सूदखोरों से परेशान होकर रतलाम के हलवाई ने नागदा में किया सुसाइड

0
117
ratlams-confectioner-suicide-in-nagda-after-being-troubled-by-moneylenders
सांकेतिक तस्वीर : फोटो सोर्स सोशल मीडिया

Nagda News in Hindi सुसाइट नोट में लिखे 9 सूदखोरों के नाम

Nagda News. उज्जैन शहर के बाद अब नागदा में भी सूदखोरी से परेशान होकर पीड़ित सुसाइट कर रहे हैं। गुरूवार दोपहर को  शहर के पाल्यारोड क्षेत्र में रतलाम के हलवाई ने फांसी लगाकर अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली। मृतक रतनलाल पिता बद्रीलाल पुरोहित उम्र 48 वर्ष निवासी शंखवाल नगर रतलाम  हलवाई गत पांच वर्षो से नागदा में पाल्यारोड के जामुन चौक में निवास कर रहा था।

मृतक नागदा में एक किराए के मकान में अकेला रहता था वहीं चाय का ढेला लगाकर अपना गुजारा करता था। पुलिस को मृतक के पास से एक सुसाइड मिला है।  जिसमें 9 लोगों के नाम है  दो रतलाम, एक मंदसोर व 6 नागदा के निवासी है।

मृतक ने सुसाइड नोट में यह भी लिखा कि सूदखोरों से कौन सी तारीख को कितने रुपए लिए थे। यह सुसाइड नोट गुरूवार की सुबह 8:17 मिनिट पर लिखा गया है। नागदा में भी गत तीन दिन में तीन मामले सामने आए है जिसमें एक युवक ने आत्महत्या का प्रयास भी किया है। एक मामला गांव उमरना का भी शामिल है।

कैसे चला पता

मृतक के दो भाई है। जो रतलाम में ही हलवाई का काम करते हे। मृतक का एक भाई हरिश गुरूवार को नागदा आया था। उसने सुबह 11 बजे अपने भाई रतनलाल को फोन लगाया और कहा कि मैं तुझसे मिलने घर आ रहा है इस पर रतनलाल ने कहा कि आप बाजार में ही रूको में वहीं आ रहा हूं। करीब 1 घंटे  तक जब रतनलाल अपने भाई के पास नहीं पहुंचा तो उसे शंका हुई ओर उसने रतनलाल को फोन लगाया ।

मोबाईल स्वीचऑफ आने पर हरिश 12:30 बजे रतनलाल के घर पहुंचा काफी देर तक जब दरवाजा नहीं खोला गया तो उसने मकान मालिक उसने पड़ोसी को बुलाकर रोशनदान में से देखा तो उसका भाई फंदे पर लटका हुआ था जिसके बाद पुलिस को सूचना दी गई ओर शव को नीचे उतारा गया।

किन-किन सूदखोरों के है नाम

पुलिस ने मृतक के पास से जब्त किए गए सोसाइट नोट में 9 सूदखोरों के नाम निकाले है। इनमें मेहरबान गुर्जर निवासी गांव डाबरी, राकेश मकवाना निवासी पाल्यारोड, गोविंद सेन ,राधेश्याम चौहान निवासी पाल्यारोड, मृतक का मकान मालिक मोहनलाल शर्मा, पिंटू ,रतलाम निवासी रमेशचन्द्र पांडे, मनोज पांडे, मंदसौर निवासी सुरेश दुबे के नाम है।इनमें से पुलिस ने कुछ सूदखोरों को गिरफ्तार भी कर लिया है।

Nagda News in Hindi लॉकडाउन से बिगड़ी हालत

मृतक रतनलाल पांच वर्ष पूर्व नागदा में आया था। उसके दोनों भाई भी नागदा में विवाह समारोह में रसोई बनाने आते है। लेकिन कुछ वर्ष पूर्व रतनलाल ने हलवाई का कार्य छोड़ एक किराना दुकान संचालित की थी लेकिन लॉकडाउन से रतनलाल की आर्थिक हालत खराब हो गई थी।

उसके बाद उसने किराना दुकान बंद कर चाय की दुकान लगा ली थी। इस दौरान रतनलाल पर लाखों रुपए का कर्जा हो गया। रतनलाल के तीन बच्चे हैं। जिसमें दो बेटी व एक बेटा है। पीएम कर शव परिजनों को सौंप दिया गया।  परिजन शव रतलाम ले गए हैं।

इसे भी पढ़े : नागदा के युवक को सूदखाेरों ने धमकाया, युवक ने डर से खाया जहर

गांव में भी सूदखोरी चरम पर

सूदखोरी का मामला शहर के अलावा गांव में भी चल रहा है। प्रकाश नगर में निवास करने वाले एक युवक ने भी सूदखोरों से परेशान होकर पुलिस थाने में फरियाद की है। युवक नितेश पिता गोपाल राठौर निवसी प्रकाश नगर गली नं 1 नें मंडी पुलिस थाने में रिपोर्ट दर्ज करवाई है कि गांव उमरना का एक युवक अबरारउद्दीन पिता इस्लाम उद्दीन उसे कई दिनों से रुपए के लिए परेशान कर रहा है।

शिकायत में बताया गया है कि वह डीजे का कार्य करता है। अबरारउद्दीन भी उसके साथ डीजे सिस्टम का कार्य करता था। दोनों के बीच 13 हजार रुपए का लेनदेन था। लेकिन 13 जनवरी 2020 को अबरारउद्दीन ने डरा धमका के एक शपथ पत्र पर हस्ताक्षर करवा लिए थे।

शपथ पत्र में क्या लिखा था इसकी जानकारी नहीं दी गई बाद में उसे अबरारउद्दीन द्वारा एक नोटिस भेजा गया जिसमें लिखा था कि मैने अबरार से 1 लाख रुपए कर्जा लिया है। और उसकी 6 हजार प्रति माह किस्त अदा करनी है। 6 अक्टूबर को अबरारउद्दीन  मेरे घर पर आया ओर मेरी अनुउपस्थिति में मेरी दादी को धमकी देकर गया कि मैं नितेश को जान से खत्म कर दूंगा । पुलिस ने नितेश की रिपेार्ट पर अबरार के खिलाफ भादवि की धारा 506  व मप्र ऋणियों का संरक्षण अधिनियम में प्रकरण दर्ज किया है।

पाल्यारोड क्षेत्र में एक युवक ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली है। उसके पास से एक सुसाइड नोट मिला है जिसमें 9 लोगों के नाम है। युवक सूदखोरों से परेशान था।
केसी शर्मा
थाना प्रभारी नागदा