घर में सुख – शांति के लिए बेहद ही चमत्कारी मंत्र

0
100
ghar-main-sukh-shanti-ke-liye-mantra

Ghar Main Sukh-Shanti Ke Liye Mantra | घर में सुख – शांति के लिए मंत्र- दोस्तों कलयुग चल रहा है, हर इंसान यह चाहता हैं कि, उसके जीवन में अपार खुशियां भरी रहे. परिवार में हमेशा सुख शांति बनी रही. जहां हर – दम दुख एवं कलेश का ही माहौल बना रहता है, जहां पर रहने वाले सभी लोग अपनी ही मन मर्ज़ी के मालिक बनें रहते हैं और परिवार में समृद्धि लाने के लिए बिल्कुल भी नहीं सोचते है, यदि आप भी ऐसे ही परिवार में रहते हैं. परिवारी की परेशानियों से चिंतित हैं. तो आज आप बिल्कुल सही वेबसाइट पर आएं है, क्योंकि आज हम पोस्ट के जरिए आपके लिए कुछ मंत्र लेकर आएं है, जिनका यदि आप रोज़ाना जाप करेंगे तो आपके घर में जल्द ही सुख – शांति का प्रवेश होगा.

लेकिन उनसे पहले समझ लेते हैं कि मंत्र आखिर कहते किन्हें है और इनका हमारी ज़िन्दगी में होने से हमारे ऊपर क्या – क्या प्रभाव पड़ता है.
मंत्र का क्या अर्थ होता है? और यह किस काम आते हैं.

ghar-main-sukh-shanti-ke-liye-mantra

दोस्तों जैसा की आप सभी को ज्ञात होगा कि, किसी भी शुभ कार्य को शुरू करने से पहले मंत्रों के द्वारा ही उसकी सही शुरुआत एवं शुद्धिकरण किया जाता है, चाहे वो शुभ कार्य किसी का विवाह हो, घर में हवन का हो या फिर हो गृह प्रवेश का हर कार्य कि सफलतापूर्वक शुरुआत के लिए इन्हीं मंत्रों का ही सहारा लिया जाता है, ताकि जिस भी कार्य कि हम आज शुरुआत कर रहें हैं वह भविष्य में ओ चलकर सफल हों.

यदि देखा जाए तो मंत्र का अर्थ एकदम स्पष्ट है यानी कि मन को एक तंत्र में बांधना. जैसे कभी – कभी हमारे मन में कुछ बेफिजूल और बेकार के विचार भर जातें हैं, जिससे कि हमारा मन बिना मतलब ही दुखी हो जाता है और हम तरह – तरह कि चिंताओं से भर जातें है, ऐसी परिस्थिति में मंत्र सबसे कारगर औषधि होती है.

चलिए अब जानते हैं कि कौन – कौन से वो मंत्र हैं जिनकी सहायता से हम अपने घर के वातावरण को नकारत्मक से सकारात्मक रूप प्रदान कर सकते हैं.

घर में सुख-शांति के लिए मंत्र (Ghar Main Sukh-Shanti Ke Liye Mantra)

1. “ॐ सूर्य देवाय नमः”

यदि आप भी अपने घर में दूसरों कि तरह सुख – शांति का माहौल लाना चाहते हैं और चाहते हैं कि परिवार के सभी लोग खुशी से अपनी ज़िन्दगी को जिए, तो पूरे दिन का सबसे पहला और सबसे आसान एवं ज़रूरी काम ये करें कि सुबह जल्दी उठें और जल्दी उठकर नहाने के बाद एक लोटा लेकर उसमें थोड़ा जल लें और उस जल में लाल फूल, सिंदूर और थोड़ा सा गुड़ डालकर सूर्यदेव को यह जल चढ़ाएं, और साथ में “ॐ सूर्य देवाय नमः” का 11 बार जप करें, ऐसा प्रतिदिन निश्चित रूप से करेंगे तो आप देखेंगे की जीवन कि सभी परेशानियां खत्म होंगी और ऐसा करने से धीरे धीरे आपके घर में सुख, समृद्धि और शांति तीनों अच्छी तरह से भर जाएंगी.

2. यानि कानि च पापानि जन्मांतर कृतानि च तानि सरवानि च तानि सरवानि नश्यन्तु प्रदक्षिणा पदे पदे ।।

याने कि हमारे द्वारा दैनिक जीवन में हमसे जितने भी जाने – अनजाने में पाप करते हैं या फिर जितने भी पाप हमने अपने पूर्वजन्म में भी किए हैं वो सारे पाप प्रदक्षिणा के साथ – साथ नष्ट हो जाएं और परमपिता परमेश्वर हमें सद्बुद्धि प्रदान करें. इस मंत्र का जाप रोज़ाना पूर्व दिशा कि ओर मुख करके 7 दिनों तक लगातार 3 बार इस मंत्र जप करेंगे तो जल्द ही आपको आपके घर में शांति का माहौल देखने को मिलेगा.

3. ॐ स्वस्ति न इन्द्रो वृद्धश्रवाः। स्वस्ति नः पूषा विश्ववेदाः।
स्वस्ति नस्तार्क्ष्यो अरिष्टनेमिः। स्वस्ति नो बृहस्पतिर्दधातु ॥
ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः ॥

इस मंत्र का मतलब है कि, हे महान कीर्ति वाले इन्द्र हमारा कल्याण करो, विश्व के ज्ञानस्वरूप पूषादेव हमारा कल्याण करो, गरुड़ भगवान हमारा मंगल करो, ब्रहस्पति हमारा मंगल करो ॐ शांति शांति शांति दोस्तों इस मंत्र का भी जाप रोज़ाना करने से आपके घर में कलेश आदि का वातावरण दूर होगा और आप सुख शांति का अपने घर में अनुभव करेंगे.

4. कृष्णाय वासुदेवाय हरये परमात्मने। प्रणत क्लेशनाशाय गोविन्दाय नमो नम:॥

ये मंत्र एक तरह का कलेशनाशक मंत्र है इस मंत्र का प्रतिदिन जाप किया जाए तो आपका घर – परिवार सब कुछ हर तरह कि दुख परेशानियों से दूर होगा याने कि कलेश आदि से मुक्त रहेगा और फिर से सुख शांति का माहौल बनने लगेगा.

5. ॐ नम: शिवाय

हम में से कई ऐसे हिंदू भाई होंगे जो भगवान शिव में आस्था रखते ही होंगे. उनकी पूजा व भक्ति भी रोज़ाना करते ही होंगे. आपको इस मंत्र के बारे में ज्ञान ज़रूर होगा ही. यह मंत्र दुनिया का बेहद ही शक्तिशाली मंत्र है. मंत्र का निरंतर जाप करते रहने से आप सभी को चिंतामुक्त जीवन प्राप्त होता है और साथ ही साथ आंतरिक शांति भी प्रदान होती है. इस मंत्र का उच्चारण आप शिव लिंग पर जल व बिल्वपत्र चढ़ाते हुए इस शिव मंत्र का जाप करें. यदि आप चाहे तो रुद्राक्ष कि माला से भी जाप कर सकतें है.

6. श्री राम, जय राम, जय जय राम

दोस्तों इस मंत्र का जाप कौन नहीं करता, बल्कि हम और आप हर कोई राम नाम का नाम अपनी रोजमर्रा कि ज़िन्दगी में रोज़ाना ही करते हैं। आम तौर पर किसी से भेंट करते समय या किसी का अभिवादन भी करते समय हम आपस में राम – राम ज़रूर बोलते हैं, आपको पता ही होगा कि श्री राम का नाम तो खुद राम से भी बढ़कर है हनुमान जी भी खुद हमेशा राम नाम का ही जाप करते हैं, राम के नाम से मन में शांति का वास होता है तथा हर प्रकार कि चिंता से मुक्ति मिलती है, साथ ही मन में आ रहें सभी प्रकार के नकारात्मक विचारों से छुटकारा भी प्राप्त होता है.

7. ॐ हं हनुमते नम:

श्री राम के नाम के बाद आपको उनके परम भक्त हनुमान जी का भी स्मरण करना चाहिए जिसमे आप ऊपर दिए गए मंत्र का जप कर सकतें हैं, यदि मन में किसी भी प्रकार की घबराहट, डर या चिंता सताती है तो लगातार प्रतिदिन इस मंत्र का जप करना चाहिए और फिर निश्चिंत हो जाना चाहिए. किसी भी कार्य की सफलता और विजयी होने के लिए इसका निरंतर जप करना चाहिए. यह मंत्र आपका आत्मविश्वास बढ़ाने में बेहद ही मददगार होते हैं.

इसे भी पढ़े :

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here