टाइम कैप्सूल से राम जन्मभूमि का इतिहास सुरक्षित रहेगा

 टाइम कैप्सूल से राम जन्मभूमि का इतिहास सुरक्षित रहेगा

आने वाली पीढ़ी राम मंदिर के शिलान्यास और इतिहास को जानें, इसके लिए मदिर के प्लेटफार्म में टाइम कैप्सूल डाला जा रहा है. मंशा है कि, राम मंदिर का इतिहास हजारों साल तक सुरक्षित रहे.

गर्भगृह के नीचे 200 फीट गहराई में टाइम कैप्सूल रखा जाएगा. जिसमें विवाद शुरू होने से अंत तक की पूरी डिटेल होगी. जानकारी श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट सदस्य कामेश्वर चौपाल ने दी.

3 अगस्त से अयोध्या में शुरू होगा धार्मिक अनुष्ठान

बिहार निवासी कामेश्वर चौपाल ने 9 नवंबर 1989 को राम मंदिर के लिए आधारशिला रखी थी. सालों के इंतजार के बाद 5 अगस्त 2020 को पीएम नरेंद्र मोदी मंदिर की आधारशिला रखेंगे.

कार्यक्रम की तैयारियों को लेकर 3 अगस्त से धार्मिक अनुष्ठान शुरू होंगे. जिसके बाद प्रस्तावित भूमि पूजन समारोह होगा. कार्यक्रम दूरदर्शन पर लाइव दिखाया जाएगा.

मिट्टी का सैंपल लिया जा चुका है

मंदिर के चीफ आर्किटेक्ट निखिल सोमपुरा ने मीडिया को जानकारी देते हुए बताया कि, पीएम नरेंद्र मोदी के भूमि पूजन के बाद निर्माण होगा. 200 मीटर गहराई की मिट्टी का सैंपल लिया जा चुका है.

रिपोर्ट आना बाकी है. जिसके बाद एलएनटी कंपनी नींव की खुदाई करेगी. नींव की गहराई रिपोर्ट आने के बाद तय की जाएगी. प्लेटफार्म 12 फीट से 15 फीट के बीच रखे जाने पर विचार किया जा रहा है.

क्या होता है टाइम कैप्सूल ?

टाइम कैप्सूल एक कंटेनर की भांति होता है. कंटेनर किसी भी प्रकार मौसम में सुक्षित रहता है. भविष्य में लोगों को किसी भी स्मारक या प्राचीन इमारत की जानकारी के साथ कम्युनिकेशन करने के लिए कैप्सूल का उपयोग किया जाता है. इतिहासकारों को शोध में मदद मिलती है.

यहां मिल चुके है टाइम कैप्सूल

  • 30 नवंबर 2017 को स्पेन के बर्गोस में करीब 400 साल पुराना टाइम कैप्सूल मिला. जो ईसा मसीह की मूर्ति के रूप में था. जिसके अंदर 1777 के आसपास की आर्थिक, राजनीतिक और सांस्कृतिक जानकारियां लिखी गई थीं.
  • 2010 में राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल के सामने आईआईटी कानपुर में टाइम कैप्सूल भूमि में डाला गया था.
  • 2010 में ही गुजरात के गांधीनगर में महात्मा गांधी के मंदिर में गुजरात के 50वें स्थापना दिवस पर टाइम कैप्सूल गाड़ा गया था..
  • भारत के 25वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर 15 अगस्त 1972 को तत्कालीन पीएम इंदिरा गांधी ने लाल किला के गेट के सामने एक कालपात्र यानी टाईम कैप्सूल गड़वाया था.

ram-mandir-nirman-ayodhya-latest-news-updates-time-capsule-to-be-kept-200-feet-under-ram-temple

 

KAMLESH VERMA

http://newsmug.in

Related post