Newsधर्म

पंचामृत तैयार करने का विधिवत तरीका । Method of preparation of panchamrit

पंचामृत तैयार करने का विधिवत तरीका । Method of preparation of panchamrit । how to make panchamrit

सनातन धर्म के धार्मिक रीति-रिवाजों का सम्बन्ध आत्मिक शुद्धि से होता है. मनुष्य जीवन की सार्थकता पूर्णतया आत्मा की शुद्धता अर्थात विचारों की पवित्रता पर पूर्णता निर्भर करती है. धार्मिक आयोजनों में इस्तेमाल की जाने वाली सामग्री में सात्विक वस्तुओं का प्रयोग करने के पीछे मानव के संस्कार में सात्विकता का समावेश करने का बेहद ही सुंदर संदेश निहित होता है.

इन्हीं प्राचीन हिंदू संस्कारों की ओर मानव का ध्यान आकर्षित करने के लिए मंदिरों एवं धार्मिक अनुष्ठानों में पंचामृत को विशेष रूप से शामिल करने का नियम बनाया गया है. तो आइये हमारे साथ जाने इस लेख के जरिए पाँच सात्विक वस्तुओं के मिश्रण से पंचामृत तैयार करने की विधि.

पंचामृत अर्थात पाँच प्रकार के अमृत तुल्य गुणों से युक्त वस्तुओं जैसे- दूध, दही, शहद, शक्कर और घी।  इनमें भी गाय के दूध और उससे बनी दही एवं घी के मिश्रण से तैयार पदार्थ को शामिल किया जाता है. इसका सीधा कारण है कि, गाय के दूध में वसा की मात्रा कम और पोषक तत्वों की मात्रा का अनुपात उचित मात्रा में शामिल होता है. आयुर्वेद में गाय के दूध को अमृत तुल्य माना जाता है.

how-to-make-panchamrit

इन वस्तुओं में पाए जाने वाले गुण इस प्रकार हैं:

दूध : यह निर्मलता व शुद्धता का प्रतीक है. मतलब मनुष्य का विचार पवित्र एवं दूध की तरह दोष रहित होना चाहिए.

दही : दही दूध से हीं निर्मित होता है, और दूध के सामान ही पौष्टिक एवं अनेक प्रकार से शरीर के लिए उपयोगी होती है. यानी कि हमें अपने पवित्र आचरण से दूसरों में भी पवित्रता का समावेश करना चाहिए.

घी: दूध को पकाकर घी बनाया जाता है. मतलब जिस कार्य में प्रकृति एवं जीवों का कल्याण निहित हो उसे करने के लिए हर संभव बलिदान देने को तत्पर रहना चाहिए.

शहद: अनेक औषधीय गुणों से पूर्ण होने के कारण शरीर के लिए अमृत के रुप में कार्य करता है. अर्थात हमें प्राणियों के दुःख दर्द में शहद के औषधीय गुणों की भाँति सहायक सिद्ध होना चाहिए.

शक्कर: चीनी अपने मिठास के लिए जानी जाती है. इसका अर्थ है कि, जीवन में सौहार्द एवं मधुरता बनाए रखने के लिए वाणी में मधुरता का समावेश होना चाहिए.

पंचामृत बनाने की विधि :

सामग्री :

how-to-make-panchamrit

गाय का कच्चा दूध – 1/2 लीटर

दही – 125 ग्राम

शक्कर – 100 ग्राम

शहद – 1 टेबल स्पून

गाय का घी – 1 टी स्पून

चिरौंजी – 15 ग्राम

मखाना – 15 ग्राम

गंगा जल – पाँच बूँद

तुलसी दल – पाँच

पंचामृत बनाने की विधि:

how-to-make-panchamrit

सबसे पहले आप एक बर्तन में गाय के कच्चे दूध में चीनी को मिक्स करें. जिसके बाद उसमें गाय के घी और शहद को मिक्स करें. अब चिरौंजी, मखाना और गंगा जल डाल कर मिक्स करें. सबसे आखिरी में दही को मिश्रण में अच्छी तरह मिलायेंगे. जिसके बाद ऊपर से तुलसी दल डालकर मिक्स करें. बस पंचामृत का प्रसाद बनकर तैयार हो गया।

पंचामृत एक प्रसाद होने के साथ ही शरीर के लिए बेहद ही गुणकारी होता है. इसका उचित मात्रा में सेवन से शरीर हमेशा रोगमुक्त रहता है. इसमें कैल्शियम की मात्रा भरपूर होने के कारण हड्डियाँ मजबूत होती हैं. इतना ही नहीं सात्विक वस्तुओं के मिश्रण से तैयार होने के कारण सकारात्मक उर्जा में वृद्धि होती है जिससे मनुष्य का अवचेतन मन शांत रहता है.

इसे भी पढ़े :

Ravi Raghuwanshi

रविंद्र सिंह रघुंवशी मध्य प्रदेश शासन के जिला स्तरिय अधिमान्य पत्रकार हैं. रविंद्र सिंह राष्ट्रीय अखबार नई दुनिया और पत्रिका में ब्यूरो के पद पर रह चुकें हैं. वर्तमान में राष्ट्रीय अखबार प्रजातंत्र के नागदा ब्यूरो चीफ है.

Related Articles

DMCA.com Protection Status
सवाल जवाब शायरी- पढ़िए सीकर की पायल ने जीता बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड सफल लोगों की अच्छी आदतें, जानें आलस क्यों आता हैं, जानिएं इसका कारण आम खाने के जबरदस्त फायदे Best Aansoo Shayari – पढ़िए शायरी