Newsहिंदी लोक

अमर शहीद भगत सिंह के इन 7 शेर को सुनकर हर युवा वतन पर मर मिटे, देखें पोस्टर

अमर शहीद भगत सिंह के इन 7 शेर को सुनकर हर युवा वतन पर मर मिटे | Bhagat Singh Sher O Shayari With Poster 

युवा क्रांतिकारी शहदी भगत सिंह के नाम से देश का बच्चा परिचित है। यह एक ऐसा नाम है, जाे युगों-युगों तक नहीं भुलाया जा सकता है. देश को आजादी दिलाने की दीवानगी, मर मिटने का भाव उनके शेर-ओ-शायरी में साफ साफ झलकता है. शहीद भगत के शायरी आज भी देख के युवाओं के खून में उबाल ला देती है. पोस्ट के जरिए आज हम अमर शहीद भगत सिंह के वो प्रमुख सात शेर लेकर आएं है, जिन्हें पढ़कर आपके दिल में भी देख प्रेम जाग जाएगा।

Bhagat Singh Sher O Shayari With Poster 

सीनें में जुनूं, आंखों में देशभक्ति की चमक रखता हूं
दुश्मन की सांसे थम जाए, आवाज में वो धमक रखता हूं

bhagat-singh-sher-o-shayari-with-poster

लिख रहा हूं मैं अंजाम, जिसका कल आगाज आएगा
मेरे लहू का हर एक कतरा, इंकलाब लाएगा
मैं रहूं या ना रहूं पर, ये वादा है मेरा तुझसे
मेरे बाद वदन पर मरने वालों का सैलाब आएगा

bhagat-singh-sher-o-shayari-with-poster

मुझे तन चाहिए, ना धन चाहिए
बस अमन से भरा यह वतन चाहिए
जब तक जिंदा रहूं, इस मातृ भूमि के लिए
और मरूं तो तिरंगा ही कफन चाहिए

bhagat-singh-sher-o-shayari-with-poster

कभी वतन के लिए सोच के देख लेना,
कभी मां के चरण चूम के देख लेना,
कितना मजा आता है मरने में यारों,
कभी मुल्क के लिए मर के देख लेना,

bhagat-singh-sher-o-shayari-with-poster

हम अपने खून से लिक्खें कहानी ऐ वतन मेरे
करें कुर्बान हंस कर ये जवानी ऐ वतन मेरे

bhagat-singh-sher-o-shayari-with-poster

मैं भारतवर्ष का हरदम अमिट सम्मान करता हूं
यहां की चांदनी, मिट्‌टी का ही गुणगान करता हूं
मुझे चिंता नहीं है स्वर्ग जाकर मोक्ष पाने की
तिरंगा हो कफन मेरा, बस यही अरमान रखता हूं

bhagat-singh-sher-o-shayari-with-poster

जमाने भर में मिलते हैं आशिक कई,
मगर वतन से खूबसूरत कोई सनम नहीं होता,
नोटों में भी लिपट कर,
सोने में सिमटकर मरे हैं शासक कई,
मगर तिरंगे से खूबसूरत कोई कफन नहीं होता

bhagat-singh-sher-o-shayari-with-poster

इसे भी पढ़े : 

KAMLESH VERMA

दैनिक भास्कर और पत्रिका जैसे राष्ट्रीय अखबार में बतौर रिपोर्टर सात वर्ष का अनुभव रखने वाले कमलेश वर्मा बिहार से ताल्लुक रखते हैं. बातें करने और लिखने के शौक़ीन कमलेश ने विक्रम विश्वविद्यालय उज्जैन से अपना ग्रेजुएशन और दिल्ली विश्वविद्यालय से मास्टर्स किया है. कमलेश वर्तमान में साऊदी अरब से लौटे हैं। खाड़ी देश से संबंधित मदद के लिए इनसे संपर्क किया जा सकता हैं।

Related Articles

DMCA.com Protection Status
पान का इतिहास | History of Paan महा शिवरात्रि शायरी स्टेटस | Maha Shivratri Shayari सवाल जवाब शायरी- पढ़िए सीकर की पायल ने जीता बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड सफल लोगों की अच्छी आदतें, जानें आलस क्यों आता हैं, जानिएं इसका कारण आम खाने के जबरदस्त फायदे Best Aansoo Shayari – पढ़िए शायरी