दिवाली 2021 कब है | Diwali 2021 Mein Kab Ki Hai | 2021 Me Diwali Kab Ki hai

0
660
diwali-2021-mein-kab-ki-hai
Diwali 2021 Kab Ki hai | 2021 me Diwali kab ki hai | दिवाली 2021 कब है | Diwali 2021 date in India calendar | Diwali 2021 kab hai | Diwali date 2021

Diwali 2021- दिवाली हिन्दू धर्म को मानने वालों के प्रमुख और सबसे बड़ा पर्व है, जो अन्य त्योहारों के साथ 5 दिनों तक मनाया जाता है. दीपोत्सव पर्व धनतेरस से शुरू होकर भाई दूज पर जाकर समाप्त होता है. दीपावली (Deepawali 2021) और इसके साथ के त्यौहार पुरे भारत वर्ष में अक्टूबर या फिर नवंबर के माह में मनाई जाती है.

diwali-2021-mein-kab-ki-hai

यह त्यौहार भारत के साथ साथ नेपाल में भी बड़े उत्साह के साथ मनाया जाता है. दिवाली (Diwali) के साथ-साथ अन्य त्यौहार भी मनाये जाते है जो धनतेरस से लेकर भाईदूज तक चलते है. चलिए अब इस पोस्ट में हम  जानते है की दिवाली 2021 कब है (Diwali 2021 Mein Kab Ki Hai – 2021 Me Diwali Kab Ki hai) और इस दिन लक्ष्मी पूजन का शुभ मुहूर्त (Diwali Lakshmi Pujan 2021 Time) क्या है. 

दिवाली 2021 में कब है- Diwali 2021 Mein Kab Ki Hai

2021 Mein Diwali Kab ki hai- रोशन के पर्व दिवाली (Diwali) की बात करें तो प्रतिवर्ष कार्तिक मास में अमावस्या के दिन प्रदोष काल होने पर दीपावली के पूजन किए जाने की पौराणिक परंपरा है. साल 2021 में दिवाली 4 नवंबर की है, जिस दिन गुरुवार है।

दिवाली शुभ मुहूर्त 2021- Diwali Lakshmi Pujan Shubh Muhurat 2021

Diwali 2021 Shubh Muhurat- माता लक्ष्मी की कृपा पाने के लिए इस दिन को बहुत ही शुभ माना जाता है, कुछ घरों में माँ लक्ष्मी का व्रत भी दिवाली के दिन किया जाता है, जिससे घर में सुख समृद्धि और धन बढ़ता है.दिवाली के दिन उपवास रखने के उपरांत सूर्यास्त के पश्चात प्रदोष काल में माँ लक्ष्मी की पूजा करनी चाहिए. इस बार दिवाली का शुभ मुहूर्त कुछ इस प्रकार है-
👉 लक्ष्मी पूजा का शुभ मुहूर्त- शाम को 6 बजकर 10 मिनट से 8 बजकर 6 मिनट तक
👉 पूजन की अवधि- 1 घंटे 55 मिनट
👉 प्रदोष कल- 17:34 से 20:10 तक
👉 वृषभ काल- 18:10 से 20:06 तक

लक्ष्मी पूजन में माँ लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए गाय का घी, मूंगफली या फिर काले तिल के तेल का इस्तेमाल करें.  माता को भोग लगाने के लिए फल में सीताफल, श्रीफल,बेर, अनार व सिंगाड़े का प्रसाद चढ़ाना चाहिए.पूजन में जलाये हुए दीपक के काजल को अपनी आँखों में जरूर लगाए.

दिवाली कब मनाई जाती है- Diwali kab manai jati hai

👉 कार्तिक मास में प्रदोष अमावस्या के दिन प्रदोष काल होने पर दिवाली को मनाया जाता है और यदि दो दिन तक अमावस्या तिथि प्रदोष काल का स्पर्श नहीं करे तो दूसरे दिन दिवाली मनाने का विधान है. भारत में दिवाली इसी मत के अनुसार मनाई जाती है.
👉 वही एक मत ऐसा भी है जिसके अनुसार, अगर दो दिन तक अमावस्या तिथि प्रदोष कल में नहीं आती है तो दिवाली को पहले दिन मनाया जाता है.
यह भी पढ़े-

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here