हनुमान जी के छोटे छोटे मंत्र – Small mantras of Hanuman ji

0
285
small-mantras-of-hanuman-ji

हनुमान जी के छोटे छोटे मंत्र – Small mantras of Hanuman ji

सनातन धर्म में हनुमान जी को 11वें रुद्रवतार के रुप में पूजा जाता है। श्रीराम भक्त हनुमान जी को चिरंजीवी यानी अमरता का वरदान प्राप्त हैं। किदवंती है कि कलयुग में भगवान हनुमानजी  हिमालय के जंगलों में निवास करते है। भारत के कई स्थानों पर ऐसी मान्यताएं है कि रामभक्त हनुमान जी सेवकों की सहायता के लिए कई बार अप्रत्यक्ष रूप से आते है।

चलिए लेख के माध्यम हम आपकों हनुमान जी के छोटे-छोटे मंत्रों को बता रहे हैं। ज्योतिषाचार्य उमाशंकर पंड़ित की मानें तो उक्त मंत्रों का जाप कर आप हनुमानजी के दर्शन की अनुभूति कर सकते हैं।

हिंदु संतों ने पंड़ित के मंत्रों की सत्यता को स्वीकारा है। ध्यान रहे कि मंत्रोच्चारण को लेकर विधि विधान का ध्यान आवश्यक रूप से रखें। उमा शंकर पंड़ित के अनुसार हनुमान जी के दर्शन करने का चमत्कारिक मंत्र है…………..

मंत्र : कालतंतु कारेचरन्ति एनर मरिष्णु, निर्मत्त्केर कालेत्वम अमरिष्णु ।।।

नोट : ध्यान रहे मंत्र का उच्चारण करने पर भगवान के साक्षात प्रकट होने की मान्यता है। मंत्र पढ़ने के दौरान अपनी आत्म और हनुमान के नाम का स्मरण दिल से होना चाहिए।

उच्चारण के दौरान इस बात का ध्यान रहे कि जाप किए जाने वाले स्थान के 980 मीटर के दायरे में कोई मनुष्य ना हो। दूसरे शब्दों में कहा जाए तो जाप के दौरान आपकी आत्म का बोध ही हनुमान जी कर सके। अन्य व्यक्ति की मौजूदगी मंत्र को सफल नहीं होने देगी।

हनुमान जी के छोटे छोटे मंत्र – Small mantras of Hanuman ji

संपत्ति से जुड़ी परेशानी के लिए

मंत्र : ऊं मारकाय नम:, हर मंगलवार को 9 बार जाप करें।

राेजगार में आ रही परेशानी के लिए

मंत्र : ऊं पिंगाक्षाय नम:, प्रति मंगलवार को 9 बार मंत्र का जाप करें।

मान सम्मान के लिए

मंत्र : ऊं व्यापकाय नम:, मंगलवार को इच्छाशक्ति अनुसार।

हनुमान जी के छोटे मंत्र – Small mantras of Hanuman ji

  • संकट के समय याद रखने वाले मंत्र
  • ऊं तेजसे नम:
  • ऊं प्रसन्नात्मने नम:
  • ऊं शूराय नम:
  • ऊं शान्ताय नम:
  • ऊं मारुतात्माजाय नम:
  • ऊं हनुमते नम:

small-mantras-of-hanuman-ji