शासकीय कन्या कॉलेज नागदा में कार्यरत महिला कर्मचारी को हटाया, कर्मी ने भाजपा नेताओं के घर काम करने से किया था मना

0
55
Government-girls-college-woman-employee-in Nagda-removed-worker-by-BJP-leaders-from-home-work-did-did-refuse
धरने पर बैठे कांग्रेसजन।

शासकीय कन्या कॉलेज नागदा में कार्यरत महिला कर्मचारी को हटाया, कर्मी ने भाजपा नेताओं के घर काम करने से किया था मना

नागदा. शासकीय कन्या महाविद्यालय नागदा में बीते चार सालों से कार्यरत महिला कर्मचारी को प्रबंधन द्वारा हटा दिया गया है. कारण महिला कर्मचारी ने वरिष्ठ भाजपा नेताओं के घरों में काम करने के लिए मना कर दिया था.

मालूम हो कि, भाजपा नेताओं के घरों में शहर के विभिन्न शासकीय विभाग जैसे नगर पालिका, तहसील व अन्य विभाग में कार्यरत कर्मचारी उनके यहां निजी रूप से काम करते हैं.

उक्त बात कर्मचारी सविता पिपलौदिया के समर्थन में एनएसयुआई द्वारा दिए गए धरने के दौरान जिला कांग्रेस कार्यकारी अध्यक्ष सुबोध स्वामी ने कहीं.

एनएसयूआई द्वारा शुक्रवार को शासकीय कन्या महाविद्यालय नागदा में धरना दिया गया था. मीडिया को जारी किए गए प्रेस बयान में स्वामी ने लिखा है कि, भाजपा नेताओं को अपने निजी व घर के कार्यो के लिए भी शासकीय कर्मचारियों की आवश्यकता होती है.

कारण है कि 4 सालों से कॉलेज में भृत्य के पद पर कार्यरत महिला कर्मचारी को बिना सूचना पत्र दिए कन्या महाविद्यालय प्राचार्या शीला ओझा द्वारा हटा दिया गया है.

श्रम कानून में इस बात का स्पष्ट प्रावधान है कि 90 दिनों से ज्यादा एक ही स्थान पर काम करने वाला कर्मचारी वहां स्थाई कर्मचारी के रूप में कार्य करने की पात्रता रखता हैं. श्रम कानून का उल्लंघन महाविद्यालय प्रबंधन द्वारा किया जा रहा हैं. मामले को लेकर पूर्व जनभागीरी अध्यक्ष नरेन्द्र गुर्जर ने कहां कि एनएसयुआई के दबाव में 2 दिन पूर्व महिला कर्मचारी को पुनः काम पर रख लिया गया था, लेकिन

यह बात भारतीय जनता पार्टी के नेताओं को नागवार गुजरी जिसके कारण आज पुनः महिला कर्मचारी को हटाने का दबाव प्राचार्या पर भाजपा द्वारा बनाया गया.

कर्मचारी की नियुक्ति 4 साल पूर्व भाजपा शासन काल में ही हुई थी और प्राचार्या शीला ओझा को 6 माह हो चुके है कन्या महाविद्यालय का प्रभार संभाले. आज उनको यह ज्ञात हो रहा है कि कर्मचारी की शैक्षणिक योग्यता कम होने के कारण उन्हें नौकरी से निकाल देना चाहिए.

यह हास्यास्पद और महिला कर्मचारी के साथ भद्दा मजाक है. जिसको बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. जरूरत पड़ी तो विक्रम विश्वविद्यालय के वरिष्ठों व उच्च शिक्षा मंत्री, मुख्यमंत्री तक का घेराव कर कर्मचारी को न्याय दिलाने की लडाई कांग्रेस लड़ेगी.

मौके पर पहुंचे तहसीलदार आर.के. गुहा द्वारा प्राचार्य ओझा मैडम से चर्चा की गई चर्चा के बाद मंगलवार तक समस्या के निराकरण लिए समय मांगा गया है.
इस माैके पर एनएसयुआई अध्यक्ष संदीप चौधरी, अभिषेक ठाकुर, संदीप गुर्जर, जितेन्द्र बाघेला, पंकज जाट, मुक्तेश सेन आदि उपस्थित थे.

Government-girls-college-woman-employee-in Nagda-removed-worker-by-BJP-leaders-from-home-work-did-did-refuse
धरने पर बैठे कांग्रेसजन।