ग्रेसिम उद्योग नागदा के ठेका श्रमिकों को कार्य बुलाएं जाने के लिए सीएम को पत्र लिखा

 ग्रेसिम उद्योग नागदा के ठेका श्रमिकों को कार्य बुलाएं जाने के लिए सीएम को पत्र लिखा

बिरलाग्राम स्थित ग्रेसिम उद्योग का पावर हाउस गेट का फाइल फोटो।

grasim industries limited nagda में कार्यरत करीब 3500 ठेका श्रमिक बीते 23 मार्च से बेरोजगार है। कोरोना महामारी के कारण श्रमिकों बीते 23 मार्च से कार्य से विरह रखा गया है। अनलॉक प्रक्रिया के अंतर्गत ग्रेसिम उद्योग 05/05/2020 को शुरू कर दिया गया है।

लेकिन उद्योग में कार्यरत 3500 ठेका श्रमिको को काम पर नहीं रखा गया है। मामले को लेकर भारतीय कम्युनिरूट पार्टी नागदा सचिव नटवरसिंह यादव ने सीएम शिवराजसिंह चौहान को एक पत्र लिखा है। जिसमें बताया है कि, एसडीएम नागदा पुरुषोत्तम कुमार ने  05/08/2020 से ग्रेसिम उद्योग को शत-प्रतिशत चलाने की अनुमति दे दी है।

यह खबर आपने पढ़ी क्या : नागदा शहर में कोरोना ब्लास्ट, भाजपा पूर्व विधायक समेत 9 चपेट में

ग्रेसिम उद्योग 70-80 प्रतिशत चल रहा है। प्रबंधक grasim industries limited nagda  अवैधानिक तरीके से मजदूरों को काम व वेतन नहीं देकर ‘कोरोना काल‘ का लाभ उठा रहा है जो अनैतिक भी है। हमारे द्वारा दिनांक 18/08/2020 को जिला प्रशासन को भी पत्र के माध्यम से सभी ठेका व स्थायी श्रमिको को काम पर रखने की मांग रखी थी।

यह खबर आपने पढ़ी क्या : चामुंडा माता मंदिर नागदा के शिखर को छूने लगी मां चामुंडा

नागदा स्थित अन्य उद्योग भी ग्रेसिम उद्योग का अनुसरण कर सभी मजदूरों को काम व वेतन नहीं दे रहे है। ग्रेसिम उद्योग को चलते हुए साढ़े चार माह हो गए और इतने ही दिनों से मजदूर बिना काम व बिना वेतन के घर पर भूखा बैठा है।

grasim industries limited nagda आदित्य बिरला ग्रुप का होकर मालिक कुमार मंगलम् बिरला है, कुमार मंगलम् बिरला ने छिन्दवाड़ा (म.प्र.) में हीरा खदान 50 वर्ष के लिए लीज पर ली है। इस खदान के शुरू होने पर एक अनुमान के अनुसार प्रतिवर्ष 1000 करोड़ रुपए कमाई होगी। जबकि एक हजार करोड़ से ज्यादा कमाई प्रतिवर्ष ग्रेसिम से होती है।

wrote-letter-to-cm-to-call-contract-workers-of-grasim-udyog-nagda
बिरलाग्राम स्थित ग्रेसिम उद्योग का पावर हाउस गेट का फाइल फोटो।

नोट : उक्त खबर सीपीआई सचिव नटवरसिंह यादव द्वारा जारी किए गए प्रेस बयान के आधार पर है।

KAMLESH VERMA

https://newsmug.in

Related post