चीन में जानवरों से फैलने वाले ब्रूसीलोसिस का कहर

0
9
harassment-of-animal-brucellosis-in-china
बुखार, मांसपेशियों में दर्द, भूख न लगना और जोड़ों में दर्द इसके बड़े लक्षण हैं
  • चीनी लैब से निकले बैक्टीरिया ने 3 हजार से अधिक लोगों को किया संक्रमित
  • ब्रूसीलोसिस बैक्टीरिया पालतु मवेशियों के जरिए इंसान में पहुंचता है.
  • बुखार, मांसपेशियों में दर्द, भूख न लगना और जोड़ों में दर्द है नए वायरस के लक्ष्ण

चीन में इन दिनों एक और नए वायरस ने पैर पसार लिया है। वायरस से होने वाली बीमारी का नाम ब्रूसीलोसिस है। चीन के गांसु प्रांत की राजधानी लान्चो में 3 हजार मरीज संक्रमित हो चुके हैं। लान्चो के स्वास्थ्य आयोग के अनुसार,  बीमारी संक्रमित मवेशियों से इंसानों में पहुंच रही है।

चीनी में इसे माल्टा फीवर के नाम से भी जाना जा रहा है। बताया जा रहा है कि 1980 के दशक में चीन में ब्रुसेलोसिस एक आम बीमारी थी। अमेरिका सेंटर्स फॉर डिसीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (CDC) के अनुसार, यह एक से दूसरे इंसान में नहीं फैलती लेकिन संक्रमित भोजन खाने से ब्रुसेलोसिस फैलता है।

दोस्तों लेख के माध्यम से हम आपकों  ब्रुसेलोसिस क्या है, कैसे फैलता है और कैसे अलर्ट रहें, इन सवाल-जवाब से समझिए…. अनुरोध है कि लेख को ध्यानपूर्वक पूरा पढ़े।

1. क्या है ब्रुसेलोसिस?

एक प्रकार के बैक्टीरिया से होने वाली बीमारी है। बैक्टीरिया पशु  जैसे सुअर, बकरी और कुत्तों को संक्रमित करता है। संक्रमितों के संपर्क में आने से इंसान भी इसकी चपेट में आ जाता है। मांस खाने या इनका संक्रमित किया हुआ पानी पीने पर इंसान में संक्रमण फैलता है।  बीमारी के चपेट में आए हुए इंसान को सांस लेने परेशानी होती है। विश्व स्वास्थ्य संगठन का कहना है कि, इसका ज्यादा खतरा जब होता है जब इंसान बिना उबाला हुआ जानवर का दूध पीए।

2. कौन से लक्षण दिखने पर अलर्ट हो जाएं?

बुखार, पसीना आना, सिरदर्द, मांसपेशियों में दर्द, बेचैनी और भूख न लगना जैसे लक्षण दिखने पर अलर्ट हो जाएं। बार-बार बुखार, अर्थराइटिस जैसे लक्षण, अंडाणुओं और लिवर में सूजन भी दिख सकता है। मरीजों को थकान होती है।

3. चीन में यह बीमारी कब और कैसे फैली
लेंझॉउ शहर के स्वास्थ्य आयोग की वेबसाइट के अनुसार,  वेटरनरी रिसर्च इंस्टीट्यूट में एक घटना के बाद यह बैक्टीरिया फैला। बीमारी की वैक्सीन तैयार करने के लिए 24 जुलाई से 10 अगस्त 2010 काम चल रहा था। इंस्टीट्यूट में एक्सायरी डेट का डिसइंफेक्टेंट इस्तेमाल हुआ जिससे बैक्टीरिया पूरी तरह खत्म नहीं हुआ। यहां से एयरोसॉल के रूप में बैक्टीरिया फैला और लोग संक्रमित हुआ।

4. कैसे बचाव करें?

बीमारी से पीड़ित व्यक्ति यदि देश में आए तो इनसे दूरी बनाकर रखें। मांस खाने से बचें। बाहर का खाना ना खाएं। पशुओं के तबेले से दूरी बनाकर रखें।

इसे भी पढ़े : दुनिया के सबसे बड़े कोरोना केयर सेंटर में एक भी मरीज की मौत नहीं,आईटीबीपी ने ये कैसे मुमकिन किया

harassment-of-animal-brucellosis-in-china
बुखार, मांसपेशियों में दर्द, भूख न लगना और जोड़ों में दर्द इसके बड़े लक्षण हैं