धर्म

ॐ त्र्यंबकम मंत्र | Om Tryambakam | Mahamantra

ॐ त्र्यंबकम मंत्र | Om Tryambakam | Mahamantra

ॐ के उच्चारण से मनुष्य की सभी इंद्रिया एकाग्र चित हो जाती है। शरीर में एक साहसिक एनर्जी की अनुभूति होती है। ॐ न केवल एक मंत्र बल्कि महामंत्र की श्रेणी में आती है। ॐ त्र्यंबकम मंत्र का सावन माह में प्रतिदिन 108 बार जाप करने से मोक्ष की प्राप्ति होती है। इतना ही नहीं यदि इस मंत्र को किसी रोगी के समक्ष कह दिया जाए तो वह अतिशीघ्र स्वस्थ हो जाता है। आज इस आर्टिकल में हम आपको ॐ त्र्यंबकम मंत्र | Om Tryambakam | Mahamantra का अर्थ और लाभ के बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी देंगे। आशा करते हैं आप पोस्ट को शुरू से लेकर अंत तक जरूर पढ़ेंगे।

ॐ त्र्यंबकम मंत्र | Om Tryambakam | Mahamantra

 
महामृत्युंजय मन्त्रः – ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्
Maha Mrityunjaya Mantra – Om Tryambakam Yajamahe Sugandhim Pustivardhanam

 

ॐ त्र्यम्बकं यजामहे
सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम् ।
उर्वारुकमिव बन्धनान्
मृत्योर्मुक्षीय मामृतात् ॥
 
Om Try-Ambakam Yajaamahe
Sugandhim Pusstti-Vardhanam
Urvaarukam-Iva Bandhanaan
Mrtyor-Mukssiiya Maa-[A]mrtaat ||
 

Meaning of Maha Mrityunjaya Mantra 

 
1: Om, We Worship the Tryambaka (the Three-Eyed One),
 
2: Who is Fragrant (as the Spiritual Essence), Increasing the Nourishment (of our Spiritual Core);
 
3: From these many Bondages (of Samsara) similar to Cucumbers (tied to their Creepers),
 
4: May I be Liberted from Death (Attachment to Perishable Things), So that I am not separated from the perception of Immortality (Immortal Essence pervading everywhere).
 

ॐ त्र्यंबकम मंत्र के लाभ

  • ॐ त्र्यंबकम मंत्र का जाप करने से मनुष्य जीवन में आ रहे तमाम प्रकार के कष्ट समाप्त होते हैं।
  • ॐ त्र्यंबकम मंत्र का जाप करने से परिवार में सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है।
  • यह मंत्र का जाप करने से मनुष्य की मनोकामना और मनोरथ पूर्ण होते हैं।
  • यह मंत्र भगवान शिवजी जी का बहुत ही प्रिय मंत्र है।
  • जो भी जातक इस मंत्र का जाप करता है शिवजी जी उनसे बहुत प्रसन होते हैं। 
  • इस मंत्र का जाप करने से हर बीमारी से निजात मिलता हैं। साथ ही शिवरात्रि व्रत का लाभ प्राप्त होता है।

ॐ त्र्यंबकम मंत्र की विधि

  • ॐ त्र्यंबकम मंत्र का जाप रुद्राक्ष की माला से करना चाहिए।
  • इस मंत्र का जाप शिवलिंग के सामने बैठकर करना चाहिए।
  • मंत्र जाप शुरू करने से पहले शिवजी पर बेलपत्र,धतूरा और फूल अपर्ण करें।
  • शिवजी जी के सामने दीपक प्रज्वलित करें।
  • सच्चे मन से मंत्र जाप करने से हर मनोकामना पूर्ण होती है।

ॐ त्र्यंबकम मंत्र PDF

 

इसे भी पढ़े : 

FAQ’S

Q.1 ॐ त्र्यंबकम यजामहे का क्या अर्थ है?

ॐ त्र्यंबकम यजामहे का अर्थ है हम त्रिनेक जी की पूजा करते है।

Q.2 सावन में ॐ त्र्यंबकम मंत्र का जाप कितनी बार करना चाहिए?

सावन में ॐ त्र्यंबकम मंत्र का जाप 108 बार करना चाहिए।

KAMLESH VERMA

दैनिक भास्कर और पत्रिका जैसे राष्ट्रीय अखबार में बतौर रिपोर्टर सात वर्ष का अनुभव रखने वाले कमलेश वर्मा बिहार से ताल्लुक रखते हैं. बातें करने और लिखने के शौक़ीन कमलेश ने विक्रम विश्वविद्यालय उज्जैन से अपना ग्रेजुएशन और दिल्ली विश्वविद्यालय से मास्टर्स किया है. कमलेश वर्तमान में साऊदी अरब से लौटे हैं। खाड़ी देश से संबंधित मदद के लिए इनसे संपर्क किया जा सकता हैं।

Related Articles

DMCA.com Protection Status
पान का इतिहास | History of Paan महा शिवरात्रि शायरी स्टेटस | Maha Shivratri Shayari सवाल जवाब शायरी- पढ़िए सीकर की पायल ने जीता बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड सफल लोगों की अच्छी आदतें, जानें आलस क्यों आता हैं, जानिएं इसका कारण आम खाने के जबरदस्त फायदे Best Aansoo Shayari – पढ़िए शायरी