बीमारियों में बेहद ही फायदेमंद होता है आंवले का सेवन

0
16
amla-effective-for-these-problems

बीमारियों में बेहद ही फायदेमंद होता है आंवले का सेवन ( amla effective for these problems)

हिंदू धर्म में पौराणिक मान्यता है कि, पृथ्वी जब पूरी तरह जल में डूबी हुई थी, तब ब्रह्मा जी के आँसुओं से आँवले के पेड़ का जन्म हुआ था. आँवला एक ऐसा खट्‌टा फल है जिसके गुणों के कारण आयुर्वेद में इसे एक औषधि माना गया है. आयुर्वेद में तो आँवला को इंसारनी शरीर के लिए अमृत तुल्य बताया गया है. कई बीमारियों में यह रामबाण दवा के रूप में कार्य करता है. आँवले में विटामिन सी प्रचूर मात्रा में पाया जाता है और इसका सेवन हर मौसम में किया जा सकता है. इसका सेवन करने से पाचन से संबंधित बीमारियों के अलावा आँख, बालों, और त्वचा की समस्याओं में भी  जल्द लाभ मिलता है.

मालूम हो कि, आँवले में एंटीऑक्सिडेंट्स के साथ-साथ कैल्शियम, पोटसियम, कार्बोहाइड्रेट, मैग्नीशियम, विटामिन सी, आयरन, विटामिन एबी कॉम्प्लेक्स जैसे खनीज तत्व प्रचुर मात्रा में मौजूद होते हैं. गर्म किए जाने पर भी आँवले के लाभकारी तत्व नष्ट नहीं होते हैं. इसलिए चाहे जिस भी रूप में आँवले का सेवन किया जाए, यह कई रोगों को जड़ से मिटाने की ताकत रखता है. चलिए लेख के जरिए जानते हैं कि आँवले के सेवन से किन बीमारियों से छुटकारा मिलता है.

डायबिटीज़

आँवले में क्रोमीयम होता है जिससे डायबिटीज़ के उपचार में मदद मिलती है.

पेट के रोग

amla-effective-for-these-problems

आँवले में फ़ाइबर भरपूर मात्रा में होता है. इसका सेवन से पाचन क्रिया सुचारू रखने में फायदा मिलता है. ऐसिडिटी की समस्या होने पर भी आँवला के सेवन से लाभ मिलता है. उपाय स्वरूप आँवला पाउडर को चीनी के साथ मिलाकर सेवन करना चाहिए. आँवले के जूस का नियमित सेवन करने से पेट की तमाम तकलीफ़ों से छुटकारा मिलता है.

वेट लॉस

आँवले के पाउडर का सेवन शहद और गुनगुने पानी के साथ करने से वजन कम करने में मदद मिलती है.

पथरी

पथरी की समस्या में भी आँवला कारगर है. पथरी होने पर आँवले के पाउडर को मूली के रस में मिलाकर नियमित सेवन करने से जल्दी ही पथरी गल जाती है.

हृदय रोग

आँवले का नियमित रुप से सेवन करने से हृदय की मांसपेशियाँ मज़बूत होती हैं. यह शरीर में ब्लड सर्कुलेशन को बढ़ाता है और नलिकाओं में अवरोध को समाप्त करता है. इसलिए ह्दय रोगियों को आँवले के सेवन से लाभ मिलता है.

हीमोग्लोबिन

रक्त में हीमोग्लोबिन की कमी होने पर आँवले का रस पीना चाहिए. आँवला शरीर में रेड ब्लड सेल्स के निर्माण में मदद करता हैं.इसलिए ख़ून की कमी दूर करने के लिए आँवले के रस या पाउडर के अलावा जूस, मुरब्बा, जैम, अचार, सब्ज़ी या अन्य किसी भी रूप में भी आँवले का नियमित रूप से सेवन करना शुरू कर देना चाहिए.

ख़ून की सफ़ाई

आँवले को नियमित रुप से खाने से ख़ून साफ़ होता है. इसलिए आँवले के सेवन से कील-मुहाँसों व त्वचा की विभिन्न समस्याओं से भी छुटकारा मिलता है.

इम्यूनिटी

आँवला में विटामिन सी भरपूर मात्रा में उपलब्ध होता है. इसमें एंटीऑक्सीडेंट्स भी होते हैं. इसलिए यह शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में मददगार है. वर्तमान समय में पूरी दुनिया के सभी लोगों को कोरोना संक्रमण का डर है, हम नियमित रूप से आँवले का सेवन करके वाइरल संक्रमण, कोरोना और अन्य प्रकार के संक्रमण का ख़तरा कम कर सकते हैं.

आँखों की रोशनी

amla-effective-for-these-problems

आँवला आँखों की रोशनी बढ़ाने में बेहद ही कारगार है. इसके लिए रोज़ाना एक चम्मच आँवला पाउडर शहद के साथ लें या आँवला रस का सेवन करें. मोतियाबिंद के रोगियों के लिए भी आँवला अमृत तुल्य है. इन रोगियों को नियमित रूप से आँवला का सेवन करना चाहिए.

दाँतों का दर्द

दाँत का दर्द और कैविटी की समस्या होने पर आँवले के रस और कपूर के मिश्रण को मसूड़ों पर लगाने से आराम मिलता है. दाँतों की कई प्रकार की बीमारियों में आँवला मददगार है.

बुखार

बुखार से निजात पाने के लिए आँवले के रस का सेवन करना चाहिए.

बवासीर

आँवले के रस के सेवन से बवासीर की बीमारी में लाभ मिलता है.

नकसीर

नकसीर की समस्या में आँवले के सेवन से लाभ मिलता है.

स्त्री रोग

महिलाओं की माहवारी से संबंधित दर्द, अनियमितता व अन्य समस्याओं और विभिन्न स्त्री रोगों में आँवले का सेवन लाभकारी है.

तनाव

आँवले का सेवन करने से तनाव कम होता है. आँवले का तेल लगाने से सर में ठंडक मिलती है. इससे पर्याप्त नींद भी आती है.

गर्मी और उत्तेजना से राहत

ज़्यादा गर्मी लगने पर आँवले के रस का सेवन करने से राहत मिलती है. इसके अलावा इससे उग्रता और उत्तेजना से भी शांति मिलती है. अचानक से पसीना आना, धातु रोग, प्रदर, प्रमेय जैसे रोगों में भी आँवले का रस असरदार है.

उल्टी

आँवले के रस को मिश्री में मिलाकर सेवन करने से उल्टियाँ रुक जाती हैं. इसके लिए दिन में कम-से-कम दो से तीन बार इस मिश्रण का सेवन करें.

हिचकी

बार-बार हिचकी आने पर भी आँवले के रस में मिश्री मिलाकर सेवन करने से लाभ मिलता है. इतना ही नहीं आँवला पाउडर या रस में शहद मिलाकर भी सेवन किया जा सकता है.

मूत्र विकार

मूत्र विकार होने पर आँवले का सेवन करने से मदद मिलती हैं. इसके लिए आँवले के पाउडर का सेवन करें या आँवले के छाल और रस का सेवन करें.

कुष्ठ रोग

कुष्ठ रोग में आँवले के रस का सेवन करने से लाभ मिलता है.

मेमोरी पावर

दिमाग़ मज़बूत बनाने और याददाश्त बढ़ाने के लिए आँवला फ़ायदेमंद होता है. अध्ययन करने वाले बच्चे अगर आँवला का सेवन किया करें तो उनका दिमाग़ तेज़ होता है.

रिंकल्स

amla-effective-for-these-problems

चेहरे से फ़ाइन लाइन्स और झुर्रियाँ दूर करने के लिए भी आँवला कारगर है. आँवले का पेस्ट चेहरे पर लगाने से धीरे-धीरे झुर्रियाँ कम होने लगती हैं और रंग-रूप भी निखरता है. आँवला कोलाजेन बढ़ाने में मददगार है. इसलिए इसका सेवन करने से और आँवले से बने फ़ेस पैक्स का इस्तेमाल करने से त्वचा जवाँ बनी रहती है.

डार्क स्पॉट्स

आँवले से बने फ़ेस पैक्स के इस्तेमाल से सिर्फ़ झुर्रियाँ ही नहीं बल्कि चेहरे पर मौजूद दाग़-धब्बे भी दूर होते हैं और चेहरे पर प्राकृतिक ग्लो आता है. यदि आपकों डार्क स्पाट्स की समस्या हैं तो आँवले के फ़ेस पैक ज़रूर लगाएँ.

बालों के लिए

बालों को स्वस्थ रखने और इनकी सुंदरता बढ़ाने के लिए आँवले को काफ़ी असरदार माना जाता है. आँवले के पाउडर का लेप बालों में लगाने से या आँवला पाउडर को शैम्पू की तरह इस्तेमाल करके बाल धोने से बाल काले, घने, और चमकदार बनते हैं.

इसे भी पढ़े :

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here