खतरे में LANXESS INDUSTRY NAGDA की लाइब्रेरी में पहुंचने वाले विद्यार्थियों की जान

0
389
life-of-students-arriving-at-lanxess-industry-nagda-library-in-danger
नागदा नगर पालिका काम्पलेक्स में जमा पानी.

नागदा नागदा पालिका द्वारा वर्ष 2004 में नपा कार्यालय भवन के समीप बनाया गया शॉपिंग कॉम्प्लेक्स भवन में इंजीनियरों द्वारा की गई तकनीकी भूल कॉम्प्लेक्स में मौजूद LANXESS INDUSTRY NAGDA की लाइब्रेरी में पढ़ने आने वाले विद्यार्थियों के लिए जानलेवा हो सकती है।

इसका सीधा कारण कॉम्प्लेक्स निर्माण के बाद से तलघर में जलभराव होना है। सालों से जमा पानी भवन कभी भी गिर सकता है। मजबूती को लेकर पॉलिटेक्निक कॉलेज उज्जैन द्वारा 19 नवंबर 2018 में दी गई स्टेबिलिटी रिपोर्ट में भी तलघर में पानी भरा होने से भवन को नुकसान पहुंचने से जान-माल को हानि होने का अंदेशा जताकर दूसरी मंजिल का निर्माण नहीं कराने का पत्र भी नपा को भेजा गया था।

life-of-students-arriving-at-lanxess-industry-nagda-library-in-danger

लेकिन नगर पालिका नागदा ने स्टेबिलिटी रिपोर्ट को दरकिनार कर ऊपरी मंजिल का निर्माण किया। रिपोर्ट में स्पष्ट रुप से लिखा है कि, पानी की निकासी के बाद यह सुनिश्चित होना चाहिए कि भविष्य में पानी नहीं घुसे। साथ लाइब्रेरी में किताबों के वजन तक से खतरा बताया गया था।

LANXESS INDUSTRY NAGDA ने सीएसआर फंड से इसका निर्माण विद्यार्थियों को हर तरह का स्टडी मटेरियल बनाने के लिए हुआ था। पहली मंजिल पर मैन्युअल और दूसरी मंजिल पर एक साल पूर्व ही ई-लाइब्रेरी का निर्माण हुआ है। तलघर और ग्राउंड फ्लोर दोनों पर 7-7 दुकानें हैं।

life-of-students-arriving-at-lanxess-industry-nagda-library-in-danger

इसे भी पढ़े : नागदा के उद्योगों से बेरोजगार 2500 ठेका श्रमिकों को निवृत्तमान नपाध्यक्ष मालवीय देंगे राशन किट

तीन दुकानदार कमलेश दवे, रूपेश जायसवाल, नीरज शर्मा ने लाखों रुपए देकर दुकानें आवंटित कराई वे भी 10 साल से तलघर में पानी जमा होने से व्यवसाय नहीं कर पा रहे हैं। मामले की शिकायत केंद्रीय मंत्री तक पहुंची शिकायत तलघर में एक दुकान राष्ट्रीय कवि व स्वतंत्रता संग्राम सेनानी स्व. नटवरलाल स्नेही (गांधी मानस महाकाव्य के रचयिता) के दामाद कमलेश दवे ने 2010 में 3 लाख 23 हजार में खरीदी थी।

life-of-students-arriving-at-lanxess-industry-nagda-library-in-danger

 समस्या के समाधान के लिए हमने तलघर को भरवाकर तीनों दुकानदारों की धरोहर राशि लौटाने का निर्णय लिया है। – मो. अशफाक खान, सीएमओ, नपा, नागदा

life-of-students-arriving-at-lanxess-industry-nagda-library-in-danger
नागदा नगर पालिका काम्पलेक्स में जमा पानी.