power bank app का क्या हुआ, जानें सब कुछ

0
263
power-bank-app-ka-kya-hua-hai

power bank app ka kya hua hai । power bank app latest news । power bank app news

power bank app ka kya hua : बीते चार माह पूर्व Google Play Store के जरिए भारतीय लोगों के साथ धोखाधड़ी कर भाग चुकी है.  Power Bank app ने Money rolling  बिजनेस मॉडल का उपयोग कर लाखों भारतीयों के करोड़ों रुपए उड़ा लिए है. बीते 10 मई से Power Bank app ने कस्टर के रुपए देना बंद कर दिया था. और 14 मई को पूरी तरह से अपना कारोबार कोरोना महामारी का हवाला देकर बंद कर दिया. कई लोगों के जहन में सवाल उठ रहा हैं, कि Power Bank app कार्य कैसे कर रही थी. जिसका जवाब हमारे लेख में दिया गया है. इसे पढ़कर आपकों यह पता चल सकेगा कि, Power Bank app ने किस प्रकार लोगों से 600 रुपए का रिचार्ज करवाकर उन्हें बेवकूफ बनाया है. Power Bank app के गायब हो जाने के बाद से पूरे भारत में कस्टमर इसकी शिकायत लेकर नजदीकी पुलिस थाने पहुंचे, लेकिन Power Bank app एक डिजिटल प्लेटफार्म थी, जिसके कारण इसका पता लगा पाना थोड़ा मुश्किल है.

power bank app latest news

Power Bank app की कार्य प्रणाली की ओर गौर किया जाए तो यह अपने कस्टमर से Power Bank app के जरिए रिचार्ज करवाकर रुपए इंवेस्ट करवाती है. कस्टमर द्वारा लगाए गए रुपयों से यह कंपनी Power Bank खरीदती है. और Power Bank को रेंट पर लगाती है. जैसे कि एअरपोर्ट में, ऐप ऐसी जगह रुपयों को रेंट पर लगाती हैं, जहां से उन्हें कमीशन मिल सके. रेंट से आने वाले कमीशन को ऐप कस्टमर को देती है. यह एक प्रकार का बिजनेस मॉडल है. इसे Money rolling/ Money rotating के नाम से जाना जाता है. Money rolling का मतलब होता है जैसे कि एक कस्टमर द्वारा खरीदे गए रिचार्ज को दूसरे कस्टमर को, दूसरे द्वारा किए गए रिचार्ज के रुपए तीसरे कस्टमर को दे दिए जाना. इस प्रकार का बिजनेस मॉडल इंडिया में गैरकानूनी है. चलिए इसे आपकों एकदम सरल भाषा में समझाते हैं.

उदाहरण : सबसे पहले मान लीजिए कि किसी एक कस्टमर ने एक पॉवर बैंक में अकाउंट बनाकर उसमें 600 रुपए का रिचार्ज किया. रिचार्ज की गई राशि को Power Bank app चलाने वाले कर्मचारियों द्वारा 10 दिनों की निगरानी में रखा जाता है. इन दस दिनों तक रिचार्ज करने वाले कस्टमर को नियमानुसार कमीशन दिया जाता है. जैसे ही 10 दिन कि अवधि समाप्त हो जाती है. Power Bank app नए यूर्जर द्वारा रिचार्ज की राशि को पुराने कस्टमर को शॉ करा देती है. यह प्रक्रिया एक कस्टर से दूसरे कस्टमर के ईद गिर्द घूमती रहती है. Power Bank app की असली कमाई का जरिए यूर्जर द्वारा किए गए रिचार्ज होते है. जिसमें उन्हें सीधा कमीशन 18 प्रतिशत जीएसटी के नाम पर काटने को मिल जाता है.

इसे भी पढ़े :

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here