी की पूजा से संबंधित हैं.व्रत करने वाले श्रद्धालु एक बार भोजन का उपभोग करते समय सभी नौ दिनों में उपवास करते हैं. कुछ केवल फलाहार पर निर्भर रहते हैं.

त्योहार पूरे देश में उत्साह के साथ मनाया जाता है.उत्तर भारतीय देवी दुर्गा की मूर्तियों की पूजा करके नवरात्रि मनाते हैं. वहीं बंगाल में, सजावटी ‘पंडल’ बनाए जाते हैं और लोग इन औपचारिक पांडलों को उत्सव के मूड में देवी की पूजा करने के लिए जाते हैं.

इसे भी  पढ़े :

KAMLESH VERMA

https://newsmug.in

Related post