ग्रेसिम केमिकल डिविजन के स्थाई ठेका श्रमिक पर हुए हमले का पूरा सच

0
25
the-full-truth-of-the-attack-on-the-permanent-contract-workers-of-grasim-chemical-division
नशेड़ियों के हमले में घायल श्रमिक गेंदालाल.

नागदा. नागदा ग्रेसिम केमिकल डिविजन (Nagda Grasim Chemical Division) के स्थायी श्रमिक योगेश और उसके सहकर्मी गेंदालाल पर 2 अगस्तर की रात दुर्गापुरा के नशेड़ियों ने पत्थरों से हमला कर दिया था.

ठेका श्रमिक की गलती इतनी थी कि, आपस में लड़ रहे नशेड़ियों को लड़ने से रोका गया. नाईट शिफ्ट में जा रहे गेंदालाल पर हुए हमले से ड्यूटी पर जा रहे अन्य श्रमिकों में भय का महौल व्याप्त हो गया.

हमलावरों ने दोनों Nagda Grasim Chemical Division के श्रमिकों का इस कदर पीछा किया कि, जान बचाते हुए दोनों श्रमिक सीधे बिड़लाग्राम थाने पहुंचे. श्रमिक योगेश ने देवेश यादव और राहुल ठाकुर के खिलाफ नामजद रिपोर्ट दर्ज करवाई है.

चौधरी के चचेरे भाई संदीप चौधरी दैनिक भास्कर नागदा को दी गई जानकारी में कहा है कि, रविवार रात ड्यूटी जाने के दौरान करीब 10.30 बजे जय माता दी ढाबे के पास दुर्गापुरा चौराहे पर कुछ युवक आपस में झगड़ा कर रहे थे.

Nagda Grasim Chemical Division के श्रमिक ड्यूटी पर लेट होने की बात कहकर युवकों से रास्ता छोड़ने का विन्रम अनुरोध किया गया. नशे में लड़ रहे युवकों ने रास्ता नहीं छोड़ते हुए बाइक की चाबी निकालकर योगेश और गेंदालाल पर हमला बोल दिया.

हमला हॉकी, लोहे के पाइप और पत्थरों से किया गया. Nagda Grasim Chemical Division ड्यूटी जा रहे अन्य श्रमिकों ने दोनों को छुड़वाने की कोशिश की तो उन पर नशेड़ियों ने पत्थर बरसाना शुरू कर दिया. घटना वाली रात नशे में धुत हमलावर फैक्टरी की ड्रेस में दिख रहे सभी श्रमिकों पर पत्थर बरसा रहे थे.