कुख्यात बदमाश लाला का अवैध मकान प्रशासन ने किया ध्वस्त

 कुख्यात बदमाश लाला का अवैध मकान प्रशासन ने किया ध्वस्त
  • कुख्यात बदमाश लाला का अवैध मकान प्रशासन ने किया ध्वस्त
  • बिना अनुमति के बना रखा था तीन मंजिला आलिशान मकान
  • 13 थाने व पुलिस लाईन के 250 जवान रहे तैनात

रविन्द्रसिंह रघुवंशी / नागदा

नागदा खाचरौद क्षेत्र का कुख्यात बदमाश सलमान पिता शेरूलाला के आतंक का साम्राज्य समाप्त करने के उद्देश्य को लेकर स्थानीय प्रशासन ने गुरूवार को बडी कार्यवाही की। नगर पालिका प्रशासन ने लाला का राजीव कॉलोनी में बना अवैध आलीशान मकान ध्वस्त कर दिया।

प्रशासन ने लाला के साथ उसके भाई शेरदिल का मकान भी तोड दिया। इस कार्यवाही से शहरवासियों ने खुशी जाहिर की। साथ ही व्यापारियों में भी हर्ष जताया। नतीजा यह रहा हे कि प्रशासन की कार्यवाही के दौरान लाला के परिजन के अलावा किसी ने भी विरोध नहीं जताया।

लाला के कुछ मित्र व रिश्तेदार कार्यवाही के दौरान खडे रहे ओर प्रशासन से कुछ समय की मोहल्लत मांगते रहे ओर मकान में से सामान निकालने की मांग करते रहे लेकिन प्रशासन ने सख्त रवैय्या अपनाते हुए इनकी मांग को ठुकरा दिया।

आसपास के लोग भी अपने घरों के छत से मकान ध्वस्त होता देखने के लिए भारी भीड जमा हो गई थी। चुंकि लाला के आतंक से क्षेत्र के लोग भी परेशान थे। यह कार्यवाही भारी पुलिसबल की मौजूदगी में हुई।

प्रशासन ने लाला के मकान तोडने की कार्यवाही लगभग 15 दिन पूर्व ही प्रारंभ कर दी थी। लाला इन दिनों जेल में बंद है। लाला गत 9 मई को पुलिस के हत्थे चढ़ा था।

हांलाकि पुलिस की इस कार्यवाही की भनक लाला के परिजनों को बुधवार की रात को ही लग गई थी जिसके चलते उन्होने कई कीमती सामान मकान में से निकाल लिए।

रात भर पुलिस ने की तैयारी

लाला का मकान तोडने के लिए प्रशासन ने पुरी तैयारी कर ली थी। बुधवार रात को ही पुलिस प्रशासन ने ही मोर्चा संभाल लिया। रात 3 बजे से पुलिस ने लाला के निवास स्थान के आसपास बेरिगे्रट लगाना प्रारंभ कर दिए थे।

सुबह 5 बजे जिला मुख्यालय व आसपास के थानों से पुलिस बल नागदा थाने पहुंच गया था। पुलिस ने राजीव कॉलोनी के लगभग 1 किलोमीटर के एरिये को सील कर दिया। सुबह जब उठे तो घरों के बाहर पुलिस को देख दंग रह गए। किसी को खबर नहीं थी कि पुलिस इतनी बड़ी कार्यवाही कर रही है।

13 थाने व पुलिस लाईन से आया बल

बदमाश लाला का मकान मुस्लिम बाहुल्य क्षेत्र में है पुलिस को शंका थी कि कहीं कार्यवाही के दौरान समाजजन विरोध नहीं करे जिसको लेकर प्रशासन ने एतिहात के तौर पर जिले के 13 थाने व पुलिस लाईन से बल बुलवाया था। इनमें 02 एएसपी , 02 एसडीओपी ,1 सीएसपी , 07 टीआई व लगभग 250 पुलिस जवान मौजदू थे इसमें एसएफ की क्यूआरएफ की तीन बटालियन भी शामिल थी। कार्यवाही को अंजाम देने के लिए प्रशासन ने नागदा ,बिरलाग्राम ,खाचरौद, उन्हेल, इंगोरिया, भाटपचलाना, बडनगर, माकडोन,कायथा, महिदपुर रोड ,महिदपुर सिटी,तराना व नरवर थाने का बल बुलाया गया था।

इसके अलावा राजस्व विभाग के एसडीएम पुरूषोत्तम कुमार, तहसीलदार आरके गुहा , नायब तहसीलदार अन्नु जैन, आरआई पंकज मित्तल, नपा के सीएमओं मो.असफाक खान, उपयंत्री शाहिद मिर्जा, आबीद अली, नोडल अधिकारी बंसत रघुवंशी, रईश कुरैशी भी मौजूद रहे। पूरा मोर्चा एडीशनल एसपी आकाश भुरिया, सीएसपी मनोज रत्नाकर ,मंडी थाना प्रभारी श्यामचन्द्र शर्मा ने संभाल रखा था।

अवैध रूप से मना रखा था लगभग 6 हजार वर्ग फीट

प्रशासन ने जिस स्थान पर कार्यवाही की थी वहां पर लाला व उसके भाई शेरदिल ने अवैध रूप से तीन मंजिला भव्य मकान बना रखा था। दोनो भाई ने पासपास में ही मकान बनवा रखे थे उसी के समीप लाला के नाना व मामा का भी मकान है।

लाला बंधुओं ने लगभग 20 बाय 50 वर्गफीट पर तीन मंजिल पर आलीशान मकान बनाया है। यह पूरा मकान अवेध है। जिसका नपा में कोई रिकार्ड नहीं है। नगर पालिका व राजस्व विभाग से किसी तरह की कोई अनुमति नहीं ली गई व न ही कोई सूचना दी गई।

प्रशासन ने जब सलमान लाला के नाना व मामा से मकान के दस्तावेज मांगे तो उन्होने वह कोई खास दस्तावेज प्रस्तुत नहीं कर पाए उन्होने एक नोटरी दिखाई जो सलमान लाला के नाना मुन्नालाला के नाम से थी प्रशासन ने इसे उपयुक्त आधार नहीं माना ओर कार्यवाही को अंजाम दिया।

क्यों तोडा मकान

प्रदेश सरकार द्वारा इन दिनों प्रदेश में गुंडा अभियान चलाया जा रहा है जिसके चलते बदमाश व गुंडो के अवैध मकान तोडे जा रहे है। सलमान लाला पर भी 10 अपराधिक प्रकरण दर्ज है।

notorious-crook-lalas-illegal-house-demolished
मौके पर मौजूद पुलिस बल.

लाला ने भी अवैध रूप से मकान बना रखा है। न तो इस मकान की रजिस्ट्री है और न ही कोई अनुबंध व अनुमति है। लाला नागदा पुलिस के लिए भी मुसीबत बन गया था चुंकि क्षेत्र में उसका आतंक व भय बढता जा रहा था नतीजन कोई व्यापारी लाला की किसी प्रकार की कोई शिकायत नहीं कर पाता था।

पिता व काका के नक्शे कदम पर सलमान

सलमान लाला के पिता शेरूलाला भी किसी समय क्षेत्र का हिस्ट्रीशिटर था। बेटा भी पिता के नक्शे कदम पर चल रहा है। शेरूलाला का भी मध्यप्रदेश पुलिस ने लगभग 23 वर्ष पूर्व इंदौर जिले मे सन 1997 में इनकांउटर किया था सलमान लाला के काका अमजद लाला का भी वर्ष 1997 में इंदौर-महु के आसपास के इनकांउटर किया गया था।

लाला का एक ओर काका चुन्नुलाला खाचरौद में

हिस्ट्रीशिटर है जो इन दिनो फरार है वह पुलिस ने उस पर 7 हजार का ईनाम घोषित कर रखा था। सूत्रों के अनुसार शेरूलाला नागदा खाचरौद में अवेध रूप से जमीनों पर कब्जा करने व व्यापारियों से हफ्ता वसूली करता था। वहीं सलमान लाला भी उन्हीं पद चिन्हों पर चल रहा था।

लाला पर चार थानों में 10 अपराध दर्ज

कुख्यात बदमाश सलमान लाला पर प्रदेश के चार थाने में लगभग 10 अपराध दर्ज है। इनमें वाहन चोरी ,मारपीट ,हत्या का प्रयास करना, घर में घुसकर मारपीट करना आदि प्रकरण दर्ज है।

लाला पर पुलिस पर हमला करने का भी अपराध दर्ज है। नागदा ,बिरलाग्राम, खाचरौद, व इंदौर के थाने मे अपराध दर्ज है। पहला अपराध उसने 25 सितम्बर 2008 में किया था। लाला ने 19 जून 2019 को नागदा के व्यापारी प्रेम राजावत पर अपने साथियों के माध्यम से प्राण घातक हमला करवाया था इस हमले के विरोध में हिंदु जागरण मंच ने 21 जून को नागदा बंद भी किया था इस घटना का विरोध शहर के व्यापारियों ने भी किया था और हिंदु जागरण मंच के साथ मिलकर बंद को सफल बनाया था। जिसके बाद पुलिस ने लाला पर 5 हजार का ईनाम घोषित किया था। 27 जून 2019 को उज्जैन एसपी ने लाला को गिरफ्तार करने के लिए खाचरौद में पुलिस भेजी थी उस समय लाला ने पुलिस पर वाहन चलाने का प्रयास किया ओर उनके वाहन को टक्कर मारकर फरार हो गया था जिसके बाद उसकी ईनाम राशि बढाकर 10 हजार कर दी गई थी।

राजस्थान के बदमाशों को दी थी पनाह

लाला को पुलिस ने 9 मई 2020 को चंबल मार्ग के मकान से गिरफ्तार किया था उस दौरान भी लाला ने भगने का प्रयास किया था ओर पुलिस आरक्षक नीरज पटेल पर रिवाल्वर तान दी थी।

लाला ने राजस्थान के हिस्ट्रीशिटर बदमाशों को पनाह दी थी चुंकि पुलिस ने जब लाला को गिरफ्तार किया था उस समय चार आरोपियों को भी गिरफ्तार किया था इनमें 3 आरोपी राजस्थान प्रतापगढ़ जिले के थे।

जिनमें से दो अपराधियों पर एक पुलिस आरक्षक पर फायर करने का अपराध दर्ज था। पुलिस ने लाला के पास से पांच पिस्टल व लगभग 700 से अधिक कारतूस जब्त किए थे।

12 घंटे तक सीएसपी व टीआई रहे तैनात

कार्यवाही को अंजाम देने के लिए सीएसपी रत्नाकर सुबह 6 बजे से ही पुलिस थाने पहुंच गए थे। सीएसपी ने पहले तीन अलग अलग टुकडी में पुलिस जवान भेजा व लाला के आसपास के क्षेत्र को सील किया।

7:15 बजे सीएसपी व थाना प्रभारी शर्मा कार्यवाही के लिए थाने से रवाना हुए। 7:30 बजे सीएसपी की मौजूदगी मे तोडने की कार्यवाही प्रारंभ कर दी गई। खबर लिखे जाने तक रात 8 बजे तक सीएसपी मौके पर ही खडे रहे।

रविन्द्रसिंह रघुवंशी अधिमान्य पत्रकार (मध्य प्रदेश शासन)

KAMLESH VERMA

https://newsmug.in

Related post