NewsNagda

गंजा कहना पिता को गुजरा ना नागवारा, ईंट से कर दी सौतेली बेटी की हत्या

मामला लॉज में दो दिन पूर्व हुई युवती की हत्या का
रविन्द्र सिंह रघुवंशी / नागदा । गोल्डन लॉज में 2 दिन पूर्व हुई एक युवती कि हत्या में पुलिस को सफलता मिल गई है। युवती के सौतेले पिता ने ही उसे मौत के घाट उतारा था। सौतेले पिता मानसिंह ने सोमवार रात को पुलिस के समक्ष स्वीकार कर लिया है। मंगलवार दोपहर एक बजे सीएसपी मनोज रत्नाकर और थाना प्रभारी श्याम चंद्र शर्मा ने प्रेस वार्ता आयोजित कर खुलासा किया। आरोपी मान सिंह ने बताया कि सौतेली बेटी सोनाली उस के साथ अभद्र व्यवहार करती थी। जबकि घर का सारा काम खाना बनाना, पानी बनना, कपड़े धोना आदि वह करता था उसके बावजूद भी आए दिन सोनाली उसके साथ गाली गलौज करती थी। इस बात से नाराज होकर उसने उक्त घटना को अंजाम दिया। पुलिस ने मानसिंह के खिलाफ भादवी की धारा 302 में प्रकरण दर्ज कर न्यायालय में पेश किया। जहां से उसे जेल भेज दिया गया।
क्या है घटनाक्रम
पुराने बस स्टैंड पर स्थित गोल्डन लॉज में बने किराए के कमरे में से रविवार सुबह 11 बजे एक 19 वर्षीय युवती सोनाली का शव खून से लथपथ हालात में मिला था। मंडी पुलिस ने मौके पर पहुंचकर जांच की और शव का पीएम कराकर परिजनों को सौंप दिया था। सोनाली अपनी माता भूरी बाई के मकान में रहती थी। सोनाली ने भी महिदपुर निवासी एक युवक विशाल से करीब एक वर्ष पूर्व विवाह किया था, लेकिन दोनों के बीच में विवाद हो गया नवंबर 2020 में सोनाली ने विशाल के खिलाफ पुलिस थाने में भादवि की धारा 376 में प्रकरण दर्ज करवाया था। जनवरी माह में ही विशाल जमानत पर जेल से बाहर आया था।
nagda-news-father-turns-out-to-be-step-daughter-killer-case-of-womans-murder-in-golden-lodge-nagda
गंजा कहना पिता को गुजरा ना नागवारा, ईंट से कर दी सौतेली बेटी की हत्या
बताया जा रहा है कि जेल से बाहर आने के बाद विशाल और उसके परिजनों का सोनाली से विवाद हुआ था इसका फायदा उठाकर मानसिंह ने सोनाली की हत्या कर दी ताकि यह लगेगी उस युवक ने बदला लेने की भावना से हत्या की है। मान सिंह ने भी पुलिस को बताया था कि विशाल ने हत्या की  है। सोनाली की मां भूरीबाई ने दूसरी शादी मानसिंह गुर्जर से लगभग 2 वर्ष पूर्व शादी की थी। मृतक सोनाली की चार माह की एक बेटी भी है।
कैसे दिया घटना को अंजाम
मानसिंह प्रतिदिन सुबह 6 बजे उठकर अपनी पत्नी भूरी बाई के साथ 7 बजे मुक्तेश्वर महादेव मंदिर में संचालित होने वाली नीलाम सब्जी मंडी में चला जाता था. वहां से सब्जी खरीदकर दोनों सुबह 8 बजे सब्जी मंडी में अपनी दुकान पर आ जाते थे। दुकान खोलने के बाद मानसिंह अपने किराए के घर गोल्डन लाॅज पर पानी भरता और पुन: दुकान पर आ जाता था।
जिसके बाद वह सुबह 11 बजे जाता और खाना बनाकर पत्नी का डिफिन लेकर दुकान पर आ जाता था। प्रतिदिन कि तरह ही मानसिंह 28 फरवरी को सुबह 8 बजे जैसे ही अपने कमरे में पहुंचा वैसा ही उसकी सौतेली बेटी ने कहा गंजे दरवाजा खोल दें। मानसिंह का कहना है कि सोनाली प्रतिदिन 11 बजे उठती थी।
जिसके कारण वह बाहर से दरवाजा लगाकर चले जाते थे। आए दिन बेटी के गौली गलौच और अभद्र व्यवहार करने से मानसिंह परेशान हो गया था। मानसिंह का यह भी कहना था कि उसकी पत्नी भूरी बाई के साथ गाली गलौच और मारपीट कर चुकी है। 28 फरवरी को उसका गुस्सा बढ़ गया और उसने सोनाली को घर में रखी ईंट से सिर पर मार दिया। जिससे वह गिर गई और सोनाली की मौत हो गई।
जिसके बाद मानसिंह ने कमरे के बाथरूम में अपने हाथ और कपड़े धाेएं। और मौके से खून के निशान मिटाकर ईंट छिपा दी। और सोनाली के मुंह पर तकिया रख बाजार आ गया। सुबह 11 बजे अपने साले के बेटे को लेकर घर खाना बनाने के लिए पहुंचा और खाना बनाने की तैयारी करने लगा। इधर साले के बेटे ने बिस्तर में पड़े शव के मुंह से तकिया हटाया तो वह दंग रह गया और चिल्लाया। जिसके बाद पुलिस को सूचना दी गई और पुलिस मौके पर पहुंची।
कैसे आया पुलिस गिरफ्त में
घटना स्थल पर जब पुलिस पहुंची तो मानसिंह ने ओवर एक्टिंग की और कहने लगा कि इसके पति विशाल ने ही। इसकी हत्या की है। पुलिस ने लॉज के कैमरे खंगाले तो किसी भी कैमरे में विशाल नजर नहीं आया। यहां तक कि घटना वाले दिन भी विशाल की मोबाइल लोकेशन उसके घर महिदपुर की मिली। पुलिस ने जब आसपास पूछताछ की तो पता चला कि आए दिन सोनाली का घर में माता पिता से झगड़ा होता था। पुलिस को दूसरी शंका यह हुई कि प्रतिदिन मानसिंह खाना बनाने दुकान से अकेले आता था, लेकिन 28 फरवरी को अपने साले के लड़के को लेकर आया। जिससे पुलिस को शंका हुई। पुलिस ने मानसिंह से सख्ती से पूछताछ की तो मानसिंह से अपना जुर्म कबूल लिया।

KAMLESH VERMA

दैनिक भास्कर और पत्रिका जैसे राष्ट्रीय अखबार में बतौर रिपोर्टर सात वर्ष का अनुभव रखने वाले कमलेश वर्मा बिहार से ताल्लुक रखते हैं. बातें करने और लिखने के शौक़ीन कमलेश ने विक्रम विश्वविद्यालय उज्जैन से अपना ग्रेजुएशन और दिल्ली विश्वविद्यालय से मास्टर्स किया है. कमलेश वर्तमान में साऊदी अरब से लौटे हैं। खाड़ी देश से संबंधित मदद के लिए इनसे संपर्क किया जा सकता हैं।

Related Articles

DMCA.com Protection Status
पान का इतिहास | History of Paan महा शिवरात्रि शायरी स्टेटस | Maha Shivratri Shayari सवाल जवाब शायरी- पढ़िए सीकर की पायल ने जीता बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड सफल लोगों की अच्छी आदतें, जानें आलस क्यों आता हैं, जानिएं इसका कारण आम खाने के जबरदस्त फायदे Best Aansoo Shayari – पढ़िए शायरी