सेहत

सेब खाने के फायदे और नुकसान | Seb Ke Fayde Aur Nuksan in Hindi

सेब खाने से सेहत को होने वाले फायदे और नुकसान | Benefits and Disadvanatges of Eating Apple in Hindi | Seb Ke Fayde Aur Nuksan in Hindi

कश्मीर का राजा कहा जाने वाला सेब एक ऐसा फल है जो वर्ष भर मिलता है. हम बचपन से तो सुनते आ रहे हैं किरोज़ाना एक सेबफल खाते है तो आपको किसी डॉक्टर की जरूरत नहीं पड़ती कारण सेबफल सभी पौष्टिक तत्वों से भरा होता है. यह सिर्फ रोगों को ही दूर करने में हमारी सहायता नहीं करता वरन स्वस्थ भी रखता है.

वैज्ञानिकों द्वारा सेबफल पर किए शोध में पता  चला है कि सेब से कई बीमारियों में आराम मिलता है जैसे की कैंसर, मधुमेह, ह्रदय रोग आदि. सेब में पाए जाने वाला फाइबर पाचन तंत्र को अच्छा रखता है. देखने में आता है कि अमूमन लोग सेब को छिलकर खाते है जो की बिल्कुल गलत होता है. सेब के छिलको में ही सारे पौष्टिक तत्व होते है जो शरीर के लिए आवश्यक होता है. इसके अलावा सेब शरीर में ग्लूकोज की मात्रा को भी नियंत्रित रखता है. सेब में करीब 25 प्रतिशत तक पानी होता है. पूरे विश्व में सेब की लगभग 7500 किस्मे है.

सेबफल में मौजूद एंटीऑक्सिडेंट सामग्री के कारण, यह कई पुरानी बीमारियों के जोखिम को कम करता है. इसमें फेनोलिक यौगिकों का सबसे समृद्ध स्रोत है, जो कि सीधे रक्त प्रवाह में अवशोषित होता है अत: सेब के बहुत महत्त्व है.

सेब खाने के फायदे और नुकसान

सेब के फायदे (Seb Khane ke Fayde)

आइये जानते है सेब के कुछ चमत्कारी फायदे-

1. वजन घटाने में (To Reduce Weight)

सेबफल में फाइबर और पानी होता हैं इसके अलावा, इसके कुछ प्राकृतिक यौगिक भी वजन घटाने को बढ़ावा दे सकते हैं इसलिए आप वजन कम करना चाहते है तो आपको सेबफल का सेवन नियमित करना चाहिए.

2. प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में (Increase Immune System)

सेबफल कमजोरी को रोकने, प्रतिरक्षा को बढ़ाने और मांसपेशियों में सुधार करने में एक प्रमुख भूमिका निभाते है. यदि आप वजन बढ़ाना चाहते हैं, तो भी सेब का इस्तेमाल कर सकते है. इसमें उपलब्ध कैलोरी और प्रोटीन आपको मजबूत बनाने और वजन बढाने में भी सहायक होते है.

3. खून की कमी को दूर करने में (To Reduce Anemia)

सेब खाने से एनीमिया रोग दूर होता हैं.शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं की संख्या में वृद्धि करके, सेब खाने से न केवल एनीमिया जड़ से खत्म होता है, बल्कि आवश्यक अंग प्रणालियों के उचित ऑक्सीकरण को भी सुनिश्चित करता है.

4. कोलेस्ट्रोल को नियंत्रित रखने में (To Control Cholesterol)

सेब खाने से कोलेस्ट्रोल नियंत्रित रहता है। प्रतिदिन एक सेब खाना सेहत के लिए बहुत अच्छा होता है.

5. हड्डियों और दांतों को मजबूत बनाने में (For Strong Bone)

सेब में कुछ ऐसे पौषक तत्व होते है जो हड्डियों के साथ साथ दातों को भी मजबूत रखते है. सेब खाने से केल्शियम हड्डियों को मजबूती मिलती है।

6. मष्तिष्क को स्वस्थ रखने में (To Keep Mind Healty)

सेब खाने से मस्तिष्क में एसिटाइलकोलाइन की मात्रा बढ़ाता हैं, जो एकाग्रता में सुधार, समस्या-समाधान और स्मृति से जुड़ा हुआ है.

7.हृदय रोगों के जोखिम को कम करने में (Reduce Chance of Heart Attack)

नियमित रुप से सेब खाने पर दिल के दौरे और विभिन्न अन्य हृदय रोगों के जोखिम को कम करने में मदद मिलती है. यह रक्त वाहिकाओं में पाए जाने वाले विभिन्न वसा को भी बेअसर करता है जो खतरनाक दबाव को बढ़ाता है. फ्लेवोनॉइड क्वेरसेटिन हमारे रक्त वाहिकाओं में सूजन को कम करता है, जबकि पॉलीफेनोल एपिक्टिन शरीर में रक्तचाप को भी कम करता है.

8. खूबसूरती बढ़ाने में (For Skin Glow)

सेब खाने से चेहरे पर ग्लो आता है और जो काले और सफेद धब्बे होते है वो भी कम हो जाते है. नियमित रुप से सेब खाने से शरीर में मौजूद अनावश्यक चर्बी धीरे-धीरे कम होने लगती है, जिससे आप अधिक आकर्षक दिखते है.

सेब खाने के नुकसान (Seb Ke Nuksan)

  1. सेब खाने से एलर्जिक रिएक्शन भी हो जाती है. तो ऐसे लोग जिन्हें यह परेशानी है उन्हें सेब नहीं खाना चाहिए. यह एलर्जी आपके शरीर को नुकसान ना पहुंचाए.
  2. हम लोग सेब का सेवन क्यों करते है ताकि जो इसमें पोषक तत्व मौजूद है वो आपके शरीर को स्वस्थ रखे. लेकिन जब आप सेब को फ्रिज में रख देते है तो सेब के सारे पौषक तत्व नष्ट हो जाते है. तो इससे आपको कोई फायदा नहीं होता. इसलिए ताज़ा सेब खाए .
  3. सेब के सिरके का इस्तेमाल करें इसमें पानी जरुर मिलाये क्योंकि बिना पानी के सिरके, इसके दुष्परिणाम हमारे लिए हानिकारक हो सकते हैं.
  4. सेब फल खाए तो कभी भी इनके बीजों को ना खाए क्योकि इसमें साइनाइड होता है,जो की एक शक्तिशाली जहर है.

धन्यवाद मित्रो, पुरे लेख को गंभीरता से पढ़ने के लिए. आपको यह जानकारी कैसी लगी हमें कमेंट करके अवश्य बताएं.इस लेख से सम्बंधित आपके कोई प्रश्न है तो हमें नीचे कमेंट में लिखें.

अस्वीकारण: इस लेख में हमारे द्वारा दी गयी जानकारी लेखक के अनुभव व शोध पर आधारित है. आप किसी भी नुस्खें को अपनाने से पहले अपने विवेक का प्रयोग करें व किसी गंभीर समस्या में डॉक्टर का परामर्श लेना न भूलें.

इसे भी पढ़े :

Harshita Verma

हर्षिता वर्मा newsmug.in की एडिटर हैं इनकी रूचि हिंदी भाषा में हैं. यह newsmug.in के लिए सेहत और धर्म से जुड़े विषयों पर लिखती हैं. यह न्यूज़मग.इन की SEO एक्सपर्ट हैं, इनके कठोर प्रयासों के कारण newsmug.in एक सफल हिंदी न्यूज़ वेबसाइट बनी हैं.

Recent Posts

आईपीएल 2022 नीलामी लिस्ट | आईपीएल नीलामी 2022 List | २०२२ आईपीएल नीलामी लिस्ट

आईपीएल 2022 नीलामी लिस्ट | आईपीएल नीलामी 2022 List | २०२२ आईपीएल नीलामी लिस्ट क्रिकेट…

2 days ago

जून में एकादशी कब की है 2022 | June Mein Ekadashi Kab Ki Hai 2022

सनातन धर्म में एकादशी व्रत का पौराणिक महत्व हैं. इस व्रत में भगवान विष्णु का…

2 days ago

मई में एकादशी कब की है 2022 | May Mein Ekadashi Kab Ki Hai 2022

सनातन धर्म में एकादशी व्रत का पौराणिक महत्व हैं. इस व्रत में भगवान विष्णु का…

2 days ago

अप्रैल 2022 में एकादशी कब की है | April 2022 Mein Ekadashi Kab Ki Hai

सनातन धर्म में एकादशी व्रत का पौराणिक महत्व हैं. इस व्रत में भगवान विष्णु का…

2 days ago

मार्च में एकादशी कब की है 2022 | March Mein Ekadashi Kab Ki Hai 2022

सनातन धर्म में एकादशी व्रत का पौराणिक महत्व हैं. इस व्रत में भगवान विष्णु का…

2 days ago

फरवरी में एकादशी कब की है 2022 | February Mein Ekadashi Kab Ki Hai 2022

सनातन धर्म में एकादशी व्रत का पौराणिक महत्व हैं. इस व्रत में भगवान विष्णु का…

2 days ago