नागदा के गांव पिपलियाशीष में आगजनी से तीन मवेशी जिंदा जले

 नागदा के गांव पिपलियाशीष में आगजनी से तीन मवेशी जिंदा जले

घटना स्थल पर जांच करते पुलिस अधिकारी।

  • गांव पिपलियाशीष में आगजनी की घटना से तीन मवेशी जिंदा जले
  • प्रशासन का अमला व हिंदु जागरण मंच के कार्यकर्ता मौके पर पहुंचे

नागदा। शहर के लगभग 13 किलोमीटर दूर गांव पिपलियाशीष में गुरूवार की अलसुबह एक दर्दनाक हादसा हुआ। एक किसान के खेत पर आगजनी की घटना होने से दो गाय व एक बछडे की मौत हो गई। घटना की सूचना मिलते ही प्रशासनिक अमला अलर्ट हो गया।

हिंदु जागरण मंच के पदाधिकारी व कार्यकर्ता गांव पहुंच गए। मामले संदिग्ध होने पर सीएसपी मनोज रत्नाकर ,बिरलाग्राम थाना प्रभारी हेमंतसिंह जादौन दलबल के साथ मौके पर पहुंचे ओर मुआयना किया। राजस्व विभाग ने भी पंचनामा बनाया जिसके बाद पशु चिकित्सालय द्वारा गायों का पीएम किया गया।

इधर पुलिस ने प्रथम दृष्टिया आगजनी की घटना का प्रकरण दर्ज कर मामला जांच में लिया है। चूंकि जिस स्थान पर घटना हुई वहां न तो विद्युत कनेक्शन न ही वहां से कोई विद्युत कंपनी की कोई हाईटेंशन लाईन गुजर रही है।

पशु मालिक का भी कहना है कि उनका कोई विवाद भी नहीं है। ऐसे में प्रश्न उठ रहा है कि यह घटना कैसे घटी। हांलाकि टापरी के अंदर घास व कंडे भी रखे हुए थे इनमें से अधिकांश कंडे जलकर राख हो गए।

क्या है घटनाक्रम

गांव के एक अजय नामक व्यक्ति सुबह 5 बजे टहल रहे थे तभी उन्होने देखा कि लालसिंह पिता दातारङ्क्षसह राजपुत के खेत पर बनी एक टॉपरी में आग की लपटे उठ रही है तो उन्होने तुरंत इसकी सूचना ग्रामीणों को दी ।

पशु मालिक को लेकर मौके पर पहुंचे और आग को बुझाया। लेकिन तब तक टापरी में आराम कर रही दो गाय व एक बछडा मौत का शिकार हो गए थे। यह दर्दनाक हादसा देख ग्रामीण भी दंग रह गए।

मां ने किया बछडे को बचाने का प्रयास

जिस स्थान पर आगजनी की घटना हुई वहां एक गर्भवती गाय व एक बछडा बंधा हुआ था। इस बछडे की मां उक्त स्थान के समीप ही बंधी थी जैसे ही गौमाता ने आग लगती हुई देखी तो उसने अपने बछडे को बचाने का प्रयास किया।

लेकिन वह सफल नहीं हुई ओर आग की चपेट में वह भी आ गई। गाय ने अपने बछडे को मुंह से बचाने का प्रयास किया जिससे उसका मुंह भी जल गया और वह मौत का शिकार हो गई। इस दुर्घटना में एक अन्य गाय की मौत हुई है वह गर्भवती थी।

पटवारी ने बनाया पंचनामा, चिकित्सक ने किया पीएम

घटना की सूचना मिलते ही हिंदु जागरण मंच के प्रांत उपाध्यक्ष भेरूलाल टाक अपने कार्यकर्ताओं के साथ मौके पर पहुंच ओर घटना की जांच की मांग की गई। जिसके बाद राजस्व विभाग की पटवारी भी पहुंची ओर पंचनामा बनाया।

जिसके बाद नागदा के मुख्य पशु चिकित्सक डॉ प्रदीप शर्मा ने भी मृतक गायों का पीएम किया। जिसके बाद गाय को गांव में ही दफनाया गया। इस मौके पर हिंदु जागरण मंच के रवि चौहान,मंगल कछावा, सामाजिक कार्यकर्ता मोनू ठक्कर सहित बडी संख्या में ग्रामीणजन मौजूद थे।

मामले में बिरलाग्राम थाना प्रभारी हेमंतसिंह जादौन का कहना है कि गांव पिपलियाशीष में आग लगने से तीन मवेशी जिंदा जल गए है। पंचनामा बनाकर जांच प्रारंभ कर दी है।

three-cattle-burnt-alive-due-to-arson-incident-in-nagda-village-pipliyashish
घटना स्थल पर जांच करते पुलिस अधिकारी।

KAMLESH VERMA

https://newsmug.in

Related post