दीपावली 2020 में कब है ?। Diwali 2020 Date

0
133
diwali-2020-date

Diwali 2020 Date In India / When Is Diwali Kab Hai 2020: सनातन धर्म में कार्तिक मास की अमावस्या को दीपावली पूजन (महालक्ष्मी पूजा) किए जाने का विधान है. दिपावली से पूर्व करवा चौथ, गौत्सव, धनतेरस, नरक चतुर्दशी, छोटी दिपावली और फिर दिपावली का पर्व मनाया जाता है. दिपावली के एक दिन बाद गोवर्धन पूजा, अन्नकूट महोत्सव, भाई दूज और विश्वकर्मा पूजन किया जाता है.

सनातन धर्म में सबसे बड़ा और महत्वपूर्व पर्व दिपावली का है. यह पर्व पूरी दुनिया में पांच दिनों तक मनाई जाती है. दोस्तों चलिए लेख के माध्यम से हम जानते हैं, दिवाली की तारीख कब है?  (Diwali 2020 Tithi ) दिवाली 2020 गोवत्स द्वादशी त्योहार धनतरेस के एक दिन पहले मनाते हैं.

गोवत्स द्वावदशी के दिन गाेवंशों का पूजन किया जाता है.गोवंशों को आटे का बना प्रसाद बनाकर खिलाया जाता है. गोवत्स द्वादशी को नंदिनी व्रत के नाम से जाना जाता है. गोवत्व द्वादशी 12 नवंबर 2020 को है.

इसे भी पढ़े : देवउठनी ग्यारस 2020 : महत्व, पूजा विधि और कथा | Dev Uthani Gyaras Mahatva, Puja Vidhi and Story in Hindi

इस साल धनतेरस 13 नवंबर 2020 को मनाया जाएगा. इस दिन शुभ मुहूर्त- 6 बजकर 1 मिनट से शुरु और 8 बजकर 33 मिनट पर खत्म धनतेरस त्रयोदशी शुभ मुहूर्त- 12 नवंबर 2020 को 9 बजकर 30 मिनट और 13 नवंबर 2020 को 5 बजकर 55 मिनट तक नरक चतुर्दशी-छोटी दिवाली तारीख छोटी दिवाली को नरक चतुर्दशी भी कहा जाता हैं. नरक चतुर्दशी के दिन देवी लक्ष्मी का पूजन किया जाता है. नरक चतुर्दशी का त्योहार 13 नवंबर 2020 को पूरे भारतवर्ष में उत्साह के साथ मनाया जाएगा।

दिपावली का महत्व (Importance Of Diwali Festival)

धार्मिक ग्रंथों में उल्लेख है कि, त्रेतायुग में जब भगवान श्री राम रावण का वध करके अयोध्या लौट रहे थे. तो अयोध्यावासियों ने श्रीराम का दीप जलाकर स्वागत किया था. श्री राम के स्वागत को हर साल लोग दिपावली पर्व के रुप में मनाते हैं. इस दिन भगवान गणेश और माता लक्ष्मी की पूजन का  विधान है. दीपोत्सव के पूर्व लोग घरों की सफाई करते हैं.पर्व के दिन लोग द्वार पर रंगोली बनाकर और पूरे घर को दीपों से सजाकर मां लक्ष्मी के आगमन के लिए उनका अनुरोध पूर्वक पूजन करते हैं. भगवान गणेश और माता लक्ष्मी की पूजन के बाद खील और बतासे का प्रसाद बांटकर एक दूसरे को दिपोत्सव की शुभकामना देते हैं. इस दिन लोग अपने गहनों,पैसों और बहीखातों का भी पूजन करते हैं. पौराणिक मान्यताओं के अनुसार ऐसा करने से मां लक्ष्मी का घर में वास होता है.

दीपावाली 2020 का शुभ मुहूर्त

  • बड़ी दिवाली नरक चतुर्दशी : शुभ मुहूर्त- 13 नवंबर 2020 को शाम 5 बजकर 59 से और समाप्ति 14 नवंबर 2020 2 बजकर 17 मिनट तक
  • गोवर्धन पूजा का शुभ मुहर्त- 15 नवंबर 2020 को शाम 3 बजकर 45 मिनट से शुरू और शाम 6 बजे समाप्त
  • भाई दूज का शुभ मुहूर्त- 16 नवंबर 2020 को दोपहर 1 बजकर 31 मिनट से शुरू और 3 बजकर 45 मिनट पर समाप्त

diwali-2020-date