गणगौर पूजा 2022 में कब हैं – Gangaur Puja 2022 Mein Kab Hai

0
303
Gangaur Festival in Hindi

गणगौर पूजा 2022 में कब हैं – Gangaur Puja 2022 Mein Kab Hai, क्यों मानते हैं, तीज, महत्व, पूजा विधि, गीत (Gangaur Festival, History, Food, Dohe, Puja vidhi, in Hindi)

त्यौहारों के देश भारत देश में विभिन्न संस्कृतियों का मेल है. भिन्न-भिन्न राज्य और उनकी संस्कृति. हर प्रदेश की संस्कृति झलकती है उसकी, वेश-भूषा से वहा के रित-रिवाजों से और वहां के पर्व और त्यौहारों से. हर प्रदेश की अपनी, एक खासियत होती है जिनमे, त्यौहार की अहम भूमिका होती है. भारत का एक राज्य राजस्थान, जिसे मारवाड़ीयों की नगरी कहा जाता है. गणगौर मारवाड़ीयों का बहुत बड़ा त्यौहार है जो, बेहद ही उत्साह से मनाया जाता है ना केवल, राजस्थान बल्कि हर वो प्रदेश जहा मारवाड़ी रहते है, इस त्यौहार को पारंपरिक रीतिरिवाजों से मनाते है. गणगौर दो तरह से मनाया जाता है. जिस तरह मारवाड़ी लोग इसे मनाते है ठीक, उसी तरह मध्यप्रदेश मे, निमाड़ी लोग भी इसे उतने ही उमंग से मनाते है. त्यौहार एक है परन्तु, दोनों के पूजा के तरीके अलग-अलग है. जहा मारवाड़ी लोग सोलह दिन की पूजा करते है वही, निमाड़ी लोग मुख्य रूप से तीन दिन की गणगौर मनाते है. आज हम पोस्ट के जरिए जानेंगे गणगौर पूजा 2021 में कब हैं – Gangaur Puja 2022 Mein Kab Hai

गणगौर पूजा 2021 में कब हैं – Gangaur Puja 2022 Mein Kab Hai 

गणगौर व्रत 2022 में 18 मार्च से शुरू होकर 4 अप्रैल तक 15 दिनों तक चलेगा. इस दिन भगवान शंकर ने अपनी अरद्धागिनी पार्वती को तथा पार्वती ने तमाम स्त्रियों को सौभाग्य का वर दिया था.

गणगौर पूजन का महत्व (Mahatva)

हिंदू धर्म में गणगौर एक ऐसा पर्व है जिसे, हर सुहागि स्त्री के द्वारा मनाया जाता है. इसमें कुंवारी कन्या से लेकर, विवाहित स्त्री दोनों ही, पूरी विधी-विधान से गणगौर जिसमें, भगवान शिव व माता गौरा का पूजन करती है. इस पूजन का महत्व कुंवारी कन्या के लिये , अच्छे वर की कामना को लेकर रहता है जबकि, सुहागिन स्त्री अपने पति की दीर्घायु की कामना के उद्देश्य से व्रत करती हैं. सुहागिनें सोलह श्रृंगार कर पूरे सोलह दिन विधी-विधान से पूजन करती है.

gangaur-festival-pooja-vidhi-mahatv-katha-geet-hindi
Gangaur Festival in Hindi

गणगौर पूजन सामग्री (Poojan Items)

जिस तरह, इस पूजन का बहुत महत्व है उसी तरह,  पूजा सामग्री का भी पूर्ण होना बेहद ही आवश्यक है.

  • लकड़ी की चौकी/बाजोट/पाटा
  • ताम्बे का कलश
  • काली मिट्टी/होली की राख़
  • दो मिट्टी के कुंडे/गमले
  • मिट्टी का दीपक
  • कुमकुम, चावल, हल्दी, मेहन्दी, गुलाल, अबीर, काजल
  • घी
  • फूल,दुब,आम के पत्ते
  • पानी से भरा कलश
  • पान के पत्ते
  • नारियल
  • सुपारी
  • गणगौर के कपडे
  • गेहू
  • बॉस की टोकनी
  • चुनरी का कपड़ा

उद्यापन की सामग्री

उपरोक्त सभी सामग्री, उद्यापन मे भी लगती है लेकिन, उसके अलावा भी कुछ सामग्री है जोकि, आखरी दिन उद्यापन मे आवश्यक होती है.

  • सीरा (हलवा)
  • पूड़ी
  • गेहू
  • आटे के गुने (फल)
  • साड़ी
  • सुहाग या सोलह श्रंगार का समान आदि.

चैत्र माह की पूर्णिमा को श्रीराम चंद्र जी के सबसे बड़े भक्त हनुमान की जयंती होती हैं, जिसका हिन्दू भक्तों में बहुत महत्व है.

gangaur-festival-pooja-vidhi-mahatv-katha-geet-hindi
Gangaur Festival in Hindi

गणगौर पूजन की विधि क्या है (Gangaur Poojan Vidhi)

मारवाड़ी महिलाएं सोलह दिनों तक गणगौर पूजती है. जिसमे मुख्य रूप से, विवाहित कन्या शादी के बाद की पहली होली पर, अपने माता-पिता के घर या सुसराल मे, सोलह दिन की गणगौर बिठाती है. यह गणगौर अकेली नहीं, जोड़े के साथ पूजी जाती है. अपने साथ अन्य सोलह कुंवारी कन्याओं को भी, पूजन के लिये पूजा की सुपारी देकर निमंत्रण देती है. सोलह दिन गणगौर धूम-धाम से पर्व को मनाती है अंत में, उद्यापन कर गणगौर को विसर्जित कर देती है. फाल्गुन माह की पूर्णिमा, जिस दिन होलिका का दहन होता है उसके दूसरे दिन, पड़वा यानी कि जिस दिन रंगों से होली खेली जाती है उस दिन से, गणगौर की पूजा शुरू होती है. ऐसी नवविवाहिता जिसके विवाह के बाद कि, प्रथम होली है उनके घर गणगौर का पाटा/चौकी लगा कर, पूरे 16 दिनों तक उन्ही के घर गणगौर की पूजा की जाती है.

  1. सबसे पहले चौकी लगा कर, उस पर सातिया यानी की स्वातिक बना कर, पूजन किया जाता है. जिसके बाद पानी से भरा कलश, उस पर पान के पाच पत्ते, उस पर नारियल रखते है. ऐसा कलश चौकी के, दाहिनी ओर रखते है.

  2. जिसके बाद चौकी पर सवा रूपया और, सुपारी (गणेशजी स्वरूप) रख कर पूजन करते है.

  3. फिर चौकी पर, होली की राख या काली मिट्टी से, सोलह छोटी-छोटी पिंडी बना कर उसे, पाटे/चौकी पर रखा जाता. उसके बाद पानी से, छीटे देकर कुमकुम-चावल से, पूजा की जाती है.

  4. दीवार पर एक पेपर लगा कर, कुवारी कन्या आठ-आठ और विवाहिता सोलह-सोलह टिक्की क्रमशः कुमकुम, हल्दी, मेहन्दी, काजल की लगाती है.

  5. उसके बाद गणगौर के गीत गाये जाते है, और पानी का कलश साथ रख, हाथ मे दुब लेकर, जोड़े से सोलह बार, गणगौर के गीत के साथ पूजन करती है.

  6. तदुपरान्त गणगौर, कहानी गणेश जी की, कहानी कहती है. उसके बाद पाटे के गीत गाकर, उसे प्रणाम कर भगवान सूर्यनारायण को, जल चड़ा कर अर्क देती है.

  7. ऐसी पूजन वैसे तो, पूरे सोलह दिन करते है परन्तु, शुरू के सात दिन ऐसे, पूजन के बाद सातवे दिन सीतला सप्तमी के दिन सायंकाल मे, गाजे-बाजे के साथ गणगौर भगवान व दो मिट्टी के, कुंडे कुमार के यहा से लाते है.

  8. अष्टमी से गणगौर की तीज तक, हर सुबह बिजोरा जो की फूलो का बनता है. उसकी और जो दो कुंडे है उसमे, गेहू डालकर ज्वारे बोये जाते है. गणगौर की जिसमे ईसर जी (भगवान शिव) – गणगौर माता (पार्वती माता) के , मालन, माली ऐसे दो जोड़े और एक विमलदास जी ऐसी कुल पांच प्रतिमाए होती है. इन सभी का पूजन होता है , प्रतिदिन, और गणगौर की तीज को उद्यापन होता है और सभी चीज़ विसर्जित होती है.

गणगौर माता की कथा / कहानी (Gangaur Katha)

राजा का बोया जो-चना, माली ने बोई दुब. राजा का जो-चना बढ़ता जाये पर, माली की दुब घटती जाये. एक दिन, माली हरी-हरी घास मे, कंबल ओढ़ के छुप गया. छोरिया आई दुब लेने, दुब तोड़ कर ले जाने लगी तो, उनका हार खोसे उनका डोर खोसे. छोरिया बोली, क्यों म्हारा हार खोसे, क्यों म्हारा डोर खोसे , सोलह दिन गणगौर के पूरे हो जायेंगे तो, हम पुजापा दे जायेंगे. सोलह दिन पूरे हुए तो, छोरिया आई पुजापा देने माँ से बोली, तेरा बेटा कहा गया. माँ बोली वो तो गाय चराने गयों है, छोरियों ने कहा ये, पुजापा कहा रखे तो माँ ने कहा, ओबरी गली मे रख दो. बेटो आयो गाय चरा कर, और माँ से बोल्यो माँ छोरिया आई थी , माँ बोली आई थी, पुजापा लाई थी हा बेटा लाई थी, कहा रखा ओबरी मे. ओबरी ने एक लात मारी, दो लात मारी ओबरी नही खुली , बेटे ने माँ को आवाज लगाई और बोल्यो कि, माँ-माँ ओबरी तो नही खुले तो, पराई जाई कैसे ढाबेगा. माँ पराई जाई तो ढाब लूँगा, पर ओबरी नी खुले. माँ आई आख मे से काजल, निकाला मांग मे से सिंदुर निकाला , चिटी आंगली मे से मेहन्दी निकाली , और छीटो दियो ,ओबरी खुल

गई. उसमे, ईश्वर गणगौर बैठे है ,सारी चीजों से भण्डार भरिया पड़िया है. है गणगौर माता , जैसे माली के बेटे को टूटी वैसे, सबको टूटना. कहता ने , सुनता ने , सारे परिवार ने.

दीपावली के दूसरे दिन गोवर्धन की पूजा के साथ ही साथ राक्षसों के राजा बलिप्रतिप्रदा की भी पूजा की जाती हैं.

गणगौर पूजते समय का गीत (Gangaur Geet)

यह गीत शुरू मे एक बार बोला जाता है और गणगौर पूजना प्रारम्भ किया जाता है –

प्रारंभ का गीत –

गोर रे, गणगौर माता खोल ये , किवाड़ी

बाहर उबी थारी पूजन वाली,

पूजो ये, पुजारन माता कायर मांगू

अन्न मांगू धन मांगू , लाज मांगू लक्ष्मी मांगू

राई सी भोजाई मंगू.

कान कुवर सो, बीरो मांगू इतनो परिवार मांगू..

उसके बाद सोलह बार गणगौर के गीत से गणगौर पूजी जाती है.

सोलह बार पूजन का गीत –

गौर-गौर गणपति ईसर पूजे, पार्वती

पार्वती का आला टीला, गोर का सोना का टीला.

टीला दे, टमका दे, राजा रानी बरत करे.

करता करता, आस आयो मास

आयो, खेरे खांडे लाडू लायो,

लाडू ले बीरा ने दियो, बीरों ले गटकायों.

साडी मे सिंगोड़ा, बाड़ी मे बिजोरा,

सान मान सोला, ईसर गोरजा.

दोनों को जोड़ा ,रानी पूजे राज मे,

दोनों का सुहाग मे.

रानी को राज घटतो जाय, म्हारों सुहाग बढ़तों जाय

किडी किडी किडो दे,

किडी थारी जात दे,

जात पड़ी गुजरात दे,

गुजरात थारो पानी आयो,

दे दे खंबा पानी आयो,

आखा फूल कमल की डाली,

मालीजी दुब दो, दुब की डाल दो

डाल की किरण, दो किरण मन्जे

एक,दो,तीन,चार,पांच,छ:,सात,आठ,नौ,दस,ग्यारह,बारह,

तेरह, चौदह,पंद्रह,सोलह.

सोलह बार पूरी गणगौर पूजने के बाद पाटे के गीत गाते है

पाटा धोने का गीत –

पाटो धोय पाटो धोय, बीरा की बहन पाटो धो,

पाटो ऊपर पीलो पान, म्हे जास्या बीरा की जान.

जान जास्या, पान जास्या, बीरा ने परवान जास्या

अली गली मे, साप जाये, भाभी तेरो बाप जाये.

अली गली गाय जाये, भाभी तेरी माय जाये.

दूध मे डोरों , म्हारों भाई गोरो

खाट पे खाजा , म्हारों भाई राजा

थाली मे जीरा म्हारों भाई हीरा

थाली मे है, पताशा बीरा करे तमाशा

ओखली मे धानी छोरिया की सासु कानी..

ओडो खोडो का गीत –

ओडो छे खोडो छे घुघराए , रानियारे माथे मोर.

ईसरदास जी, गोरा छे घुघराए रानियारे माथे मोर..

(इसी तरह अपने घर वालो के नाम लेना है )

कार्तिक माक की शुक्ल पक्ष की अष्टमी के दिन गाय की पूजा की जाती हैं जिसे गोपाष्टमी कहा जाता है.

gangaur-festival-pooja-vidhi-mahatv-katha-geet-hindi
Gangaur Festival in Hindi

गणपति जी की कहानी (Ganesh Kahani)

पौराणिक कथाओं में उल्लेख मिलता है कि,  एक मेढ़क था, और एक मेंढकी थी. दोनों जनसरोवर (तालाब) की पाल (किनारे) पर रहते थे. मेंढक दिन भर टर्र टर्र करता रहता था. इसलिए मेंढकी को, गुस्सा आता और मेंढक से बोलती, दिन भर टू टर्र टर्र क्यों करता है. जे विनायक, जे विनायक करा कर. एक दिन राजा की दासी आई, और दोनों जना को बर्तन मे, डालकर ले

गई और, चूल्हे पर चढ़ा दिया. अब दोनों खदबद खदबद सीजने लगे, तब मेंढक बोला मेढ़की, अब हम मार जायेंगे. मेंढकी गुस्से मे, बोली की मरया मे तो पहले ही थाने बोली कि ,दिन भर टर्र टर्र करना छोड़

दे. मेढको बोल्यो अपना उपर संकट आयो, अब तेरे विनायक जी को, सुमर नही किया तो, अपन दोनों मर जायेंगे. मेढकी ने जैसे ही सटक विनायक ,सटक विनायक का सुमिरन किया इतना मे, डंडो टूटयों हांड़ी फुट गई. मेढक व मेढकी को, संकट टूटयों दोनों जन ख़ुशी ख़ुशी सरोवर की, पाल पर चले गये. हे विनायकजी महाराज, जैसे मेढ़क मेढ़की का संकट मिटा वैसे सबका संकट मिटे. अधूरी हो तो, पूरी कर जो,पूरी हो तो मान राखजो.

गणगौर अरग के गीत

पूजन के बाद, सुरजनारायण भगवान को जल चड़ा कर गीत गाया जाता है.

अरग का गीत –

अलखल-अलखल नदिया बहे छे

यो पानी कहा जायेगो

आधा ईसर न्हायेगो

सात की सुई पचास का धागा

सीदे रे दरजी का बेटा

ईसरजी का बागा

सिमता सिमता दस दिन लग्या

ईसरजी थे घरा पधारों गोरा जायो,

बेटो अरदा तानु परदा

हरिया गोबर की गोली देसु

मोतिया चौक पुरासू

एक,दो,तीन,चार,पांच,छ:,सात,आठ,नौ,दस,ग्यारह,बारह,

तेरह, चौदह,पंद्रह,सोलह.

ज्येष्ठ माह की एकादशी के दिन पांडू पुत्र भीम ने रखा था निर्जला उपवास, इसलिए इसे भीमसेन एकादशी कहा जाता है.

गणगौर को पानी पिलाने का गीत

सप्तमी से, गणगौर आने के बाद रोजाना तीज तक (अमावस्या के दिन को छोड़कर) शाम मे, गणगौर घुमाने ले जाते है. पानी पिलाते और गीत गाते हुए, मुहावरे व दोहे सुनाते है.

पानी पिलाने का गीत –

म्हारी गोर तिसाई ओ राज घाटारी मुकुट करो

बिरमादासजी राइसरदास ओ राज घाटारी मुकुट करो

म्हारी गोर तिसाई ओर राज

बिरमादासजी रा कानीरामजी ओ राज घाटारी

मुकुट करो म्हारी गोर तिसाई ओ राज

म्हारी गोर ने ठंडो सो पानी तो प्यावो ओ राज घाटारी मुकुट करो..

(इसमें परिवार के पुरुषो के नाम क्रमशः लेते जायेंगे. )

गणगौर उद्यापन की विधि (Gangaur Udhyapan Vidhi)

सोलह दिन की गणगौर के बाद, अंतिम दिन जो विवाहिता की गणगौर पूजी जाती है उसका उद्यापन किया जाता है.

विधि –

  • अंतिम दिन गुने (फल)सीरा, पूड़ी, गेहूं गणगौर को चढ़ाए जाते है.
  • आठ गुने चढ़ाने के बाद चार वापस लिये जाते है.
  • गणगौर वाले दिन कवारी लड़किया और ब्यावली लड़किया दो बार गणगौर का पूजन करती है एक तो प्रतिदिन वाली और दूसरी बार मे अपने-अपने घर की परम्परा के अनुसार चढ़ावा चढ़ा कर पुनः पूजन किया जाता है उस दिन ऐसे दो बार पूजन होता है.
  • दूसरी बार के पूजन से पहले ब्यावाली स्त्रिया चोलिया रखती है ,जिसमे पपड़ी या गुने(फल) रखे जाते है. उसमे सोलह फल खुद के,सोलह फल भाई के,सोलह जवाई की और सोलह फल सास के रहते है.
  • चोले के उपर साड़ी व सुहाग का समान रखे. पूजा करने के बाद चोले पर हाथ फिराते है.
  • शाम मे सूरज ढलने से पूर्व गाजे-बाजे से गणगौर को विसर्जित करने जाते है और जितना चढ़ावा आता है उसे कथानुसार माली को दे दिया जाता है.
  • गणगौर विसर्जित करने के बाद घर आकर पांच बधावे के गीत गाते है.

भाद्रपद माह की कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि को भगवान गणेश की पूजा की जाती हैं.

विशेष – गणगौर के बहुत से, लोक गीत और दोहे जनसामान्य में प्रचलित है. हर जगह अपनी प्राचीन परम्परानुसार, पूजन और गीत जाए जाते है. जो प्रचलित है उसे, हम अपने लेख में डाल रहे है. निमाड़ी गणगौर सिर्फ तीन दिन ही पूजी जाती है. जबकि राजस्थान मे, मारवाड़ी गणगौर प्रचलित है जो, झाकियों के साथ निकलती है.

FAQ’s

Q : गणगौर तीज कब है ?

Ans : गणगौर तीज सन 2020 में 29 मार्च को थी और अगले साल सन 2021 में यह 15 अप्रैल को है.

Q : गणगौर का क्या महत्व है ?

Ans : गणगौर के दिन भगवान शिव एवं पार्वती की पूजा की जाती हैं. यह पूजा कुंवारी एवं विवाहित दोनों ही स्त्रियाँ करती हैं. कुंवारी लड़कियाँ अच्छे वर की कामना से एवं विवाहित स्त्रियाँ अपने पति की लंबी उम्र के लिए यह यह व्रत करती हैं.

Q : गणगौर कैसे मनाई जाती है ?

Ans : गणगौर के दिन सभी स्त्रियाँ सोलह सिंगार करके भगवान शिव एवं माता पार्वती की पूजा करती हैं.

Q : गणगौर का व्रत क्यों किया जाता है ?

Ans : गणगौर का व्रत भगवान शिव एवं माता पार्वती का पर्व होता हैं. यह इसलिए किया जाता हैं ताकि भगवान शिव कुंवारी लड़कियाँ को अच्छा वर प्रदान करें एवं विवाहित स्त्रियाँ के पति की लंबी उम्र हो.

Q : गणगौर की पूजा में क्या क्या सामग्री चाहिए ?

Ans : गणगौर की पूजा में पटा, कलश, काली मिट्टी, मिट्टी के गमले, दीपक, रोरी, हल्दी, चावल, घी, फूल, आम के पत्ते, दूबा, पान के पत्ते, नारियल, सुपाड़ी, वस्त्र, गेहूं बांस की टोकनी एवं चुनरी आदि सामग्री की आवश्यकता होती हैं.

इसे भी पढ़े :

लेटेस्ट नागदा न्यूज़, के लिए न्यूज मग एंड्रॉयड ऐप डाउनलोड करें और हमें गूगल समाचार पर फॉलो करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here